काशी के कोतवाल की चौखट पर अब 'कोरोना नाशक' तेल से होगा भक्तों का उतारा
Varanasi News in Hindi

काशी के कोतवाल की चौखट पर अब 'कोरोना नाशक' तेल से होगा भक्तों का उतारा
काशी के कोतवाल की चौखट पर 'कोरोना नाशक' तेल

दरअसल 8 जून से मास्क (Mask), सोशल डिस्टेसिंग और सेनिटाइजिंग की शर्त पर काशी (kashi) के कोतवाल बाबा काल भैरव का दरबार भी भक्तों के लिए खुल जाएगा. एक बार फिर भक्तों को यहां बाबा के दर्शन मिलेंगे.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
वाराणसी. पूरी दुनिया कोरोना (coroanvirus) के खात्मे की दवाई खोजने में जुटा है. हर दिन एक नया शोध सामने आ रहा है. इलाज की सारी पद्धति अपने अपने तरीके से नए नए उपाय सुझाव के तौर पर पेश कर रही हैं. लेकिन विज्ञान से परे धर्म भी विश्वास की डोर से बंधकर अब भी मजबूती से खड़ा हुआ है. शायद इसलिए वाराणसी (varanasi) के विश्व प्रसिद्ध काशी के कोतवाल बाबा काल भैरव के दरबार के बाहर कोरोना नाशक तेल से एंट्री कर ली है. क्या कोरोना नाशक तेल से भागेगा कोरोना. दरअसल 8 जून से मास्क, सोशल डिस्टेसिंग और सेनिटाइजिंग की शर्त पर काशी के कोतवाल बाबा काल भैरव का दरबार भी भक्तों के लिए खुल जाएगा. एक बार फिर भक्तों को यहां बाबा के दर्शन मिलेंगे. यूं तो इस मंदिर की कई मान्यताएं हैं.

पूरी काशी का न्याय इन्हीं के दरबार में होता है. खुद पुलिस की कोतवाली में कोतवाल की कुर्सी पर बाबा ही विराजते हैं. जो अफसर या नेता, काशी आता है वो सबसे पहले यहां मत्था टेककर और हाथ में काला कलावा बांधकर ही अपनी कुर्सी पर बैठता है. यहां पूजा की एक मान्यता ये भी है कि इस दरबार में पहुंचने वाले भक्त अगर अपने सिर से सरसों के तेल का सात बार उताराकर बाबा के खप्पर पर चढ़ाते हैं तो उनकी सारी बीमारी, व्याधि बाबा हर लेते हैं. आस्था और विश्वास की इसी डोर ने कोरोना काल में नया रंग दिखाया है. यहां पहुंचने वाले कुछ भक्तों का विश्वास है कि अगर तेल को बाबा के दरबार में सात बार उतारकर अर्पित किया जाएगा तो कोरोना जैसी बीमारी से बाबा रक्षा करेंगे.

कुछ भक्तों ने जब ये किया तो बाकी भक्त भी करने लगे. धीरे-धीरे कोरोना नाशक तेल के नाम से ही ये बिकने लगा. आचार्य पंडित राजन त्रिवेदी कहते हैं कि जब 8 जून से मंदिर खुलेगा तो उनकी ओर से भक्तों को कोरोना नाशक तेल दिया जाएगा. इस मान्यता के बारे में जब काल भैरव मंदिर परिषद से जुड़े महंत से बात की तो उन्होंने महिमा सुनाई.



मंदिर परिषद के महंत सुमित उपाध्याय ने बताया कि यहां जो भी भक्त अपने सिर और शरीर से सात बार तेल का उतारा करके बाबा के खप्पर पर चढ़ाता है तो उसका उसी क्षण सारी बीमारी, व्याधि बाबा खत्म कर देते हैं. सुमित बताते हैं कि खुद प्रधानमंत्री जब यहां आए थे तो महंत परिवार के हम सभी लोगों ने सात बार तेल से उनकी नजर का उताराकरके बाबा को चढ़ाया था. सुमित ने बताया कि तेल बाबा को नहीं उनके खप्पर पर चढ़ता है.



ये भी पढ़ें:

मुरादाबाद: दबंगों ने ईंट-पत्थरों से की दलित पिता-पुत्र की हत्या, बेटी ने भागकर बचाई जान

 
First published: June 6, 2020, 12:39 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading