Home /News /uttar-pradesh /

Explainer Varanasi:-फरवरी में बनारस आ सकती हैं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी,जनिए क्या है सियासी रणनीति

Explainer Varanasi:-फरवरी में बनारस आ सकती हैं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी,जनिए क्या है सियासी रणनीति

X

उत्तर प्रदेश चुनाव का सियासी पारा हाई करने के लिए पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) जल्द ही बनारस (Banaras) आ सकती है.फरवरी के दूसरे सप?

    वाराणसी:-उत्तर प्रदेश चुनाव का सियासी पारा हाई करने के लिए पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) जल्द ही बनारस (Banaras) आ सकती है.फरवरी के दूसरे सप्ताह में ममता बनर्जी पीएम मोदी (PM Modi) के गढ़ से चुनावी शंखनाद करेंगी.हालांकि वाराणसी (Varanasi) दौरे से पहले 8 फरवरी को ममता बनर्जी वर्चुअल माध्यम से लखनऊ में कार्यकर्ताओं से संवाद करेंगी.उसके एक सप्ताह बाद वो काशी (Kashi) आएंगी.

    विधानसभा चुनाव (Vidhansabha Chunav) में ममता बनर्जी के इस संभावित काशी दौरे को लेकर ये कयास भी लगाए जा रहे हैं कि इस विधानसभा चुनाव में ममता की पार्टी वाराणसी के दक्षिणी विधानसभा सीट पर चुनाव लड़ेगी.कांग्रेस से टीएमसी (TMC) में आए ललितेशपति त्रिपाठी को ममता यहां से उम्मीदवार बना सकती हैं.सूत्रों की माने तो समाजवादी पार्टी भी उन्हें यहां समर्थन करेगी. ब्राह्मण चेहरा होने के साथ ही जब टीएमसी को यहां सपा का साथ मिलेगा तो इस सीट पर लड़ाई दिलचस्प होगी.बताते चलें कि मौजूदा समय में योगी सरकार में धर्मार्थ मंत्री नीलकंठ तिवारी यहां से विधायक हैं.

    पूर्व मुख्यमंत्री कमलापति त्रिपाठी के प्रपौत्र है ललितेश
    ललितेशपति त्रिपाठी यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री कमलापति त्रिपाठी के प्रपौत्र हैं.बीते कुछ महीने पहले उन्होंने कांग्रेस से इस्तीफा देकर टीएमसी ज्वाइन की थी.पार्टी ज्वाइन करने के साथ ही ममता ने उन्हें यूपी की कमान सौंप दी और अब ललितेशपति को लेकर ये कयास लगाया जा रहा है कि वो वाराणसी के दक्षिणी विधानसभा सीट से चुनाव भी लड़ सकते हैं.
    रिपोर्ट-अभिषेक जायसवाल-वाराणसी

    Tags: UP Chunav 2022, UP Election 2022, Varanasi news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर