बिजली विभाग का कारनामा, 25 साल पहले मृत व्यक्ति के खिलाफ बिजली चोरी का केस

पीड़ित के परिजनों की शिकायत का बिजली विभाग में समाधान न होने पर दिवंगत के परिजन और स्थानीय लोग मृतक को न्याय दिलाने के लिए अनशन पर बैठ गए हैं

  • Share this:
यूपी के भदोही जिले में बिजली विभाग के अधिकारियों ने 25 साल पहले मर चुके एक व्यक्ति के खिलाफ बिजली चोरी का मुकदमा दर्ज कराया है. खास बात यह है कि 2014 से मृतक की पत्नी के नाम से बिजली कनेक्शन है, मीटर भी लगा है, सभी बिल भी जमा है.



पीड़ित के परिजनों की शिकायत का विभाग में समाधान न होने पर दिवंगत के परिजन और स्थानीय लोग मृतक को न्याय दिलाने के लिए अनशन पर बैठ गए हैं. बिजली चोरी को रोकने के लिए विद्युत विभाग अभियान चला रहा है लेकिन इस अभियान में विभाग बड़े पैमाने पर लापरवाही बरत रहा है.



लापरवाह अफसर बिना जांच किए ऐसे उपभोक्ताओं पर मुकदमा दर्ज करा रहे हैं जो नियमो का पूरा पालन कर रहे हैं और तो और ऐसे लोगों पर भी केस दर्ज हो रहे हैं जिनकी मौत 25 साल पहले ही हो चुकी है. मामला गोपीगंज इलाके के पूरे भगवत का है.





22 मई को चेकिंग के दौरान विभाग के अधिकारियों ने 25 साल पहले दिवंगत हो चुके शिव नारायण तिवारी पर भी बिजली चोरी का केस गोपीगंज कोतवाली में दर्ज करा दिया जबकि मृतक की पत्नी रमा वंती देवी के नाम से बिजली का कनेक्शन है. 22 मई को मुकदमा दर्ज हुआ और पीड़ित के द्वारा 14 मई को अपने बकाया बिल का भुगतान किया गया है.
घर पर अकेली बुजुर्ग रमा वंती देवी रहती हैं, उनके बेटे मुंबई में नौकरी करते हैं. विभागीय लापरवाही के विरोध में और अपने दिवंगत पिता को न्याय दिलाने के लिए मृतक का बेटा और कुछ स्थानीय लोग क्रमिक अनशन पर बैठ गए हैं.



वही इस मामले पर जब जिले के अधिकारियों से बात की गई तो अधिशासी अभियंता ज्ञानपुर ने जांच की बात कही. विभाग के गोपीगंज के एसडीओ से पूछा गया तो उन्होंने दिवंगत के खिलाफ केस दर्ज होने को अपनी कमी माना लेकिन अब विभाग के अधिकारी अपनी लापरवाही छिपाने के लिए दिवंगत की पत्नी पर बिजली चोरी का केस दर्ज कराने की तैयारी में है.



अब बिजली विभाग अपनी नाकामी को दबाने के लिए कह रहा है कि बुजुर्ग महिला ने खंभे से बिजली का एक अवैध तार खींचा था. विभागीय सूत्र बताते हैं कि अपनी लापरवाही को दबाने के लिए विभाग इस तरह के कदम उठा रहा है जबकि दिवंगत के घर में वैध कनेक्शन से बिजली जल रही थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज