होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

ज्ञानवापी मसले पर सुनवाई से पहले बड़ी खबर, हिंदू पक्ष ने ट्रस्ट बनाने का किया ऐलान; जानें रोल

ज्ञानवापी मसले पर सुनवाई से पहले बड़ी खबर, हिंदू पक्ष ने ट्रस्ट बनाने का किया ऐलान; जानें रोल

ज्ञानवापी मसले पर सुनवाई से पहले हिंदू पक्ष ने ट्रस्ट बनाने का ऐलान किया है. (फाइल फोटो)

ज्ञानवापी मसले पर सुनवाई से पहले हिंदू पक्ष ने ट्रस्ट बनाने का ऐलान किया है. (फाइल फोटो)

ज्ञानवापी मसले पर हिंदू पक्ष ने ट्रस्ट बनाने का ऐलान किया है. ट्रस्ट का नाम श्री आदि महादेव काशी धर्मालय मुक्ति न्यास रखा गया है, जिसका आज उद्घाटन होगा. इस ट्रस्ट पर कोर्ट में जारी मामले को देखने की जिम्मेदारी होगी.

वाराणसी: उत्तर प्रदेश के काशी विश्वनाथ मंदिर परिसर में स्थित ज्ञानवापी मस्जिद प्रकरण में मंगलवार को होने वाली कोर्ट की सुनवाई से पहले बड़ी खबर सामने आई है. ज्ञानवापी मसले पर हिंदू पक्ष ने ट्रस्ट बनाने का ऐलान किया है. ट्रस्ट का नाम श्री आदि महादेव काशी धर्मालय मुक्ति न्यास रखा गया है, जिसका आज उद्घाटन होगा. इस ट्रस्ट पर कोर्ट में जारी मामले को देखने की जिम्मेदारी होगी.

बताया जा रहा है कि आज शाम 5 बजे मलदहिया स्थित एक निजी रेस्टोरेंट में चारों वादी महिलाओं समेत हिंदू पक्ष के सभी वकीलों की मौजूदगी में इस ट्रस्ट का उद्घाटन किया जाएगा. सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील हरिशंकर जैन व उनके बेटे विष्णु शंकर जैन एवं हाईकोर्ट की वकील रंजना अग्निहोत्री समेत कई अन्य लोग इस मौके पर मौजूद रहेंगे.

सूत्रों की मानें तो यह एक छोटा सा उद्घाटन समारोह है, जिसमें 5 अतिथि, 11 ट्रस्टी, 21 सम्मानित ट्रस्टी और 4 वादी महिलायें शामिल होंगी. बताया जा रहा है कि ट्रस्ट में इतने ही लोग रहेंगे. इस ट्रस्ट का काम अदालत में चल रहे केस को देखना होगा. इतना ही नहीं, यह ट्रस्ट खर्च से लेकर अन्य सभी जिम्मेदारियों को निभाएगा.

बता दें कि काशी विश्वनाथ मंदिर परिसर में स्थित ज्ञानवापी श्रृंगार गौरी प्रकरण में मंगलवार को कोर्ट में फिर सुनवाई होगी. अभी केस की मेरिट पर चल सुनवाई चल रही है. मुस्लिम पक्ष अपनी दलीलें पेश कर रहा है. इसके बाद हिंदू पक्ष कोर्ट के सामने अपना दावा पेश करेगा. बता दें कि बीते दिनों ज्ञानवापी मस्जिद में हिंदू पक्ष ने कथित तौर पर शिवलिंग मिलने का दावा किया था, जबकि मुस्लिम पक्ष ने इसे फव्वारा बताया था.

Tags: Gyanvapi Masjid, Uttar pradesh news, Varanasi news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर