Home /News /uttar-pradesh /

अपराध कर दूसरे राज्य में शरण लेने वाले नक्सलियों की अब खैर नहीं

अपराध कर दूसरे राज्य में शरण लेने वाले नक्सलियों की अब खैर नहीं

सोनभद्र में सोमवार को नक्सलवाद को लेकर पांच राज्यों के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की उच्च स्तरीय बैठक हुई.

सोनभद्र में सोमवार को नक्सलवाद को लेकर पांच राज्यों के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की उच्च स्तरीय बैठक हुई.

सोनभद्र में सोमवार को नक्सलवाद को लेकर पांच राज्यों के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की उच्च स्तरीय बैठक हुई.

सोनभद्र में सोमवार को नक्सलवाद को लेकर पांच राज्यों के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की उच्च स्तरीय बैठक हुई. बैठक में यूपी समेत एमपी, छतीसगढ़, यूपी, बिहार औऱ झारखंड जैसे राज्यों के पुलिस अधिकारी मौजूद रहे.

बैठक में मौजूद वाराणसी जोन के आईजी एसके भगत ने बताया कि इस बैठक का उद्देश्य नक्सल फ्रंट पर इन सीमावर्ती राज्यों के सुरक्षा बलों के बीच समन्वय स्थापित करना और सूचनाओं के आदान-प्रदान में गति लाना था. उन्होंने बताया कि ऐसा देखा जाता है कि नक्सली किसी क्षेत्र में अपराध करने के बाद पड़ोसी राज्य की सीमा में जाकर आश्रय ले लेते हैं. अब हम तालमेल के जरिये दूसरे राज्यों में छुपे नक्सलियों को पकड़ने में कामयाब होंगे.

बैठक सोनभद्र पुलिस लाइन में हुई. वाराणसी के आईजी के मुताबिक विन्ध्य क्षेत्र और कैमूर पहाड़ी के इलाके मुख्य तौर पर नक्सल प्रभावित हैं. इनकी सीमा बिहार के अलावा झारखंड और छतीसगढ़ से मिलती है. यूपी के ऐसे इलाके भी नक्सल प्रभावित हैं. बहुत पहले से ऐसा महसूस किया जाता रहा है कि इन सीमावर्ती जिलों में तैनात पुलिस अधिकारियों का आपस में सहयोग और समन्वय बेहद जरुरी है. पहले भी इस तरह की बैठकें होती रही हैं, लेकिन आज की बैठक में कई मुद्दों पर ठोस रणनीति बनी. इस बात पर सहमती बनी कि अब अगर कोई नक्सली दस्ता अपराध के बाद किसी दूसरे की सीमा में जाकर पनाह लेने की कोशिश करेगा तो उसकी खैर नहीं है.

Tags: वाराणसी

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर