लाइव टीवी

BHU में फिरोज खान की नियुक्ति के बाद रामायण-महाभारत का अध्याय हटाने पर विवाद

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 19, 2019, 9:02 PM IST
BHU में फिरोज खान की नियुक्ति के बाद रामायण-महाभारत का अध्याय हटाने पर विवाद
बीएचयू के इतिहास विभाग से हटाया गया रामायण और महभारत का अध्याय

रामायण और महाभारत अध्याय को हटाए जाने से छात्रों (Students) में आक्रोश देखने को मिल रहा है.

  • Share this:
वाराणसी. अभी बीएचयू (BHU) के संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय में असिस्टेंट प्रोफेसर पद पर डॉ. फिरोज खान की नियुक्ति का विरोध ख़त्म भी नहीं हुआ था कि एक और विवाद सामने आ गया. बीएचयू के इतिहास विभाग ने बीए न्यू समेस्टर से रामायण (Ramayana) और महाभारत (Mahbharta) के साथ वैदिक काल के अध्याय को पाठ्यक्रम से हटा दिया है. रामायण और महाभारत अध्याय को हटाए जाने से छात्रों (Students) में आक्रोश देखने को मिल रहा है. छात्रों ने सेमेस्टर से महाभारत और रामायण को हटाए जाने को लेकर विभागध्यक्ष के सामने अप्पत्ति दर्ज कराई है.

बीए सेमेस्टर में हर वर्ष किताबों के जरिए रामायण, महाभारत और वैदिक काल का अध्याय पाठ्यक्रम में शामिल हुआ करते थे. लेकिन इस बार इन अध्यायों को हटा दिया गया है. इनके स्थान पर ब्रिटिश काल के वर्णन को शामिल किया गया है, जो विवाद का कारण बन गया है. छात्र इसे वामपंथी विचारधारा से जोड़ कर देख रहे हैं. उनका आरोप है कि बीएचयू में इस विचारधारा को थोपने की कोशिश की जा रही है.

बीएचयू के छात्र अरुण चौबे ने कहा कि रामायण, महाभारत और वैदिक काल को हटाना गलत है. यहां वामपंथी विचारधारा को थोपने की कोशिश हो रही है. जिसका हम सभी छात्र विरोध करते हैं.

इस खबर पर न्यूज 18 ने विश्वविद्यालय के इतिहास विभाग के प्रोफेसरों से भी बात की. हालांकि वो कैमरे के सामने तो नही आएं लेकिन उनका कहना था कि सेलेब्स चयन करने वाली समिति से इसका विरोध दर्ज किया गया है. समिति की ओर से हमें ये आश्वासन मिला है कि रामायण, महाभारत और वैदिक काल को फिर से अध्याय में जोड़ा जा सकता है.

गौरतलब है कि पिछले 13 दिनों से बीएचयू के संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय में ताला बंद है. छात्र विभाग में मुस्लिम असिस्टेंट प्रोफ़ेसर की नियुक्ति का विरोध कर रहे हैं. दूसरी ओर अब तक विश्वविद्यालय प्रशासन इस मुद्दे को लेकर किसी ठोस नतीजे तक नहीं पहुंच सका है. उधर धरने की वजह से मालवीय भवन से एलडी गेस्ट हाउस चौराहे पर जाने वाला रास्ता भी बंद पड़ा है. विश्वविद्यालय प्रशासन जहां नियुक्ति को नियमानुसार सही बता रहा है तो वहीं छात्र नियुक्ति रद्द कराने पर अड़े हैं.

(इनपुट: रवि पांडेय)

ये भी पढ़ें:BHU के संस्कृत संकाय में 12 दिन से लगा है ताला, मुस्लिम प्रोफेसर की नियुक्ति का हो रहा विरोध

वाराणसी: 2 महीने के बच्चे के पेट से निकला भ्रूण, डॉक्टर हैरान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वाराणसी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 19, 2019, 4:35 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर