Home /News /uttar-pradesh /

UP Election 2022: वाराणसी के कैंट विधानसभा का कितना हुआ विकास,जानिए क्या है जनता का मिजाज

UP Election 2022: वाराणसी के कैंट विधानसभा का कितना हुआ विकास,जानिए क्या है जनता का मिजाज

वाराणसी

वाराणसी के कैंट विधानसभा का क्या है सियासी मिजाज

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव को लेकर सियासी हलचलें तेज हो गई है.सरकार अपनी उपलब्धियां गिनाने में लगी है तो विपक्षी पार्टियां खामियों को मुद्दा बना रही है.ऐसे में क्या है यूपी के वाराणसी कैंट विधानसभा का सियासी मिजाज ये हम आपको ग्राउंड जीरो से बताएंगे.वाराणसी (Varanasi) के कैंट विधानसभा (Cantt Vidhansabha) शहर का हदय माना जाता है.

अधिक पढ़ें ...

    उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव को लेकर सियासी हलचलें तेज हो गई है.सरकार अपनी उपलब्धियां गिनाने में लगी है तो विपक्षी पार्टियां खामियों को मुद्दा बना रही है.ऐसे में क्या है यूपी के वाराणसी कैंट विधानसभा का सियासी मिजाज ये हम आपको ग्राउंड जीरो से बताएंगे.वाराणसी (Varanasi) के कैंट विधानसभा (Cantt Vidhansabha) शहर का हदय माना जाता है.जनसंख्या और क्षेत्रफल के लिहाज से कैंट विधानसभा वाराणसी का सबसे बड़ा विधानसभा क्षेत्र है.

    पीएम मोदी (PM Modi) का संसदीय कार्यालय सहित शहर के कई महत्वपूर्ण इलाके इसी विधानसभा क्षेत्र में है लेकिन इन सब के बाद भी विधानसभा क्षेत्र के कई इलाकों में सड़क,सीवर और पेय जल की परेशानियों से लोग जूझते हैं.हालांकि पिछले 7 सालों में इस विधानसभा के कई इलाके की तस्वीर ही बदल गई है.शहर की पहली वायरलेस कॉलोनी भी इसी विधानसभा क्षेत्र में बनी.इसके अलावा केंद्र की हेरिटेज योजना से शहर के कई इलाके हाईटेक हुए.लेकिन बनारस की पहचान जिस बनारसी साड़ी से है और कैंट विधानसभा से बजरडीहा इलाके में इसे तैयार किया जाता है वो इलाका आज भी बदहाल है.

    1991 से एक ही परिवार का कब्जा
    विधानसभा चुनाव में लगातार सात बार से बीजेपी के पूर्व मंत्री हरिश्चंद्र श्रीवास्तव का परिवार ही विधायक की कुर्सी पर काबिज है. हरिश्चंद्र श्रीवास्तव दो बार उसकी पत्नी ज्योत्सना श्रीवास्तव 4 बार और अब उनके पुत्र सौरभ श्रीवास्तव मौजूदा समय मे यहां से विधायक है. 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी के सौरभ श्रीवास्तव सबसे ज्यादा वोटों के अंतर से जीते थे.सौरभ श्रीवास्तव को 62613 वोट मिले थे जबकि गठबंधन के प्रत्याशी अनिल श्रीवास्तव को 30885 वोट ही मिले.

    ये है जातिगत समीकरण
    वर्तमान समय से इस विधानसभा सीट में कुल मतदाताओं की संख्या लगभग 4 लाख 6 हजार है.बात यदि जातिगत समीकरण की करे तो कैंट विधानसभा सीट में लगभग 75 हजार मुस्लिम, लगभग 28 हजार श्रीवास्तव, लगभग 40 हजार ब्राह्मण सहित शेष अन्य विरादरी के मतदाता हैं.

    2012 में हुआ था ये बदलाव
    साल 2012 में शहर के दक्षिणी विधानसभा का बड़ा इलाका काटकर कैंट विधानसभा में जोड़ा गया. इसमें लक्सा से गोदौलिया-दशाश्वमेध मुख्य मार्ग के दक्षिणी भाग का पूरा इलाका इस विधानसभा में शामिल हुए. जिसमे अस्सी, सोनारपुरा, लंका, सामनेघाट, सुंदरपुर, नरिया सहित अन्य महत्वपूर्ण इलाके शामिल हुए.

    ये है मुद्दे
    कैंट विधानसभा के लोगो की माने तो उनका कहना है कि आज भी इस विधानसभा क्षेत्र में कई ऐसे इलाके है जहां पेयजल की किल्लत के साथ ही सड़क और सीवर की समस्या भी है.इसके अलावा सामनेघाट, नगवां,अस्सी के कई ऐसे इलाके है जो हर साल बाढ़ के पानी में डूबता है ये भी इस विधानसभा चुनाव के लिए बड़ा मुद्दा है.

    रिपोर्ट- अभिषेक जायसवाल-वाराणसी

    Tags: UP Election 2022, Varanasi news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर