Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    शोध की दुनिया में बड़ी छलांग लगाने की तैयारी में BHU, अब वैक्सीन खोजने के लिए होगी पहचान

    बीएचयू
    बीएचयू

    बीएचयू (BHU) में जल्द ही वैक्सीन रिसर्च सेंटर (Vaccine Research Centre) खोला जाएगा. इस सेंटर में डॉक्टर से लेकर वैज्ञानिक तक अलग-अलग बीमारियों की वैक्सीन बनाने का काम करेंगे. अमेरिकी संस्था के सहयोग से करीब 500 करोड़ की लागत से सेंटर खोले जाने का निर्णय हुआ है.

    • Share this:
    वाराणसी. कोरोना (COVID-19) महामारी को खत्म करने के लिए भारत समेत दुनिया के अन्य देशों में वैक्सीन पर शोध चल रहा है. भारत के भी अलग-अलग संस्थानों में शोध अब ट्रायल चरण में है. कोरोना जैसी महामारी ने हमे ये सिखा दिया कि वैक्सीन शोध के क्षेत्र में हमें अपने संसाधनों को और मजबूत करना होगा. इसी बात को ध्यान में रखते हुए आने वाले दिनों में बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) की एक पहचान देश समेत पूरी दुनिया में वैक्सीन शोध सेंटर के रूप में होगी.

    अमेरिकी संस्था के सहयोग से 500 करोड़ में बनेगा वैक्सीन रिसर्च सेंटर 

    बीएचयू में जल्द ही वैक्सीन रिसर्च सेंटर (Vaccine Research Centre) खोला जाएगा. इस सेंटर में डॉक्टर से लेकर वैज्ञानिक तक अलग-अलग बीमारियों की वैक्सीन बनाने का काम करेंगे. अमेरिकी संस्था के सहयोग से करीब 500 करोड़ की लागत से वैक्सीन रिसर्च सेंटर खोले जाने का निर्णय हुआ है. बनारस हिंदू विश्वविदयालय की विद्वत परिषद की बैठक में कुलपति प्रोफेसर राकेश भटनागर की अध्यक्षता में ये फैसला लिया गया.



    कार्यकारिणी परिषद की हरी झंडी का इंतजार
    अब इस फैसले को जल्द होने वाली कार्यकारिणी परिषद की बैठक मे रखा जाएगा, जिससे हरी झंडी मिलने के बाद बीएचयू में वैक्सीन रिसर्च सेंटर बनने का रास्ता साफ हो जाएगा.



    पांच मंजिला होगी इमारत

    रिसर्च सेंटर के लिए प्रस्ताव है कि ये पांच मंजिला इमारत होगी, जिसमे आईएमएस, बीएचयू के डॉक्टरों समेत अन्य वैज्ञानिकों को शामिल किया जाएगा. शोध संस्थान में अलग-अलग बीमारियों और महामारी के वैक्सीन खोजने का काम होगा. यानी आने वाले दिनों में शिक्षा की राजधानी में महामना की बगिया को अब नई पहचान मिलने जा रही है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज