होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

वाराणसी में वीआईपी के मुखिया मुकेश सहनी ने दिया नारा - चायवाले के साथ नाववाला भी

वाराणसी में वीआईपी के मुखिया मुकेश सहनी ने दिया नारा - चायवाले के साथ नाववाला भी

वाराणसी में हेलिकॉप्टर रैली करने आए मुकेश सहनी ने कहा कि जिस तरह मां गंगा ने पीएम मोदी को बुलाया, उसी तरह मुझे भी आशीर्वाद देंगी.

वाराणसी में हेलिकॉप्टर रैली करने आए मुकेश सहनी ने कहा कि जिस तरह मां गंगा ने पीएम मोदी को बुलाया, उसी तरह मुझे भी आशीर्वाद देंगी.

Alliance Partner : विकासशील इन्सान पार्टी के मुखिया मुकेश सहनी ने यूपी चुनाव के लिए अपना नारा लांच किया. यूपी चुनाव में वीआईपी का नारा होगा- चायवाले के साथ नाववाला भी. मुकेश सहनी ने कहा कि जैसे गुजरात से वाराणसी आए पीएम नरेंद्र मोदी को मां गंगा ने बुलाया था, वैसे ही हमें भी मां गंगा आशीर्वाद देंगी. हम रियल गंगा पुत्र हैं. रैली में पहुंचे मुकेश सहनी ने आरक्षण के मुद्दे पर वहां मौजूद लोगों के दिल में जगह बनाने की कोशिश की. उन्होंने कहा कि जब निषाद जाति का बंगाल और दिल्ली में आरक्षण हैं, तो यूपी, बिहार और झारखंड में क्यों नहीं. अब तक यूपी में 12 हेलिकाप्टर रैली कर चुके मुकेश सहनी की ये 13वीं रैली थी.

अधिक पढ़ें ...

वाराणसी. बिहार सरकार में गठबंधन के साथी विकासशील इन्सान पार्टी (VIP) के मुखिया और बिहार में कैबिनेट मंत्री मंत्री मुकेश सहनी अपनी हेलिकाप्टर रैली के जरिए वाराणसी पहुंचे. अब तक यूपी में 12 हेलिकाप्टर रैली कर चुके मुकेश सहनी की ये 13वीं रैली थी. यूं तो कई मायनों में उनकी पार्टी की वाराणसी रैली महत्वपूर्ण थी, लेकिन तीन खास वजहें हैं. पहली ये कि वाराणसी पीएम नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र है. दूसरा गंगा किनारे यहां निषाद वोट की संख्या चुनावी आंकड़ों के लिहाज से ठीक है. तीसरी वजह ये कि इस रैली के जरिए वीआईपी के मुखिया मुकेश सहनी ने यूपी चुनाव के लिए अपना नारा लांच किया.

यूपी चुनाव में वीआईपी का नारा होगा- चायवाले के साथ नाववाला भी. रैली में पहुंचे मुकेश सहनी ने आरक्षण के मुद्दे पर वहां मौजूद लोगों के दिल में जगह बनाने की कोशिश की. उन्होंने कहा कि जब निषाद जाति का बंगाल और दिल्ली में आरक्षण हैं, तो यूपी, बिहार और झारखंड में क्यों नहीं. निषाद वोटों की गोलबंदी के लिए इस जाति के लीडरों में कितना संघर्ष हैं, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि संजय निषाद की गोरखपुर रैली में दिए गए बयान पर उन्होंने कहा कि उनके और संजय निषाद के बीच समझौता हुआ था कि आप यूपी संभालिए और मैं बिहार देखता हूं. लेकिन वे यहां पार्टी नहीं बल्कि दुकान चला रहे हैं. चुनाव आते ही ब्लेकमेलिंग करते हैं. अपने बेटे को सांसद बनाने के लिए कभी सपा और कभी भाजपा के साथ चले जाते हैं. उनका दावा था कि 15 फीसदी निषाद वोट हैं यूपी में. हर बड़ी पार्टी घुटनों पर आती लेकिन एक एमएलसी पद के लिए मैनेज हो गए.

इन्हें भी पढ़ें :
Kasganj: दिवाली से पहले योगी सरकार का तोहफा, सोरों शूकर क्षेत्र को मिला तीर्थस्‍थल का दर्जा
देश को गाली देते हुए सोशल मीडिया पर Video किया पोस्ट, गिरफ्तार हुआ तो बोला- हिंदुस्तान जिंदाबाद

मुकेश सहनी ने कहा कि जैसे गुजरात से वाराणसी आए पीएम मोदी को मां गंगा ने बुलाया था, वैसे ही हमें भी मां गंगा आशीर्वाद देंगी. हम रियल गंगा पुत्र हैं. उन्होंने कहा कि चार पार्टियों ने बिहार सरकार को समर्थन दिया, उनमें एक पार्टी हमारी है. हमारी लड़ाई बिहार सरकार से नहीं, दिल्ली से है. बिहार में हमारे सारे काम हो रहे हैं. बता दें कि वीआईपी पार्टी का यूपी के 17 जिलों में हेलिकाप्टर रैली करने का लक्ष्य है.

Tags: Mukesh Sahni, UP Assembly Elections 2022, Varanasi news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर