Home /News /uttar-pradesh /

Varanasi News: खेती में युवाओं की बढ़ी दिलचस्पी,नौकरी छोड़ कर रहे हनी की खेती

Varanasi News: खेती में युवाओं की बढ़ी दिलचस्पी,नौकरी छोड़ कर रहे हनी की खेती

वाराणसी

वाराणसी (Varanasi) के युवा भी अब खेती में दिलचस्पी दिखा रहे हैं.पीएम मोदी (PM Modi) के आत्मनिर्भर भारत अभियान से प्रेरित होकर काशी (Kashi) के दो युवा बड़े शहरों की नौकरी छोड़ अब काशी में हनी की खेती कर रहे हैं.पारंपरिक खेती से अलग हनी की खेती से इन्हें मोटा मुनाफा हो रहा है. इसके अलावा ये युवा और भी लोगो को इसके लिए प्रेरित भी कर रहे हैं.

वाराणसी (Varanasi) के युवा भी अब खेती में दिलचस्पी दिखा रहे हैं.पीएम मोदी (PM Modi) के आत्मनिर्भर भारत अभियान से प्रेरित होकर काशी (Kashi) के दो युवा बड़े शहरों की नौकरी छोड़ अब काशी में हनी की खेती कर रहे हैं.पारंपरिक खेती से अलग हनी की खेती से इन्हें मोटा मुनाफा हो रहा है. इसके अलावा ये युवा और भी लोगो को इसके लिए प्रेरित भी कर रहे हैं.

अधिक पढ़ें ...

    पीएम के संसदीय क्षेत्र वाराणसी (Varanasi) के युवा भी अब खेती में दिलचस्पी दिखा रहे हैं.पीएम मोदी (PM Modi) के आत्मनिर्भर भारत अभियान से प्रेरित होकर काशी (Kashi) के दो युवा बड़े शहरों की नौकरी छोड़ अब काशी में हनी की खेती कर रहे हैं.पारंपरिक खेती से अलग हनी की खेती से इन्हें मोटा मुनाफा हो रहा है. इसके अलावा ये युवा और भी लोगो को इसके लिए प्रेरित भी कर रहे हैं.बनारस (Banaras) से लगभग 25 किलोमीटर दूर नारायणपुर गांव में रहने वाले मोहित और रोहित कम जमीन और कम मेहनत में मोटी कमाई कर देश के किसानों के लिए मिसाल बन गए हैं.वाराणसी के इन दोनों युवाओं ने पिछले लॉकडाउन के बाद महज चंद रुपयों से हनी की खेती से अपने बिजनेस की शुरुआत की थी जो अब लाखों में पहुंच गई है.

    10 क्विंटल हनी की कर रहे खेती
    बताते चले कि खेती के काम से पहले मोहित और रोहित एक निजी कम्पनी में काम करते थे.लेकिन आत्मनिर्भर बनकर कुछ करने के जज्बे ने उन्हें आधुनिक किसान बना दिया है.रोहित आंनद ने बताया कि हनी की खेती से हम लोग हर साल लगभग 10 क्विंटल तक हनी का उत्पादन करते हैं और फिर उसे बाजारों में बेचते है.नेचुरल हनी होने के कारण बाजार में इसकी डिमांड भी खासा होती है.

    लोगो को भी दे रहे ट्रेनिंग
    रोहित आंनद ने बताया कि वो अब तक कई लोगो को मधुमक्खी पालन और हनी की खेती की ट्रेनिंग भी दे चुके हैं.उनके खेती के इस अलग तरीके को देखने के लिए किसान भी यहां आते है.उत्तर प्रदेश के अलावा बिहार के कई किसानों को इसकी ट्रेनिंग दी है.

    रिपोर्ट- अभिषेक जायसवाल- वाराणसी

    Tags: Varanasi news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर