वाराणसी: जम्मू कश्मीर में शहीद रामबाबू को जवानों ने दी अंतिम विदाई

आपको बता दें कि शहीद रामबाबू जम्मू कश्मीर में 32 राष्ट्र राइफल में तैनात थे. नेपाल निवासी रामबाबू सैन्य कार्रवाई के दौरान हुयी मुठभेड़ के दौरान खण्डवाडा में शहीद हुये थे

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 19, 2018, 12:54 PM IST
वाराणसी: जम्मू कश्मीर में शहीद रामबाबू को जवानों ने दी अंतिम विदाई
Photo: News 18
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 19, 2018, 12:54 PM IST
उत्तर प्रदेश के वाराणसी के 39 जीटीसी मैदान में आज शहीद राइफल मैन रामबाबू को सलामी दी गई. इस दौरान गमगीन वातावरण में देश की आन बान शान पर अपनी जान न्योछावर करने वाले शहीद को सेना के जवानों से सलामी दी और फूल चढ़ाकर इनकी शहादत को सलाम किया.

आपको बता दें कि शहीद रामबाबू जम्मू कश्मीर में 32 राष्ट्र राइफल में तैनात थे. नेपाल निवासी रामबाबू सैन्य कार्रवाई के दौरान हुयी मुठभेड़ के दौरान खण्डवाडा में शहीद हुये थे. आज इनका पार्थिव शरीर वाराणसी पहुंचा और 39 जीटीसी के जवानों ने इन्हें श्रद्धांजलि दी.

जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के हंदवाड़ा में हुई मुठभेड़ में राम बाबू को हंदवाड़ा में गोली लग गई थी. इसके बाद अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई. 24 साल के राम बाबू ने 2013 में सेना ज्वाइन की थी. वह नेपाल के चिटबन जिले गांव जगतपुर के रहने वाले थे. शहीद की पत्नी और एक बेटी भी है.

पुलिस अधिकारी के मुताबिक सेना की 32 आरआर को कुपवाड़ा के क्रालगुंड में कुछ आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली. ऐसे में सेना ने नाकाबंदी कर सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया. इस दौरान आतंकियों ने खुद को फंसा देखते हुए सेना के जवानों पर गोलीबारी शुरू कर दी. ऐसे में जवाबी कार्रवाई भी की गई. मगर एक गोली राइफल मैन रामबाबू साही के लग गई. इलाज के लिए उन्हें तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया. मगर इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया.

(रिपोर्ट: नीतीश कुमार पांडेय)

ये भी पढ़ें: 

देवरिया शेल्‍टर होम: तीन दिन की रिमांड पर एनजीओ संचालिका और अन्‍य

केरल बाढ़: यूपी के पुलिसकर्मी देंगे एक दिन का वेतन, डीजीपी ने की अपील
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर