Lockdown: निराश्रितों के लिए बना शेल्टर होम, खाने का जिम्मा सामाजिक संगठनों ने लिया

निराश्रितों को शेल्टर होम में शिफ्ट किया जा रहा है
निराश्रितों को शेल्टर होम में शिफ्ट किया जा रहा है

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि इनके लिए बाकायदा शहर के शेल्टर होम जो कि ठंड के दिनों में बनाये गए थे उन्हें फिर से खुलवा कर उनकी साफ़-सफाई करवाई गई है. शेल्टर होम में शिफ्ट किए जा रहे लोगों के लिए सामाजिक संगठनों द्वारा खाने-पीने की व्यवस्था की गई है.

  • Share this:
वाराणसी. वाराणसी में लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान जिला प्रशासन का मानवीय चेहरा भी सामने आया है. जिला प्रशासन ने निराश्रित लोगों (Homless People) के सेहत का ध्यान देते हुए उन्हें शेल्टर होम (Shelter Home) में भेजने की उचित व्यवस्था कराई है. इस व्यवस्था से वाराणसी में दो फायदे देखे जा रहे हैं. एक तो लोगों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाया जा सकता है. इस व्यवस्था के तहत दूसरा फायदा यह होगा कि इनके भीड़ द्वारा होने वाले संक्रमण को फैलने से रोका भी जा सकता है. जिला प्रशासन इसके अलावा ऐसे लोगों को चिन्हित कर इनके खाने-पीने की सारी व्यवस्था इन शेल्टर होम में ही कर रही है.

लॉक डाउन के बाद शहर में सबसे ज्यादा परेशानी निचले तबके को झेलनी पड़ी. शेल्टर होम में पहुंचने वालों में से ज्यादातर लोग मजदूर और भिखारी वर्ग के हैं. इनमें से ज्यादातर लोगों को फिलहाल सड़क किनारे सोना पड़ रहा है.

सड़क पर सो रहे लोगों को शेल्टर होम में किया जा रहा है शिफ्ट



लॉकडाउन के बाद इनके सामने भूख से लड़ने की चुनौती आ खड़ी हो गई है. इस परेशानी को जिला प्रशासन ने गंभीरता से लिया है. शहर में ऐसे लोगों को चिन्हित कर उनके लिए शेल्टर होम की व्यवस्था की है. इन्हें शेल्टर होम शिफ्ट किया जा रहा है.
shelter home
शेल्टर होम में पहुंचने वालों में से ज्यादातर लोग मजदूर और भिखारी वर्ग के हैं.


खाने-पीने की जिम्मेदारी सामाजिक संगठनों ने उठाई

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि इनके लिए बाकायदा शहर के शेल्टर होम जो कि ठंड के दिनों में बनाये गए थे उन्हें फिर से खुलवा कर उनकी साफ़-सफाई करवाई गई है. शेल्टर होम में शिफ्ट किए जा रहे लोगों के लिए सामाजिक संगठनों द्वारा खाने-पीने की व्यवस्था की गई है. इन सामाजिक संगठनों में सबसे पहले काशी विश्वनाथ मंदिर अन्नपूर्णा अन्नक्षेत्र शामिल हुआ, जिसने ऐसे लोगों की जिम्मेदारी ली है.

ये भी पढ़ें: यूपी के स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह की तीसरी बार आई रिपोर्ट निगेटिव

COVID-19: यूपी की मस्जिदों में जुमे की नमाज के लिए नहीं जुटेगी भीड़
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज