Assembly Banner 2021

UP: सोशल मीडिया पर वायरल हो रही थी बनारस की तस्वीर, News18 ने खोला 'लंदन स्ट्रीट' का राज?

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही थी बनारस की तस्वीर

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही थी बनारस की तस्वीर

काशी (Kashi) की प्राचीन पहचान को ध्यान में रखते हुए पिंक कॉरिडोर बनाया गया है. इसके लिए चुनार के गुलाबी पत्थर प्रयोग में लाए जा रहे हैं.

  • Share this:
वाराणसी. धर्म और आध्यात्म की नगरी काशी (Kashi) में इन दिनों सोशल मीडिया (Social Media) में बनारस की एक तस्वीर तेजी से वायरल हो रही है. इस तस्वीर में गुलाबी पत्थरों से सजी और हेरीटेज लाइटों से रोशन एक सड़क है. कुछ लोग इसे बनारस की लंदन स्ट्रीट कह रहे हैं तो कुछ सवाल उठा रहे हैं कि ऐसी गली बनारस में नहीं हो सकती. क्योंकि बनारस की गलियों की तो एक अलग तस्वीर ही पीढ़ियों से लोगों के जेहन में है. ऐसे में सोशल मीडिया पर बड़ी दुविधा की स्थिति बन गई है.

इस दुविधा को खत्म करने के लिए जब न्यूज-18 ने पड़ताल की तो ये गली बनारस की ही निकली. हालांकि जिस तरीके से इसे अतिक्रमण मुक्त कराकर सजाया गया है, उसके बाद अब ये गली से सड़क बन गई है. ये सड़क है बनारस के हदय कहे जाने वाले गोदौलिया चौराहे से दशाश्वमेध घाट तक की सड़क हैं. यूं ही इसका लुक लंदन स्ट्रीट जैसा नहीं बना. करीब 7 करोड़ की लागत से इस प्रमुख सड़क को संवारा गया है. सड़क की फर्श को गुलाबी पत्थरों से बनाया गया है, जो कि काशी की पुरातन गलियों की याद दिलाते हैं.

UP Panchayat Elections 2021: हरदोई पुलिस ने 36 अपराधियों को किया जिला बदर, एक्शन प्लान तैयार



सड़क बनाने में इस बात का ध्यान रखा गया है कि काशी की प्राचीन गलियों की पहचान से छेड़छाड़ न हो बल्कि उसमे आधुनिकता के रंग भरे गए. सड़क के दोनों ओर पटरीवालों के लिए एक प्लेटफार्म बनाया गया है. यही नहीं, जगह जगह लोगों के बैठने के लिए बेंच भी बनाई गई है. जगह- जगह सुंदर पौधे लगाकर प्राकृतिक सौंदर्य भी बढ़ाया गया है. काशी की प्राचीन पहचान को ध्यान में रखते हुए पिंक कॉरिडोर बनाया गया है. इसके लिए चुनार के गुलाबी पत्थर प्रयोग में लाए जा रहे हैं. वहीं सड़क के दोनों तरफ मकानों व दुकानों की प्लास्टर की नक्काशी समेत रंगाई पुताई कर एक समान लुक दिया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज