पीएम मोदी की काशी में ‘पाठशाला’ लगाने पहुंचे संघ प्रमुख मोहन भागवत

मोहन भागवत के 6 दिवसीय काशी प्रवास के दौरान अहम दिन 20 फरवरी होगा. इस दिन सर संघचालक सरकार के नुमाइंदों की मौजूदगी में संघ और बीजेपी संगठन की समन्वय बैठक को संबोधित करेंगे.

ETV UP/Uttarakhand
Updated: February 15, 2018, 5:03 PM IST
पीएम मोदी की काशी में ‘पाठशाला’ लगाने पहुंचे संघ प्रमुख मोहन भागवत
संघ प्रमुख मोहन भागवत. Photo: ETV/News18
ETV UP/Uttarakhand
Updated: February 15, 2018, 5:03 PM IST
काशी में शुक्रवार से शुरू हो रही आरएसएस की पाठशाला के लिए सर संघचालक मोहन भागवत करीब तीन बजे वाराणसी पहुंचे. मुगलसराय से ट्रेन के जरिए वाराणसी के कैंट स्टेशन पहुंचे मोहन भागवत सीधे ट्रेड फैसिलिटी के लिए रवाना हो गए. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र वाराणसी बीजेपी के मिशन-2019 का प्रमुख केंद्र बनने जा रहा है. पहले बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने काशी से ‘युवा उद्घोष’ कार्यक्रम के जरिए मिशन का आगाज किया. अब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर संघचालक मोहन भागवत की यहां ‘पाठशाला’ लगेगी.

15 से 21 फरवरी के तक तक काशी प्रवास के दौरान सर संघचालक के साथ भैयाजी जोशी, सुरेश सोनी और डा कृष्ण गोपाल सरीखे दिग्गज नेता मौजूद रहेंगे.  माना जा रहा है कि यह पहला मौका होगा, जब वाराणसी में संघ, सरकार और बीजेपी के कद्दावर नेताओं का एक साथ जमावड़ा होगा. आगामी लोकसभा चुनाव की तैयारियों के बीच संघ प्रमुख का काशी प्रवास और दिग्गजों की मौजूदगी को देखते हुए राजनीतिक हवा ने भी जोर पकड़ा है.

6 दिवसीय काशी प्रवास के दौरान लालपुर स्थित ट्रेड फैसिलिटी सेंटर संघ की गतिविधियों का प्रमुख केन्द्र रहेगा. अहम दिन 20 फरवरी होगा. इस दिन सर संघचालक सरकार के नुमाइंदों की मौजूदगी में संघ और बीजेपी संगठन की समन्वय बैठक को संबोधित करेंगे.  इससे पहले गुरुवार दोपहर करीब 3 बजे वाराणसी रेलवे स्टेशन पहुंचे संघ प्रमुख मोहन भागवत की कार करीब दस से पंद्रह मिनट रुकी रही.

बताया जाता है कि उन्हें उतरना एस्कलेटर से था लेकिन सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें लिफ्ट से नीचे उतार दिया. इसलिए आगे पीछे कारों के काफिले के कारण ऐसा भ्रम पैदा हो गया. हालांकि ये 10 मिनट पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों पर भारी पड़े रहे. क्योंकि न तो कार आगे जा पा रही थी और न पीछे. खैर, दस मिनट बाद उनकी कार रवाना हुई और वे पंडित दीनदयाल ट्रेड फैसिलिटी सेंटर पहुंचे. जो अब छह दिन तक संघ का मुख्यालय होगा.

(रिपोर्ट: उपेंद्र द्विवेदी)
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर