वाराणसी में मुस्लिम महिलाओं की अनोखी पहल, गोबर से बनाया 'रामदीप' दीया

वाराणसी में मुस्लिम महिलाओं की अनोखी पहल
वाराणसी में मुस्लिम महिलाओं की अनोखी पहल

गोबर के दीये (Lamps) वह मूर्ति से गाय के गोबर की उपयोगिता बढ़ेगी. इससे स्वयंसेवी समूह की महिलाओं को रोजगार के अवसर भी प्रदान होंगे.

  • Share this:
वाराणसी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के संसदीय क्षेत्र वाराणसी (Varanasi) में मुस्लिम महिलाओं ने अनोखा कदम उठाया है. मुस्लिम महिलाएं खुद गाय के गोबर से दीये तैयार कर रही हैं. गोबर से बने इन दीपकों में रंग भरने वाली ये मुस्लिम महिलाएं खुद ये दीपक तैयार कर रही हैं. इन दीयों का नाम इन्होंने रामदीप रखा है और इसे राम के नाम से दीपावली को ये रौशन करेंगी. गोबर से बने दीपकों को हिन्दू- मुस्लिम महिलाएं मिलकर बना रही हैं. ताकि समाज में कट्टरता खत्म हो और आपसी भाईचारा मजबूत हो.

चाइनीज झालर का बहिष्कार का संदेश देने वाली नाज़नीन भारतवंशी ने बताया कि मुस्लिम महिलाएं प्रतिदिन सैकड़ों रामदीपक तैयार कर रही हैं, जिसे शहर के प्रतिष्ठित लोगों और हिन्दू परिवारों को अपने हाथ से वितरित करेंगी, जिसे दीपावली पर जलाया जा सके. रामदीपक बनाकर मुस्लिम महिलाओं ने पूरी दुनियां को शांति, सद्भाव और सौहार्द का संदेश देकर यह बताया कि भारतीय संस्कृति दुनियां को शांति का पाठ पढ़ा सकती है. एक दूसरे के तीज त्यौहारों, खुशियों में भाग लेने से धर्म खतरे नहीं पड़ता बल्कि हर धर्म का सम्मान बढ़ता है.





ये भी पढे़ं- उत्तर प्रदेश: लग्जरी गाड़ी में आए 'साहब' ने फल वाले को लगाया 12 हजार का चूना, पढ़ें पूरा मामला
देश के साथ ही काशी में भी इस दीपावली पर जिला प्रशासन द्वारा गाय के गोबर से दिए बनवाये जा रहे हैं. जो बनारस में इस बार हजारों घरों में रौशनी बिखेरेंगे, ऐसे में मुस्लिम महिलाओं द्वारा ये प्रयास उस कट्टरता को आईना दिखाने का काम करेगा. जिसके सहारे आतंकी आतंक फैला रहे हैं. गोबर के दीये वह मूर्ति से गाय के गोबर की उपयोगिता बढ़ेगी. इससे स्वयंसेवी समूह की महिलाओं को रोजगार के अवसर भी प्रदान होंगे. यह एक आत्मनिर्भर भारत की दिशा में एक अच्छा कदम होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज