• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • NEET Solver Gang: सब्जी वाले की बेटी दे रही थी दूसरे की जगह परीक्षा, लाखों का था लालच

NEET Solver Gang: सब्जी वाले की बेटी दे रही थी दूसरे की जगह परीक्षा, लाखों का था लालच

सब्जी वाले की बेटी सॉल्वर गैंग का शिकार. दूसरे की जगह दे रही थी परीक्षा. मां के साथ गिरफ्तार.

सब्जी वाले की बेटी सॉल्वर गैंग का शिकार. दूसरे की जगह दे रही थी परीक्षा. मां के साथ गिरफ्तार.

NEET Solver Gang : सॉल्वर गैंग के रूप में पकड़ी बीएचयू बीडीएस सेकेंड इयर की छात्रा जूली की स्टोरी हैरान करने वाली है. मां बबिता के साथ जूली को क्राइम ब्रांच ने मूल अभ्यर्थी की जगह परीक्षा देते पकड़ा है. इस होनहार जूली को साल्वर गैंग में शामिल करने के पीछे बिहार का पीके है, जिसकी तलाश अब पुलिस को है.

  • Share this:

वाराणसी. साल 2019 में बिहार (Bihar) के पटना (Patna) के सब्जी बेचने वाले मुन्ना कुमार महतो Munna Kumar Mahato की बेटी जूली ने जब नीट परीक्षा (NEET exam) में सफलता हासिल की थी तो उसकी खुशी का ठिकाना नहीं था. उसे बीएचयू के डेंटल विभाग में बतौर बीडीएस स्टूडेंट्स एडमिशन मिला था. लेकिन दो साल बाद अब जो सच सामने आया उसने सबको चौंका दिया. जूली को सॉल्वर गैंग के रूप में पकड़ा गया है. वह दूसरे की जगह परीक्षा देते हुए पकड़ी गई. साल्वर गैंग के रूप में पकड़ी बीएचयू बीडीएस सेकेंड इयर की छात्रा जूली की स्टोरी हैरान करने वाली है. मां बबिता के साथ जूली को क्राइम ब्रांच ने मूल अभ्यर्थी की जगह परीक्षा देते पकड़ा है. खास बात ये है कि इस होनहार जूली को साल्वर गैंग में शामिल करने के पीछे बिहार का पीके है, जिसकी तलाश अब पुलिस को है.

वाराणसी के सारनाथ स्थित सेंट फ्रांसिस जेवियर स्कूल में रविवार को नीट- यूजी परीक्षा में मूल अभ्यर्थी की जगह साल्वर के रूप में जूली परीक्षा देने पहुंचीं. कक्ष निरीक्षकों के शक के बाद क्राइम ब्रांच की पूछताछ में जूली और उसकी मां बबिता को गिरफ्तार किया गया. मोबाइल फोन को खंगालने पर गैंग के दो सदस्य का भी पता चला, जिसमें बिहार के खगड़िया निवासी विकास और गाजीपुर जिले के मोहम्मदाबाद क्षेत्र से ओसामा शाहिद भी पकड़े गए. लेकिन इसे केजीएमयू लखनऊ का एक डाक्टर और मुख्य सरगना बिहार का पीके है, जिसकी तलाश में कमिश्नरेट पुलिस दबिश दे रही है.

पांच लाख का सौदा, पचास हजार पेशगी

बिहार के रहने वाले विकास ने गरीबी और आर्थिक तंगी का फायदा उठाते हुए जूली को अपना शिकार बनाया. इसके लिए विकास ने सहारा लिया जूली के भाई अभय कुमार कुशवाहा का. मूल अभ्यर्थी से जूली की शक्ल थोड़ी मिलती थी. बाकी फोटो एडिटिंग के जरिए फर्जी दस्तावेज तैयार किए गए. जूली की मां को पांच लाख का लालच दिया. पचास हजार पेशगी भी दी गई. इसके बाद बाकी रकम परीक्षा खत्म होने के बाद देने की बात हुई थी.

सेमेस्टर की टॉपर थी जूली

बीएचयू चिकित्सा विज्ञान संस्थान के फैकल्टी ऑफ डेंटल साइंसेज की 2019 बैच की छात्रा जूली कुमारी बीडीएस सेकेंड इयर की छात्रा है. जूली ने अपने बैच में सेमेस्टर में टॉप भी किया है. बताया जाता है कि नीट परीक्षा में जूली को 720 में से 522 नंबर मिले थे. जूली पटना के कंदनपुर कुम्हरार गुमटी के वैष्णवी कालोनी की रहने वाली है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज