होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /अब आपका चेहरा ही होगा बोर्डिंग पास, वाराणसी एयरपोर्ट पर शुरू हुई डीजी यात्रा

अब आपका चेहरा ही होगा बोर्डिंग पास, वाराणसी एयरपोर्ट पर शुरू हुई डीजी यात्रा

Varanasi Airport पर शुरू हुई डीजी यात्रा, बोर्डिंग पास से मिला छुटकारा

Varanasi Airport पर शुरू हुई डीजी यात्रा, बोर्डिंग पास से मिला छुटकारा

Varanasi Airport:

हाइलाइट्स

डीजी यात्रा यानी पेपरलेस वर्क सिस्टम का शुभारंभ हुआ
इस सेवा के शुरू होने से अब आपका चेहरा ही बोर्डिंग पास होगा
इस सेवा के शुरू होने से यात्रियों को लंबी लाइन से भी मुक्ति मिलेगी

वाराणसी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में हर दिन सुविधाओं का विस्तार हो रहा है. खास बात यह है कि एक ओर जहां रेलवे स्टेशन को अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस करते हुए गाड़ियों की संख्या बढ़ाई जा रही है तो वहीं एयरपोर्ट पर भी यात्री सुविधाएं बढ़ाकर हवाई यात्रा को सुगम और सरल बनाया जा रहा है. इसी कड़ी में आज से वाराणसी के लाल बहादुर शास्त्री इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर डीजी यात्रा यानी पेपरलेस वर्क सिस्टम का शुभारंभ हुआ. वाराणसी के साथ ये सुविधा दिल्ली और बेंगलुरु में भी शुरू हुई.

वाराणसी एयरपोर्ट की निदेशक आर्यमा सान्याल ने बताया कि इस सुविधा के लिए वाराणसी में सबसे पहले इंडिगो एयरलाइंस को मंजूरी मिली है. गुरुवार को इंडिगो की फ्लाइट के साथ डीजी यात्रा सेवा का शुभारंभ हुआ. इस मौके पर एयरपोर्ट को खूबसूरत ढंग से सजाया गया है. इस सेवा के शुरू होने से अब आपका चेहरा ही बोर्डिंग पास होगा.

ऐसे करना होगा रजिस्ट्रेशन
इसके लिए सफर शुरू करने से पहले यात्रियों को अपने मोबाइल पर गो लाइव एप डाउनलोड करके रजिस्ट्रेशन कराना होगा। रजिस्ट्रेशन के बाद जब सारी औपचारिकताएं पूरी हो जाएंगी तो यात्री का चेहरा ही उसकी पहचान हो जाएगी. इस मौके पर पूरी प्रक्रिया फालो करने के बाद यात्रा करने वाली प्रकृति अरोड़ा ने News-18 से बातचीत में बताया की बहुत अच्छा अनुभव है. अब बोर्डिंग पास की जरुरत नहीं है.

आपके शहर से (वाराणसी)

वाराणसी
वाराणसी

लंबी लाइन से भी मिलेगी मुक्ति
यात्रा से जुड़े सभी उपकरणों और संसाधनों को टर्मिनल भवन के एक्जिट (प्रस्थान) गेट डी-2 पर लगाया गया है. लगेज के लिए अलग से काउंटर भी बना है. बीते चार साल से इस सेवा को शुरू करने की तैयारी चल रही थी. इस सेवा के शुरू होने से विमान यात्रियों को जांच प्रक्रिया के लिए न केवल लंबी लाइन लगाने से मुक्ति मिली बल्कि कागजात का झंझट भी खत्म हुआ. डीजी सेवा का लाभ लेने वाली वाराणसी की पहली मुसाफिर डॉ सुचेता बनीं.

Tags: Varanasi Airport, Varanasi news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें