Home /News /uttar-pradesh /

Varanasi News: आशियाने पर संकट, दशहत में जिंदगी जानिए क्यों अटकी है काशी के दर्जन भर परिवारों की सांसें

Varanasi News: आशियाने पर संकट, दशहत में जिंदगी जानिए क्यों अटकी है काशी के दर्जन भर परिवारों की सांसें

गंगोत्री

गंगोत्री विहार कॉलोनी में कई घरों में दरारें

बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी (Kashi) में दर्जन भर से अधिक परिवार दहशत में जी रहे हैं.घरों की दीवारों पर आफत की दरारें है और लोग इसमें रहने को मजबूर है. शहर के नगवां क्षेत्र के गंगोत्री बिहार कॉलोनी में बीते कुछ दिनों से एक के बाद एक घरों में इस तरह के आफत की लकीरें दिखाई दे रही है.

अधिक पढ़ें ...

    बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी (Kashi) में दर्जन भर से अधिक परिवार दहशत में जी रहे हैं.घरों की दीवारों पर आफत की दरारें है और लोग इसमें रहने को मजबूर है. शहर के नगवां क्षेत्र के गंगोत्री बिहार कॉलोनी में बीते कुछ दिनों से एक के बाद एक घरों में इस तरह के आफत की लकीरें दिखाई दे रही है. स्थानीय लोगो का आरोप है कि सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (Sewage treatment plant) के लिए डाली गई पाइप में लीकेज के कारण इस तरह की परेशानी आ रही है.
    इलाके के दर्जनभर घरों की दीवार और छत फट चुकी है.इसके अलावा जगह-जगह जमीन भी धसने से भी लोगो मे दशहत है. इन दशहत के बीच लोग जान को हथेली पर रखकर इन घरों में रहने को मज़बूर है.स्थानीय लोगो ने आरोप लगाया है कि ट्रीटमेंट प्लांट चलने से इलाके के घरों में लगाकर कम्पन हो रही है जिससे कारण इस तरह की समस्या हुई है.

    दो बारढह गया आशियाना
    इलाके के रहने वाले गिरधारी ने बताया कि जब से सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का काम शुरू हुआ है तब से अभी तक दो बार हम लोगों का घर गिर चुका है. पहले 2016 में ऐसा हुआ था और अब 2021 में फिर हुआ. हमलोगों ने अपनी सारी कमाई इसमें लगाई लेकिन अब वो मिट्टी में मिल गया. दिवाकर ने बताया कि गंगोत्री बिहार के आधा दर्जन और आगे की कुछ मकानों में भी इस तरह की दिक्कतें देखने को मिल रही है.

    डीएम ने दिए जांच के निर्देश
    वाराणसी के गंगोत्री बिहार कॉलोनी में इस आफत के बीच वाराणसी के जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने तहसीलदार को इनका जांच कराने के निर्देश दिए है.जांच के बाद ही साफ हो पाएगा कि इलाके के घरों में आ रहे इन दरारों के पीछे असली वजह क्या है.

    रिपोर्ट-अभिषेक जायसवाल- वाराणसी

    Tags: Varanasi news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर