बनारसी विरोध : सड़क पर बहते सीवर के पानी में कुर्सी पर बैठाकर पार्षद को रस्सियों से बांधा

पार्षद तुफैल अंसारी के सामने विरोध जताने का यही तरीका सूझा नाराज लोगों को.
पार्षद तुफैल अंसारी के सामने विरोध जताने का यही तरीका सूझा नाराज लोगों को.

पार्षद का कहना था कि उन्होंने कई बार पूरी समस्या से अफसरों को अवगत कराया है, लेकिन अब तक समाधान नहीं कराया गया. इसमें उनकी कोई गलती नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 21, 2020, 7:12 PM IST
  • Share this:
वावाराणसी. सीवर और दूषित पानी की समस्या के कारण लंबे अरसे से परेशान बनारसियों को जब सुधार की कोई उम्मीद नजर नहीं आई तो उन्होंने पार्षद को रस्सियों से बांधकर बंधक बना लिया. विरोध का यह तरीका इलाके में चर्चा का विषय बना हुआ है. इलाके के लोग जिस सीवर के गंदे पानी से होकर सुबह-शाम गुजरने को मजबूर थे, उसी सीवर के पानी के बीच में एक कुर्सी रखकर इलाके के लोगों ने पहले पार्षद को बैठाया. फिर जब वे जाने लगे तो लोगों ने उसी कुर्सी पर रस्सी से बांधकर उन्हें बंधक बना लिया. हालांकि बाद में इलाके के ही कुछ लोगों के समझाने-बुझाने पर विरोध जता रहे लोगों ने पार्षद को छोड़ भी दिया.

मामला अंबियापुर मंडी क्षेत्र का

मामला वाराणसी के वॉर्ड नंबर 79 अंबियापुर मंडी क्षेत्र का है. यहां के पार्षद हैं तुफैल अंसारी. दरअसल, इस वॉर्ड से जुड़े आसपास के इलाकों में लंबे वक्त से सीवर का पानी सड़कों पर चला आता है. यही नहीं, जगह-जगह पेयजल पाइप लाइन ध्वस्त होने के कारण दूषित जलापूर्ति भी एक बड़ी समस्या बनी हुई है. आलम यह है कि दूषित पेयजल के इस्तेमाल की वजह से कई घरों के लोगों का कहना है कि बच्चे बीमार हो जा रहे हैं. उन्होंने सीवर समस्या के बारे कहा कि इलाके के लोग सुबह शाम इसी नारकीय स्थिति का सामना करते हुए घर से आते-जाते हैं. समस्या को लेकर कई बार क्षेत्रीय पार्षद तुफैल अंसारी को भी बताया गया. लेकिन समस्या का समाधान नहीं हुआ. इसी वजह से इलाके के कुछ लोगों के अंदर गुस्सा भरा था. इन्हीं क्षेत्रीय लोगों ने पार्षद तुफैल को इलाके में बुलाया और बैठने के लिए कुर्सी साफ जगह की बजाय उसी सीवर के पानी के बीच लगाई. फिर कुर्सी पर पार्षद को बैठाकर उन्हें रस्सी से बांध दिया. काफी देर तक चली बहस के बाद पार्षद को छोड़ दिया गया. पार्षद का कहना था कि उन्होंने कई बार पूरी समस्या से अफसरों को अवगत कराया है, लेकिन अब तक समाधान नहीं कराया गया. इसमें उनकी कोई गलती नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज