UP: काशी में होली से पहले चढ़ा सियासी रंग, मोदी- योगी पिचकारी के बाद ममता गुलाल की बढ़ी डिमांड

 मोदी- योगी पिचकारी के बाद ममता गुलाल की बढ़ी डिमांड

मोदी- योगी पिचकारी के बाद ममता गुलाल की बढ़ी डिमांड

दरअसल कोरोना के बढ़ते केसों को लेकर योगी सरकार (Yogi Government) ने बड़ा फैसला किया है. होली को देखते हुए पूरे यूपी में शराब पार्टी और रेन डांस पार्टी पर रोक लगा दी गई है.

  • Share this:
वाराणसी. धर्म और आध्यात्म की नगरी काशी (Kashi) में हर वर्ष की भांति इस बार भी होली (Holi) का रंग चढ़ता नजर आ रहा है. कोरोना वायरस के खौफ के बावजूद वाराणसी (Varanasi) शहर में होली का बाजार सज चुका है. इसके साथ ही इस बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सीएम योगी के नाम की पिचकारी की डिमांड जोरों पर है. इस बाजार में सबसे आकर्षक का केंद्र होली के पिचकारी बने हुए हैं. जिसे देखते हुए दुकानदारों ने भी अलग नामों के पिचकारी के मंगवाएं हैं. जिसमें, वैक्सीन, मोदी, योगी और ममता के नाम से पिचकारी शामिल हैं. लेकिन इन पिचकारी में सबसे ज्यादा डिमांड पीएम मोदी और सीएम योगी के नाम के पिचकारी का है. आने वाले ग्राहक इन पिचकारियों को ज्यादा खरीद रहे हैं. जबकि ममता गुलाल चर्चा का केंद्र बना हुआ है.

दुकानदार आसिफ का कहना है कि बाजारों में नामी लोगों के नाम से कोई समान आसानी से बिक जाता है. हर बार पिचकारी में सियासदारों के नाम होते हैं लेकिन पिछले 6 सालों से मोदी पिचकारी खासा डिमांड में रहती है. इस बार मोदी पिचकारी के साथ सीएम योगी के नाम की भी पिचकारी जोरों पर बिक रही है. बता दें कि काशी एक ऐसा शहर है जहां होली की खुमारी में संस्कृति, अध्यात्म, हुल्लड़ और सियासत का संगम होता है. जिसे लोग अपने अपने तरीके से मनाते हैं. यही कारण है कि यहां सियासी पिचकारी की खासा डिमांड रहती है.

योगी सरकार की नई गाइडलाइन

दरअसल कोरोना के बढ़ते केसों को लेकर योगी सरकार ने बड़ा फैसला किया है. होली को देखते हुए पूरे यूपी में शराब पार्टी और रेन डांस पार्टी पर रोक लगा दी गई है. गृह विभाग की तरफ से सभी जिले के जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षकों को साफ कर दिया गया है कि कहीं भी शराब पार्टी और रेन डांस पार्टी नहीं होनी होगी. साथ ही होली पर किसी भी प्रकार के अन्य कार्यक्रमों को करने के लिए लोगों को प्रशासन से अनुमति लेनी होगी. अन्यथा कार्रवाई की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज