लाइव टीवी

जिन्हें प्रणाम कर PM मोदी ने किया रोड शो, जानिए मालवीय जी के बारे में 10 खास बातें

News18 Uttar Pradesh
Updated: April 25, 2019, 8:39 PM IST
जिन्हें प्रणाम कर PM मोदी ने किया रोड शो, जानिए मालवीय जी के बारे में 10 खास बातें
पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार शाम को वाराणसी में मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा पर माल्‍यार्पण किया. इसके बाद उन्होंने रोड शो शुरू किया.

  • Share this:
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार शाम को वाराणसी में मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा पर माल्‍यार्पण किया. इसके बाद उन्होंने रोड शो शुरू किया. 'महामना' मदन मोहन मालवीय बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के संस्थापक और गंगा मुक्ति अभियान के प्रणेता रहे हैं. 25 दिसंबर, 1861 को एक संस्कृत पंडित के घर में जन्मे महामना ने 5 की उम्र से ही संस्कृत की पढ़ाई शुरू हो गई थी. उनके पूर्वज मध्य प्रदेश के मालवा से थे. इसलिए उन्हें 'मालवीय' कहा जाता है. आइए हम आपको बताते हैं मालवीय जी के बारे में 10 खास बातें.


    • ब्रिटिश हुकूमत के दौरान चौरी-चौरा कांड के 170 भारतीयों को फांसी की सजा सुनाई गई थी, लेकिन महामना ने अपनी योग्यता और तर्क के दम पर 151 लोगों को फांसी से छुड़ा लिया था.


    • उन्‍होंने तीन बार कांग्रेस के अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी संभाली और वह दक्षिण-पंथी हिंदू महासभा के पहले नेताओं में से एक थे.

    • स्वतंत्रता सेनानी और राजनीतिज्ञ के अलावा वह महान शिक्षाविद थे. महात्‍मा गांधी उनकी नेतृत्‍व शैली की जमकर प्रशंसा करते थे. बापू उन्‍हें अपना बड़ा भाई मानते थे.

    • मदन मोहन मालवीय को बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (बीएचयू) के संस्‍थापक के तौर पर जाना जाता है. मालवीय ने इस यूनिवर्सिटी की स्‍थापना 1916 में की थी. भारत की आजादी से एक साल पहले उनका निधन हो गया.
    • असहयोग आंदोलन के दौरान उन्‍होंने अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ जमकर लोहा लिया. अंग्रेजी सामान का बहिष्‍कार कर उन्‍होंने स्‍वदेशी आंदोलन को बढ़ावा दिया.

    • दलितों के अधिकार और जातिवाद का बंधन तोड़ने के लिए उन्‍होंने लंबा संघर्ष किया. मालवीय की पहल के बाद ही कई हिंदू मंदिरों में दलितों को प्रवेश मिल पाया.

    • 1911 में उन्‍होंने वकालत छोड़ दी और संन्‍यासी की तरह जीना शुरू किया. हालांकि, उनका यह त्‍याग अंग्रेजों को उखाड़ फेंकने में बाधक नहीं बना. देश को आजादी दिलाने के लिए एनी बेसेंट और अन्‍य राजनेताओं के साथ मिलकर उन्‍होंने लंबा संघर्ष किया.

    • उपनिषद के 'सत्‍यमेव जयते' (सत्‍य की ही जीत होती है) को लोकप्रिय बनाने में उनकी अहम भूमिका रही. बाद में इसे राष्‍ट्रीय आदर्श वाक्‍य का दर्जा मिला.

    • 25 दिसंबर, 1861 इलाहाबाद के एक साधारण परिवार में जन्‍मे मदन मोहन मालवीय के पिता का नाम ब्रजनाथ और माता का नाम भूनादेवी था. उनकी शादी 16 साल की ही उम्र में हो गई थी.

    • मालवीय 1924 से 1946 तक 'हिंदुस्‍तान टाइम्‍स' के अध्‍यक्ष रहे. इस अंग्रेजी अखबार के हिंदी संस्‍करण हिंदुस्‍तान को लॉन्च कराने में उनकी अहम भूमिका रही. 'द लीडर' के अलावा उन्‍होंने हिंदी मासिक 'मर्यादा' और हिंदी साप्‍ताहिक 'अभ्‍युदय' समाचार पत्र का संपादन किया.



ये भी पढ़ेंः

BHU की स्थापना में मदन मोहन मालवीय से अधिक योगदान एनी बेसेंट का था?

बनारस में क्यों अंतिम सांसें नहीं लेना चाहते थे मदन मोहन मालवीय?

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वाराणसी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 25, 2019, 8:25 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर