Home /News /uttar-pradesh /

काशी में रविदास जयंती पर दिखेगा आस्था और सियायत का संगम, PM मोदी समेत कई नेताओं को भेजा न्योता

काशी में रविदास जयंती पर दिखेगा आस्था और सियायत का संगम, PM मोदी समेत कई नेताओं को भेजा न्योता

Varanasi News: कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी, अखिलेश यादव समेत सभी बड़े दिग्गजों को आमंत्रित किया गया है.

Varanasi News: कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी, अखिलेश यादव समेत सभी बड़े दिग्गजों को आमंत्रित किया गया है.

Varanasi News: वाराणसी के सीरगोवर्धनपुर में संत रविदास की जन्म स्थली है. हर साल यहां पर आस्था के संगम के बीच भी सियासी लहरें उफान मारते दिखती हैं. पिछले साल भी यहां केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, प्रियंका गांधी और अखिलेश यादव आए थे. खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तीन बार यहां मत्था टेक चुके हैं और पिछले दिनों चुनाव आचार संहिता की घोषणा से पहले दरबार में पहुंचे थे.

अधिक पढ़ें ...

वाराणसी.  उत्तर प्रदेश समेत पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के बीच संत रविदास की जयंती Ravidas Jayanti Program) के मौके पर काशी (Kashi) स्थित उनकी जन्मस्थली सीरगोवर्धनपुर में आस्था और सियायत का संगम देखने को मिल सकता है. आस्था की डोर में बंधकर पहुंचे हजारों रैदासी भक्तों के बीच 16 फरवरी को सियासी दिग्गज यहां मत्था टेकते नजर आएंगे. इसके लिए मंदिर प्रबंधन की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) को आमंत्रण भेजा गया है. न केवल सत्ता बल्कि विपक्ष में भी पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी, दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी, अखिलेश यादव समेत सभी बड़े दिग्गजों को आमंत्रित किया गया है. बता दें कि 16 फरवरी को लाखों रैदासी भक्त पंजाब, हरियाणा से यहां जमा होते हैं.

इसलिए सभी पार्टियों की मांग पर पंजाब में 16 फरवरी के इलेक्शन शेड्यूल का चुनाव आयोग ने बदला था. जिस तरीके से बीते तीन दशक से दलित राजनीति कें केंद्र बिंदु काशी का सीरगोवर्धनपुर आया है, उसको देखकर चुनावी साल में ये अंदाजा लगाया जा रहा है कि हर दल से यहां 16 फरवरी को हाजिरी लगाई जाएगी. उत्तर प्रदेश और पंजाब के चुनाव में इसका खासा महत्व है. हालांकि बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 16 फरवरी को पंजाब में रैली होने के कारण उनके आने की उम्मीद कम है लेकिन उम्मीद जताई जा रही है कि भाजपा के तमाम दिग्गज नेता समेत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और पंजाब से जुड़े भाजपा के बड़े चेहरे यहां आ सकते हैं.

UP News: उन्नाव मर्डर केस में पीड़ित परिवार को न्याय दिलाएंगी निर्भया की वकील! परिजनों से की मुलाकात

बता दें कि वाराणसी के सीरगोवर्धनपुर में संत रविदास की जन्म स्थली है. हर साल यहां पर आस्था के संगम के बीच भी सियासी लहरें उफान मारते दिखती हैं. पिछले साल भी यहां केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, प्रियंका गांधी और अखिलेश यादव आए थे. खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तीन बार यहां मत्था टेक चुके हैं और पिछले दिनों चुनाव आचार संहिता की घोषणा से पहले दरबार में पहुंचे थे. पीएम मोदी ने भी साल 2016 और 2019 में मत्था टेकने के साथ लंगर छका था. इसके अलावा देश के दो पूर्व राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह और डॉ केआर नारायण भी यहां आकर मत्था टेक चुके हैं. कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी, बसपा सुप्रीमो मायावती और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल भी समय समय पर यहां हाजिरी लगाते रहे हैं.

Tags: Akhilesh yadav, BJP Allies, Chief Minister Charanjit Singh Channi, Chief Minister Kejriwal, CM Yogi, PM Modi, Priyanka gandhi, UP Assembly Election 2022, UP news, Varanasi news, वाराणसी

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर