PM मोदी के संसदीय क्षेत्र काशी में 'कालीन मेले' का आयोजन कर बुनकरों को रिझाएगी BJP

यूपी कार्पेट एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल के अध्यक्ष ने कहा कि जनता बहुत समझदार है, लेकिन हमारा मतलब सीधा है, कैसे भी व्यापारियों को मार्केट में उनके उत्पादों के सही मूल्य मिल सके, जिससे बुनकरों को फायदा हो.

NAVEEN LAL SURI | News18Hindi
Updated: August 13, 2018, 12:18 PM IST
PM मोदी के संसदीय क्षेत्र काशी में 'कालीन मेले' का आयोजन कर बुनकरों को रिझाएगी BJP
कालीन (प्रतीकात्मक तस्वीर)
NAVEEN LAL SURI | News18Hindi
Updated: August 13, 2018, 12:18 PM IST
भारतीय जनता पार्टी ने लोकसभा चुनाव-2019 की तैयारियों के लिए कमर कस चुकी है. इसी कड़ी में भदोही के बुनकरों को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार भदोही की कालीन की देश-विदेश में ब्राडिंग करने के लिए एक भव्य कालीन मेले का आयोजन करने जा रही है. राज्य सरकार द्वारा 'कार्पेट एक्सपो मार्ट' के संचालन के दिशा-निर्देश मंजूर किए जाने के बाद अब भदोही के कालीन निर्यातकों में आस जगी है कि जल्द ही मार्ट शुरू हो जाएगा और वह दिन दूर नहीं जब पूरी चमक-दमक के साथ 'कालीन मेले' लगने लगेंगे. इसकी शुरुआत पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र काशी से होगी.

यह भी पढ़ें: अब मोबाइल ऐप के जरिए बुनकरों को मिलेंगे नए डिजाइन, 25 मई से होगी शुरुआत

भदोही निवासी और यूपी कार्पेट एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल के अध्यक्ष महावीर शर्मा ने न्यूज18 से खास बातचीत में बताया कि भारत सरकार के टेक्सटाइल मंत्रालय की तरफ से हमें बताया गया है कि 21 से 24 अक्टूबर के बीच वाराणसी में सरकार कालीन मेले का आयोजन कर सकती है. उन्होंने बताया कि फिलहाल इसका औपचारिक ऐलान नहीं किया गया है. शर्मा ने बताया कि इस आयोजन से यूपी के बुनकरों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक मंच मिलेगा, जिससे दुनियाभर में मशहूर भदोही, वाराणसी, मिर्जापुर और जौनपुर की कालीन को एक नई पहचान मिलेगी.

यह भी पढ़ें: VIDEO: दशकों से जर्जर हालात में जीने को मजबूर हैं फतेहपुर सीकरी के बुनकर

महावीर शर्मा


बीजेपी के मिशन 2019 चुनाव से पहले बुनकरों को सरकार की तरफ से एक बड़ा तोहफा देने के सवाल पर महावीर शर्मा कहते हैं कि हर सरकार चुनाव के पहले हर वर्ग के वोटरों को लुभाने का प्रयास करती है, लेकिन कुल मिलाकर इससे सीधे तौर पर फायदा बुनकरों को होगा क्योंकि कालीन के व्यापारी अपने सामान की अच्छी ब्रांडिंग कर सकेंगे. काउंसिल के अध्यक्ष ने कहा कि जनता बहुत समझदार है, लेकिन हमारा मतलब सीधा है, कैसे भी व्यापारियों को मार्केट में उनके उत्पादाों के सही मूल्य मिल सकें जिससे बुनकरों को फायदा हो.

यह भी पढ़ें: पूर्वांचल में बिजली सब्सिडी का दुरुपयोग, नकेल कसेगी सरकार

शर्मा ने बताया कि आज भदोही, वाराणसी, मिर्जापुर और जौनपुर जिलों में तकरीबन 12-13 लाख बुनकर मौजूद हैं. वहीं 4000 के करीब कालीन के कारखाने हैं. कार्यक्रम में पीएम मोदी के शामिल होने के सवाल पर महावीर प्रताप शर्मा ने खुशी जाहिर की. उन्होंने कहा कि, आज मोदी और योगी सरकार के प्रयास से बुनकरों को एक नई दिशा मिलने जा रही है.

यह भी पढ़ें: यहां आज भी महाजनों की गुलामी कर रहे हैं हजारों बुनकर!

बता दें कि एक्सपो मार्ट की 60 फीसदी दुकानों का आवंटन कालीन निर्माताओं और निर्यातकों को देने का फैसला किया गया है. इसके तहत कालीन निर्माण करने वाले प्रदेश के सभी जनपद के निर्यातकों को दुकान का आवंटन किया जाएगा. गौरतलब है कि कालीन नगरी भदोही से सैकड़ों करोड़ रुपए के कालीन विदेशों में निर्यात किए जाते हैं. कालीन निर्यात को बढ़ावा देने के लिए दिल्‍ली और वाराणसी में कालीन मेले का आयोजन किया जाता था. इससे पहले निर्यातकों ने यूपी के भदोही में कालीन मेले का आयोजन करने की मांग थी.

यह भी पढ़ें: 

देवरिया कांड में अहम दिन, इलाहाबाद HC में पेश होगी एसआईटी रिपोर्ट

संभलकर बोलें! हेमा मालिनी, संगीत सोम जैसे नेताओं को अमित शाह की खरी-खरी

2019 में जीती BJP तो देश से खत्म हो जाएगा परिवारवाद: अमित शाह
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर