आखिर अर्जुन अवार्डी बॉस्केटबाल प्लेयर प्रशांति सिंह ने क्यों बोला- मोदी है तो मुमकिन है

प्रशांति सिंह ने पीएम मोदी को धन्यवाद दिया है. pic courtesy @prashanti14
प्रशांति सिंह ने पीएम मोदी को धन्यवाद दिया है. pic courtesy @prashanti14

सिगरा स्टेडियम के बॉस्केटबाल कोर्ट से पीएम मोदी के साथ संवाद के दौरान प्रशांति सिंह (Prashanti Singh) ने वाराणसी में एनसीओई यानी नेशनल सेंटर ऑफ एक्सीलेंस खोलने की मांगी की थी. महज 48 घंटे के भीतर खुद केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू (Kiren Rijiju)ने अपने टिवटर हैडल एकाउंड से उनकी मांग पूरी करने का ऐलान कर दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 11, 2020, 9:32 PM IST
  • Share this:
वाराणसी. मोदी है तो मुमकिन है! ये कहना है अर्जुन अवार्डी बास्केटबाल खिलाड़ी प्रशांति सिंह (Prashanti Singh) का. ऐसा प्रशांति सिंह ने इसलिए कहा, क्योंकि 48 घंटे में उनकी इतनी बड़ी मांग पूरी हो गई. यही नहीं, इसके बारे में खुद को उनको केंद्रीय खेल मंत्री ने सूचित किया. दरअसल, नौ नवंबर को पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने अपने संसदीय क्षेत्र काशी के लोगों के साथ न केवल वर्चुअल संवाद बल्कि करोड़ों रुपए की सौगात भी दी. इस दौरान पीएम मोदी ने तीन लोगों से वर्चुअल संवाद किया. प्रशांति सिंह उनमें से एक थीं.

सिगरा स्टेडियम के बॉस्केटबाल कोर्ट से पीएम मोदी के साथ संवाद के दौरान प्रशांति सिंह ने एक मांग रख दी. मांग थी- खेलो इंडिया योजना के तहत वाराणसी में एनसीओई यानी नेशनल सेंटर ऑफ एक्सीलेंस खोलने की. उस वक्त पीएम मोदी ने हंसकर उनको जल्द मांग पूरी करने का आश्वासन दिया. ये बात यहां खत्म हो गई. आमतौर पर नेताओं से मांग और प्रस्ताव के पूरी होने की इतनी जल्दी उम्मीद नहीं होती है, लेकिन प्रशांति सिंह तब चौंक गई, जब महज 48 घंटे भी पूरे नहीं हो पाए और खुद केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने अपने टिवटर हैडल एकाउंड से उनकी मांग पूरी करने का ऐलान कर दिया.





प्रशांति सिंह का ट्वीट



ये भी पढ़ें: Bihar Election 2020: जीत के बावजूद बड़ा झटका, नीतीश सरकार के 10 मंत्री हारे चुनाव 

केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने किया ट्वीट

केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा वाराणसी में नेशनल सेंटर ऑफ एक्सीलेंस खोलने के प्रस्ताव को हरी झंडी दे दी गई है. इस रिएक्शन पर प्रशांति सिंह खुशी के मारे बल्लियों उछल गईं. उनका कहना है कि ऐसा पीएम होना और हमारी वाराणसी का सांसद होना हम सभी काशीवासियों के लिए गर्व की बात है. इतनी जल्दी रिस्पांस मिलना राजनीति के इतिहास में मैंने नहीं सुना. वाकई पीएम मोदी सबसे अलग हैं. बता दें कि सेंटर ऑफ एक्सीलेंस में 12 से 25 साल की आयुवर्ग के खिलाड़ियों का चयन किया जाता है. सेंटर पर खिलाड़ियों को बेहतर खेल कौशल, साइंटिफिक तौर पर प्रशिक्षित किया जाता है. खिलाड़ियों को उच्चस्तरीय व्यवस्था, स्पोर्ट्स किट, खेल सामान, इश्योरेंस और मेडिकल खर्च की भी सुविधा दी जाती है. सेंटर में आर्चरी, एथलेटिक्स, बॉक्सिंग, साइकिलिंग, फेसिंग, जिमनास्टिक, हॉकी, जूडो, कबड्डी, क्याकिंग एंड कैनोइंग, रोइंग, स्वीमिंग, टेबल टेनिस, ताइक्वांडो, वॉलीबाल, वेटलिफ्टिंग, रेसलिंग ओर वुशू शामिल हैं. प्रशांति सिंह का कहना है कि इस सेंटर के खुलने के बाद वाराणसी के खिलाड़ियों का भविष्य संवर जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज