Home /News /uttar-pradesh /

OPINION: जानें PM मोदी ने क्यों चुना नए साल से पहले वाराणसी और गाजीपुर

OPINION: जानें PM मोदी ने क्यों चुना नए साल से पहले वाराणसी और गाजीपुर

पीएम मोदी (फाइल)

पीएम मोदी (फाइल)

दरअसल, पार्टी हालिया विधानसभा चुनाव में हार से विचलित न होते हुए अपना पूरा फोकस उत्तर प्रदेश पर कर रही है, जहां 2014 में उसे 71 सीटों पर जीत हासिल हुई थी.

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के 16वें दौरे पर आ रहे हैं. इस दौरे पर पीएम मोदी लगभग 180 करोड़ रुपये लागत की 15 परियोजनाओं का लोकार्पण करेंगे. इसके अलावा पीएम मोदी गाजीपुर भी जाएंगे. जहां आरटीआई मैदान में प्रधानमंत्री मोदी महाराज सुहेलदेव की स्मृति में डाक टिकट जारी करेंगें. पीएम मोगी के वाराणसी और गाजीपुर के दौरें की बीजेपी की मंशा क्या है. इस मामले में वरिष्ठ पत्रकार और न्यूज18 यूपी के एग्जीक्यूटिव एडिटर अमिताभ अग्निहोत्री कहते हैं कि 2019 के लोकसभा चुनाव में बहुत कम वक्त बचा है. ऐसे में बीजेपी का पूरा फोक्स उत्तर प्रदेश पर है.

    यह भी पढ़ें: यूपी में 'पराया' हुआ अपना दल, अब योगी सरकार के कार्यक्रमों का बहिष्कार करेंगी अनुप्रिया पटेल!

    अमिताभ अग्निहोत्री कहते हैं कि अपना दल के कोटे से केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल और योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर की सुहेलदव भारतीय समाज पार्टी भाजपा से अलग होकर चुनाव लड़े ऐसी संभावना बहुत कम है. नए साल से पहले पीएम मोदी के वाराणसी और गाजीपुर के दौरे को लेकर अमिताभ अग्निहोत्री का मानना हैं कि पीएम मोदी की अब विदेश यात्रा भी विराम लग गया है लोकसभा चुनाव तक. यानी पीएम मोदी का अब पूरी फोक्स 2019 का लोकसभा चुनाव होगा.

    यह भी पढ़ें: हनुमान लंका जला सकते हैं तो हम सियासत का खेल बिगाड़ सकते हैं: राजभर

    उन्होंने बताया कि नरेंद्र मोदी वाराणसी के सांसद है और उनकी प्रतिष्ठा भी जुड़ी रहती हैं. अमिताभ अग्निहोत्री ने बताया कि सपा-बसपा का गठबंधन 2019 के लोकसभा चुनाव में खासा असर डाल सकता है. वहीं बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के दिए गए बयान का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि पहले ही अमित शाह कह चुके हैं कि पूरे देश में हमें फर्क नहीं पड़ता. अगर सपा-बसपा एक हो गए तो हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती उत्तर प्रदेश होगी.

    यह भी पढ़ें: यूपी सरकार के 3 मंत्रियों के निजी सचिव रिश्वत मांगने में फंसे, जांच के आदेश

    एनडीए में शामिल यूपी की अपना दल (एस) अनुप्रिया पटेल और ओमप्रकाश राजभर की नाराज़गी बीजेपी से कम होने का नाम नहीं ले रही है. इस सवाल पर वरिष्ठ पत्रकार अग्निहोत्री ने बताया कि एनडीए की सहयोगी पार्टियों की नारजगी कुल मिलाकर ब्लेकमेलिंग और दबाव बनाने की राजनीति है. उन्होंने दावे के साथ कहा कि तीन राज्यों में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को मिली हार के बाद से ही बीजेपी अपने ही सहयोगी पार्टियों को सोचने समझने का मौका दे दिया है.

    यह भी पढ़ें: मंदिर का निर्माण शुरू नहीं हुआ तो BJP भुगतेगी खामियाजा: महंत नरेन्द्र गिरी

    दरअसल, पार्टी हालिया विधानसभा चुनाव में हार से विचलित न होते हुए अपना पूरा फोकस उत्तर प्रदेश पर कर रही है, जहां 2014 में उसे 71 सीटों पर जीत हासिल हुई थी. यही वजह है कि पीएम नरेंद्र मोदी का नए साल से पहले वाराणसी और गाजीपुर दौरा राजनीतिक नजरिए से खास माना जा रहा है.

    बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी में आज अंतरराष्ट्रीय चावल अनुसंधान संस्थान के दक्षिण एशियाई केंद्र सहित 180 करोड़ रुपये की 15 परियोजनाओं का लोकार्पण करेंगे. 98 करोड़ रुपये की 14 परियोजनाओं का शिलान्यास भी उनके हाथ से होगा. इससे पहले प्रधानमंत्री रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा के संसदीय क्षेत्र गाजीपुर में राजभर समाज की जनसभा में महाराजा सुहेलदेव पर डाक टिकट जारी करेंगे. इसके अलावा जिले में 230 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले मेडिकल कॉलेज की आधारशिला भी रखेंगे.

    यह भी पढ़ें:

    फलों पर चिपके स्टिकर हानिकारक, बेचने वालों पर लग सकता है 2 लाख जुर्माना

    सुर्खियां: PM मोदी आज वाराणसी और गाजीपुर को देंगे 508 करोड़ की सौगात, सहयोगी दलों से परेशान भाजपा

    5 सीटें मांगने का अपना दल ने किया खंडन, कहा- अभी तक ऐसी कोई बात नहीं

    मानवाधिकार आयोग ने यूपी सरकार को भेजा नोटिस, ST SC आयोग ने मांगी रिपोर्ट

     

    Tags: Akhilesh yadav, BJP, Pm narendra modi, Samajwadi party, UP police, Uttar pradesh news, Uttar Pradesh Politics, Varanasi news, Yogi adityanath, गाजीपुर

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर