Home /News /uttar-pradesh /

police recovered 16 camels being smuggled to west bengal from rajasthan nodark

Varanasi News: तस्करों से बचे तो मुसीबत के दलदल में फंसे 16 ऊंट, जानिए पूरा मामला

वाराणसी पुलिस ने राजस्थान से काशी होकर कोलकाता जा रही 16 ऊंटों की खेप को पकड़ा था. वहीं, तस्करों के चंगुल से बचे ये बेजुबान अब नए मुसीबत के दलदल में फंस गए हैं. दरअसल इन ऊंटों रामनगर थाना क्षेत्र के टेंगरा मोड़ इलाके के करीब एक मैदान में रखा गया है, जहां की गीली मिट्टी परेशानी का सबब बन रही है.

अधिक पढ़ें ...

    रिपोर्ट-अभिषेक जायसवाल

    वाराणसी. उत्तर प्रदेश के वाराणसी (Varanasi) में मंगलवार को रामनगर पुलिस ने तस्करों के चंगुल से ‘रेगिस्तान के जहाज’ को मुक्त कराया था. दरअसल दिल्ली के एक एनजीओ की सूचना पर पुलिस ने राजस्थान से कोलकाता जा रही 16 ऊंटों की खेप को पकड़ा था. तस्करों के चंगुल से बचे ये बेजुबान अब नए मुसीबत के दलदल में फंस गए हैं. वाराणसी पुलिस ने तस्करों से इन ऊंटों को रिहा कराने के बाद रामनगर थाना क्षेत्र के टेंगरा मोड़ इलाके के करीब एक मैदान में रखा है. वहीं, जिस जगह पर ऊंटों को रखा गया है उस जगह इन दिनों बारिश के कारण मिट्टी गीली हो गई है. ऐसे में ऊंट उसी कीचड़ के बीच रहने को मजबूर है. वाराणसी में इन बेजुबानों के लिए अब समाजसेवी संस्थाओं ने आवाज उठाई है. वहीं, पुलिस ने तीन तस्‍करों को गिरफ्तार किया है.

    एनिमल पर काम करने वाली स्वाति बलानी ने बताया कि यहां का मौसम ऊंटों के लिए अनुकूल नहीं है. इसके अलावा जिस जगह पर उन्हें रखा गया है वहां उनकी देखरेख की व्यवस्था भी ठीक नहीं है. गीली मिट्टी के बीच उन्हें रखा गया है जिससे उनके न सिर्फ पैर खराब होंगे बल्कि वो बीमारी के शिकार भी होंगे. हमारी मांग है कि इनको जल्द से जल्द से राजस्थान के सिरोही स्थित कैमल सेंचुरी भेजा जाए.

    कोर्ट का लेंगे सहारा
    वहीं, आभा सिंह ने बताया कि ऊंटों को खुले मैदान में रखा गया है. इसके अलावा बारिश के बीच उन्हें गिला भूसा खाना पड़ रहा है, जो उनकी सेहत के लिए बिल्कुल भी ठीक नहीं है. इसके अलावा यदि उन्हें बहुत दिनों तक एक ही जगह बन्द रखा जाएगा तो वो बीमार होकर दम भी तोड़ देंगे. हम लोगों ने जिस जगह पर ऊंटों को रखा गया है वहां की स्तिथि भी देखी है और जल्द यदि इनके लिए प्रशासन ने व्यवस्था नहीं की या इन्हें रिहा नहीं किया तो हम लोग स्थानीय कोर्ट से इस मामले में याचिका दाखिल करेंगे.

    ये है पुलिस का तर्क
    हालांकि इन तमाम खामियों के बीच रामनगर थानाध्यक्ष अश्वनी पांडेय ने कहा कि ऊंटों के खाने पीने के लिए हम लोगों ने व्यवस्था की है, लेकिन उन्होंने कैमरे पर इस मामले पर कुछ भी बोलने से इनकार किया. बताते चलें कि इन ऊंटों को वाराणसी के रास्ते राजस्थान से कोलकाता कुर्बानी के लिए भेजा जा रहा था.

    Tags: Varanasi news, Varanasi Police

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर