होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Prayagraj Flood: गंगा-यमुना के उफान से हाहाकार, NDRF का रेस्क्यू ऑपरेशन जारी; ये नंबर बनेगा मददगार

Prayagraj Flood: गंगा-यमुना के उफान से हाहाकार, NDRF का रेस्क्यू ऑपरेशन जारी; ये नंबर बनेगा मददगार

Prayagraj Flood: प्रयागराज में गंगा-यमुना के रौद्र रूप के बाद तटीय क्षेत्र पूरी तरह से जलमग्न हो गए हैं. इस बीच एनडीआरए ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट: योगेश मिश्रा

प्रयागराज. संगम नगरी में गंगा-यमुना के रौद्र रूप के बाद तटीय क्षेत्र पूरी तरह से जलमग्न हो गए हैं. इस वजह से लाखों लोग प्रभावित हुए हैं. बहुत से ऐसे लोग हैं जो अपने मकान छोड़कर किसी रिश्तेदार या शेल्टर होम में चले गए हैं. वहीं बहुत से लोग अभी भी बाढ़ में फंसे हुए हैं जिन्हें बचाने के लिए एनडीआरएफ की टीम लगातार रेस्क्यू ऑपरेशन चला रही है.

एनडीआरएफ (NDRF) के टीम कमांडर बृजेश कुमार तिवारी ने न्यूज़ 18 लोकल से खास बातचीत में बताया कि उनकी टीम 24 अगस्त की रात प्रयागराज पहुंचने के बाद से ही लगातार रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटी हुई है. अब तक उनकी टीम के द्वारा कई लोगों का रेस्क्यू ऑपरेशन किया गया है. साथ ही राहत सामग्री भी बांटी जा रही है. वहीं, लोगों से यह भी अपील की जा रही है कि वह जल्द से जल्द किसी सुरक्षित स्थान पर चले जाएं क्योंकि जलस्तर अभी भी बढ़ना बंद नहीं हुआ है.

आपके शहर से (वाराणसी)

वाराणसी
वाराणसी

एनडीआरएफ के टीम कमांडर बृजेश कुमार तिवारी ने बताया कि उनकी टीम के द्वारा मेडिकल हेल्प भी पहुंचाई जा रही है. जबकि जिन लोगों को सर्दी जुखाम बुखार जैसे मामूली लक्षण हैं उन्हें टीम के द्वारा दवा दी जा रही है. साथ ही जो लोग गंभीर बीमारी से परेशान हैं उन्हें अस्पताल भी शिफ्ट किए जाने की पूरी व्यवस्था की गई है.

बाढ़ पीड़ितों के लिए जारी किया नंबर
बाढ़ राहत कार्य में लोगों की मदद पहुंचाने के लिए NDRF की टीम 24 घंटे उपलब्ध रहती है. बाढ़ ग्रस्त इलाकों में फंसे हुए लोग अगर एनडीआरएफ से मदद चाहते हैं तो वह इन नंबरों 7780858082, 9435353280 पर संपर्क करके मदद मांग सकते हैं. यह नंबर एनडीआरएफ टीम कमांडर के द्वारा जारी किए गए हैं. संपर्क करने के कुछ ही देर बाद एनडीआरएफ की टीम पहुंचकर बाढ़ में फंसे लोगों का रेस्क्यू करती है.

रेस्क्यू ऑपरेशन में आ रही ये दिक्‍कत
रेस्क्यू ऑपरेशन के समय कई सारी समस्याओं का सामना भी टीम को करना पड़ रहा है. टीम कमांडर ने बताया कि कई इलाकों में कंस्ट्रक्शन का काम चल रहा है जिसकी वजह से लोहे की सरिया व पिलर भी है, लेकिन जलभराव की वजह से वह साफ-साफ दिखाई नहीं देते हैं. ऐसे में बोट को नुकसान पहुंचने की आशंका बढ़ जाती है. इसके विपरीत कई ऐसी गलियों में भी जाना पड़ता है जो बहुत ही सकरी है. दरअसल जलभराव अधिक है जिसकी वजह से बिजली के तार भी बीच में आते हैं और कई इलाकों में बाढ़ होने के बावजूद भी बिजली की सप्लाई चालू थी. ऐसे में उन्हें प्रशासन को सूचना देकर बंद करवाना पड़ा है. ऐसी ही तमाम चुनौतियों के बीच एनडीआरएफ के जवान लगातार रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटे हुए हैं.

Tags: Allahabad news, Flood alert, Prayagraj Flood, UP floods

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें