काशी के कैलाश मंदिर की अफवाह के बाद सामने आई मौके की तस्वीर, जानिए क्या है सच?
Varanasi News in Hindi

काशी के कैलाश मंदिर की अफवाह के बाद सामने आई मौके की तस्वीर, जानिए क्या है सच?
मंच ने गाइडलाइन पर आपत्ति दर्ज कराते हुए कहा है कि मंदिर में सेनेटाइजर का इस्तेमाल कर प्रवेश करने पर रोक होनी चाहिए. (सांकेतिक तस्वीर)

वाराणसी के कमिश्नर दीपक अग्रवाल से न्यूज-18 ने बात की तो उन्होंने महंत परिवार के एक सदस्य का नाम लेते हुए बताया कि ये फर्जी अफवाह उड़ाई जा रही है. कैलाश मंदिर में किसी भी तरह का कोई भी हिस्सा क्षतिग्रस्त नहीं हुआ है.

  • Share this:
वाराणसी. धर्मनगरी वाराणसी (Varanasi) में श्री काशी विश्वनाथ मंदिर (Kashi Vishwanath Temple) के ठीक सामने स्थित कैलाश मंदिर (Kailash Temple) को लेकर फैली अफवाह के बाद माहौल गर्म हो गया. बुधवार की शाम ये खबर आई कि मंदिर के शिखर का कुछ हिस्सा और चारदीवारी टूटकर नीचे गिर गई है. चूंकि मंदिर इस वक्त आम श्रद्धालुओं के लिए बंद है. इसलिए ये अफवाह उड़ी. बताया गया कि मंदिर के शिखर के कुछ हिस्से के साथ चारों ओर नक्काशीदार परियां, शेर और अन्य पाषाण कलाकृतियां नीचे जमीन पर पड़ी मिलीं हैं.

सोशल मीडिया पर वायरल हुई गलत तस्वीरें

इसकी सूचना मिलने के बाद महंत परिवार के कुछ लोगों की ओर से कड़ी आपत्ति दर्ज कराई गई. क्षतिग्रस्त हिस्सों को लेकर कुछ तस्वीरें भी सोशल मीडिया पर वायरल हुईं. लेकिन जब इस बात को लेकर वाराणसी के कमिश्नर दीपक अग्रवाल से न्यूज-18 ने बात की तो उन्होंने महंत परिवार के एक सदस्य का नाम लेते हुए बताया कि ये फर्जी अफवाह उड़ाई जा रही है. कैलाश मंदिर में किसी भी तरह का कोई भी हिस्सा क्षतिग्रस्त नहीं हुआ है.



महंत परिवार पर लगा साजिश का आरोप
कमिश्नर ने बताया कि उनके मकान का एक हिस्सा खरीदा जा चुका है. बावजूद इसके वो खाली नहीं कर रहे थे. उसी हिस्से से सामान निकाला गया था, जिसको लेकर उन्होंने अफवाह उड़ाई है. कमिश्नर ने सख्त लहजे में कहा कि जिन लोगों ने भी मंदिर से जुड़ी ये अफवाह उड़ाई है, उनके खिलाफ सुसंगत धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया जाएगा. कमिश्नर ने बताया कि जो भी चाहे इसको चेक करा सकता है. वहां कोई भी हिस्सा क्षतिग्रस्त नहीं हुआ है. ये सिर्फ उन लोगों की साजिश है, जिन लोगों ने पैसे लेकर भी अब तक मकान खाली नहीं किया. इसके साथ ही मौके की एक तस्वीर भी न्यूज-18 को उपलब्ध कराई गई, जिसको देखकर कहीं से भी नहीं लग रहा है कि शिखर का कोई हिस्सा क्षतिग्रस्त हुआ है. साथ ही मंदिर से सटे हिस्से के ध्वस्तीकरण का काम होते भी दिख रहा है.

कैलाश मंदिर की फर्जी तस्वीर की गई वायरल


बता दें कि विश्वनाथ मंदिर में श्रीकाशी विश्वनाथ धाम का निर्माण कार्य हो रहा है. इसके चलते कई भवनों को प्रशासन ने उचित दाम देकर खरीदा है, जिनके ध्वस्तीकरण का काम जारी है. इसमे कुछ लोग ऐसे हैं, जिन्होंने अब तक पैसे लेकर भी मकान खाली नहीं किया है.

ये भी पढ़ें:

69000 शिक्षक भर्ती: CM योगी बोले- एक हफ्ते में पूरी करें भर्ती प्रक्रिया

लखनऊ पहुंचे श्रमिकों पर केमिकल का छिड़काव, VIDEO वायरल होने के बाद हुई कार्रवाई
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading