Hathras Case: काशी में अर्ध नग्न होकर सपाइयों ने जताया विरोध, गुनगुनाया भजन

काशी में अर्ध नग्न होकर सपाइयों ने जताया विरोध
काशी में अर्ध नग्न होकर सपाइयों ने जताया विरोध

इस मौके पर हाथरस (Hathras) की गुड़िया के गुनहगारों को फांसी, बिना घरवालों के अंतिम संस्कार कराने के दोषी अफसरों व कर्मचारियों पर मुकदमा दर्ज करने की मांग उठाई गई.

  • Share this:
वाराणसी. उत्तर प्रदेश में हाथरस कांड (Hathras Case) को लेकर जमकर सियासत हो रही है. तमाम विपक्षी दल योगी सरकार को घेर रहे हैं. शुक्रवार को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री स्व लाल बहादुर शास्त्री जी की जयंती की मौके पर वाराणसी (Varanasi) में सपा कार्यकर्ताओं ने अनोखे ढंग से हाथरस कांड पर प्रदर्शन किया. सपा के युवा कार्यकर्ताओं ने अर्धनग्न होकर गांधी प्रतिमा के नीचे भजन गाकर विरोध जताया. सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देश पर ये प्रदर्शन किया गया.

बता दें कि हाथरस की घटना के बाद जिले भर के सभी जिला, ब्लाक मुख्यालय पर ये प्रदर्शन किया गया. सभी जगह गांधी जी की प्रतिमा के नीचे दो घ्ंटे का पहले मौन व्रत रखा गया. उसके बाद भजन कार्यक्रम हुआ. वाराणसी के कचहरी स्थित महात्मा गांधी जी की प्रतिमा के नीचे समाजवादी छात्र सभा और लोहिया वाहिनी के के कार्यकर्ताओं ने अर्धनग्न हो कर भजन गुनगुनाया.

ये भी पढे़ं- हाथरस कांडः CM योगी आदित्यनाथ ने लिया समूल नाश का संकल्प, कहा-दोषियों को ऐसा दंड मिलेगा कि बनेगा उदाहरण



इस मौके पर हाथरस की गुड़िया के गुनहगारों को फांसी, बिना घरवालों के अंतिम संस्कार कराने के दोषी अफसरों व कर्मचारियों पर 302 और एससीएसटी एक्ट मुकदमा दर्ज करने की मांग उठाई गई. इस दौरान पुलिस से भी हल्की कहासुनी भी हुई.


आरोपी के पिता ने सांसद और उनकी बेटी पर लगाए आरोप
दरअसल मामले में गिरफ्तार आरोपी रामू के पिता राकेश ने आरोप लगाया कि उनके बेटे को इस मामले में सांसद राजवीर दिलेर और उनकी बेटी ने फंसवाया है. इसकी वजह यह है कि दूसरा पक्ष यानी युवती का परिवार वाल्मीकि जाति का है और सांसद भी इसी बिरादरी के हैं जबकि वे लोग (आरोपी) ठाकुर हैं.

उन्होंने कहा है कि यदि मेरा बेटा दोषी है तो उसे सरेआम गोली मार दी जाए. इस मामले में निर्दोष लोग फंसाए गए हैं. उन्होंने कहा है कि वे ठाकुर जाति के हैं. रवि उनके बड़े भाई का बेटा और संदीप सबसे बड़े भाई का नाती है. सभी निर्दोष हैं. ये उनके पड़ोसी हैं. उन्होंने कहा है कि यह घटना 14 सितंबर को हुई है. पहले केवल संदीप का नाम था. लेकिन बाद में राजवीर दिलेर की बेटी की दखल के बाद नाम बढ़वा दिए गए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज