Varanasi news

वाराणसी

अपना जिला चुनें

COVID-19: काशी विश्वनाथ के बाद अब संकट मोचन हनुमान मंदिर 25 मार्च तक बंद

वाराणसी का संकट मोचन हनुमान मंदिर 25 मार्च तक बंद

वाराणसी का संकट मोचन हनुमान मंदिर 25 मार्च तक बंद

जिला प्रशासन बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी को को कोरोना के प्रकोप से बचाने के लिए सतर्क है. प्रशासन ने पहले ही अगले आदेश तक किसी भी ऐसे सावर्जनिक आयोजन पर पाबंदी लगा दी है.

SHARE THIS:
वाराणसी. उत्तर प्रदेश में कोरोना (Corona) से बचाव को लेकर तमाम तरह के एहतियात बरते जा रहे हैं. इसी कड़ी में वाराणसी (Varanasi) के संकट मोचन हनुमान मंदिर (Sankat Mochan) को 25 मार्च तक बंद करने का आदेश दिया है. इससे पहले योगी सरकार ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए राज्य में सभी स्कूल और कॉलेज को 2 अप्रेल तक बंद करने का आदेश दिया था.

जिला प्रशासन ने जारी किया आदेश
जिला प्रशासन बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी को कोरोना के प्रकोप से बचाने के लिए सतर्क है. प्रशासन ने पहले ही अगले आदेश तक किसी भी ऐसे सावर्जनिक आयोजन पर पाबंदी लगा दी है, जिसमे भीड़ जमा हो. इसके अलावा सरकारी और निजी स्वीमिंग पुल को भी बंद करने का आदेश जारी हुआ है.





काशी विश्वनाथ मंदिर दर्शनार्थियों के लिए बंद
वहीं इससे पहले वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर को 4 दिनों के लिए दर्शनार्थियों के लिए बंद किया गया है. कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए यह निर्णय लिया गया. एएनआई के अनुसार, मंदिर में 24 मार्च तक यहां आने वाले श्रद्धालुओं को प्रवेश की अनुमति नहीं मिलेगी. लेकिन मंदिर में होने वाली दैनिक गतिविधियां जारी रहेंगी. यह जानकारी वाराणसी के डीएम कौशल राज शर्मा ने दी है. बता दें, कोरोना वायरस से से बचाव को लेकर पूरे देश में सतर्कता बरती जा रही है.

लाखों लोगों के आस्था के केंद्र बनारस के बाबा विश्वनाथ मंदिर में भी भगवान के दरबार में आने वाले भक्तों और पुजारी ने एहतियात बरतना शुरू कर दिया था. इस दौरान मंदिर में दर्शन करने के लिए आने वाले भक्त और पुजारियों को मास्क लगाकर सेनिटाइज किया जा रहा था.

लखनऊ में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 8 
बता दें कि लखनऊ में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 8 हो गई है. जबकि उत्तर प्रदेश में कुल 23 मरीजों में कोरोनावायरस की पुष्टि हुई है. स्वास्थ विभाग ने मीडिया बुलेटिन जारी करते हुए बताया कि आगरा में 8, गाजियाबाद में 2, नोएडा में 4, लखनऊ में 8, लखीमपुर खीरी में 1 मरीज में कोरोना को पुष्टि हुई है. अब तक कुल 984 टेस्ट निगेटिव पाए गए जबकि 157 के टेस्ट का इंतजार है. अब तक एयरपोर्ट पर 24580 की थर्मल स्कैनिंग हुई है.

ये भी पढ़ें:

बरेली: साक्षी मिश्रा की अचानक बिगड़ी तबीयत, अस्पताल में एडमिट

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

PM Modi Birthday: काशी में इस 'खास' तरीके से मनाया जा रहा पीएम का जन्मदिन,देखें वीडियो

PM's birthday being celebrated in this special way in Kashi

पीएम के संसदीय वाराणसी (Varanasi) में खास तरीके से बीजेपी कार्यकर्ता और आमलोग अपने सांसद का जन्मदिन मना रहे हैं. सुबह सवेरे से ही घाटों से लेकर शहर तक, हर जगह तैयारियां की गयीं हैं.

SHARE THIS:

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) का आज 71 वां जन्मदिन है. देशभर में पीएम मोदी का जन्मदिन (PM Modi Birthday) पूरे उत्साह के साथ मनाया जा रहा है. पीएम के संसदीय वाराणसी (Varanasi) में खास तरीके से बीजेपी कार्यकर्ता और आमलोग अपने सांसद का जन्मदिन मना रहे हैं. सुबह सवेरे से ही घाटों से लेकर चौक चौराहों तक पीएम मोदी के जन्मदिन पर आयोजन किए जा रहे हैं.

वाराणसी के अहिल्याबाई घाट पर ब्राह्मणों के अगुवाई में पीएम मोदी के दीर्घायु की कामना से विशेष पूजन का आयोजन किया गया. 71 बटुकों ने मां गंगा (Ganga) का विशेष पूजन अर्चन किया. फिर 71 लीटर दूध से दुग्धाभिषेक कर बाद गंगा मईया को 71 मीटर की चुनरी चढ़ाई गई. इस दौरान शंख,डमरू और घण्टा घड़ियाल की आवाज से घाट गूंजता रहा. आयोजन में सूबे के राज्यमंत्री नीलकंठ तिवारी शामिल रहे.

वाराणसी में विशेष उत्सव
राज्यमंत्री नीलकंठ तिवारी (Up Minister Nilkanth Tiwari) ने बताया कि वाराणसी में पूरे उत्साह के साथ पीएम मोदी का जन्मदिन मनाया जा रहा है. इसी अवसर पर आज हमलोगों ने मां गंगा का षोडशोपचार विधि से पूजन अर्चन कर उनके दीर्घायु की कामना की है. शहर भर में उनके जन्मदिन के अवसर पर जगह-जगह कार्यक्रम के आयोजन हो रहे हैं.

शाम को होगा दीपोत्सव
पीएम मोदी के जन्मदिन के अवसर पर शुक्रवार की शाम दीपोत्सव का भी आयोजन है. वाराणसी के सिगरा स्थित भारत माता मंदिर (Bharat Mata Mandir) को 71 हजार दीपों से सजाया जाएगा.इसके अलावा गंगा आरती और अन्य जगहों पर भी दीपोत्सव के कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है.

Varanasi News: पीएम के जन्मोत्सव पर काशी में मनाया गया दीपोत्सव,71 हजार दीपों से सजा भारत माता मंदिर

Deepotsav celebrated in Kashi on the birth anniversary of PM

पीएम के संसदीय क्षेत्र काशी (Kashi) में प्रधानमंत्री के जन्मोत्सव पर भव्य दीपोत्सव का आयोजन किया गया. वाराणसी के सिगरा स्थित भारत माता मंदिर (Bharat Mata Temple) को 71 हजार दीपों से सजाया गया.

SHARE THIS:

देश के प्रधानमंत्री और वाराणसी के सांसद नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) का आज 71 वां जन्मदिन है.पीएम के संसदीय क्षेत्र काशी (Kashi) में प्रधानमंत्री के जन्मोत्सव पर भव्य दीपोत्सव का आयोजन किया गया. वाराणसी के सिगरा स्थित भारत माता मंदिर (Bharat Mata Temple) को 71 हजार दीपों से सजाया गया.

बीजेपी नेता अशोक चौरसिया ने बताया कि पीएम नरेंद्र मोदी के जन्मोत्सव को पूरा काशी एक उत्सव की तरह मना रहा है. शहर भर में 71 बड़े आयोजन किए गए हैं. इसी कड़ी में भारत माता मंदिर में दीपदान कर पीएम मोदी के दीर्घायु की कामना की गई है.

पीएम के जन्मदिन पर CM योगी और डिप्टी सीएम ने दी बधाई, कहा- देश को आत्मनिर्भर बना रहे मोदी

UP: पीएम नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर CM योगी ने दी बधाई (File photo)

PM Modi Birthday: डिप्टी सीएम मौर्य ने लिखा,' एक-एक पल मां भारती की सेवा में समर्पित रहने वाले, विश्व के सबसे शक्तिशाली नेता, देशवासियों के हृदय सम्राट तथा हम सभी के प्रेरणा स्रोत व मार्गदर्शक, देश के यशस्वी प्रधानमंत्री आदरणीय नरेंद्र मोदी आपको जन्मदिन की हार्दिक बधाई एवं अनंत शुभकामनाएं.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 17, 2021, 17:25 IST
SHARE THIS:

लखनऊ. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) का शुक्रवार को 71वां जन्मदिन है. इस मौके पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने पीएम मोदी को बधाई दी. सीएम योगी ने कहा, अंत्योदय से आत्मनिर्भर भारत की संकल्पना को साकार कर रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जन्मदिन की शुभकामनाएं. प्रभु श्री राम की कृपा से आपको दीर्घायु व उत्तम स्वास्थ्य की प्राप्ति हो. आजीवन मां भारती की सेवा का परम सौभाग्य आपको प्राप्त होता रहे.

उधर, यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने भी ट्वीट कर पीएम मोदी को बधाई दी है. डिप्टी सीएम मौर्य ने लिखा,’ एक-एक पल मां भारती की सेवा में समर्पित रहने वाले, विश्व के सबसे शक्तिशाली नेता, देशवासियों के हृदय सम्राट तथा हम सभी के प्रेरणा स्रोत व मार्गदर्शक, देश के यशस्वी प्रधानमंत्री आदरणीय नरेंद्र मोदी आपको जन्मदिन की हार्दिक बधाई एवं अनंत शुभकामनाएं.

सीएम योगी ने पीएम मोदी को दी जन्मदिन की बधाई

सीएम योगी ने पीएम मोदी को दी जन्मदिन की बधाई

वाराणसी में लोगों ने जलाए दीए
पीएम मोदी के 71वें जन्मदिन की पूर्व संध्या पर वाराणसी में लोगों ने मिट्टी के दीए जलाए और 71 किलो के लड्डू का भोग लगाकर प्रसाद बांटा. बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिवस पर भाजपा आज से सेवा एवं समर्पण अभियान शुरू कर रही है. इसके तहत भाजपा का चिकित्सा प्रकोष्ठ 17 से 20 सितंबर तक स्वास्थ्य परीक्षण शिविर का आयोजन करेगा. युवा मोर्चा के कार्यकर्ता रक्तदान शिविर, जबकि अनुसूचित मोर्चा के कार्यकर्ता गरीब बस्तियों में फल और जरूरी सामानों का वितरण करेंगे.

Varanasi News: पूर्वांचल में बदला मौसम का मिजाज,मौसम वैज्ञानिक ने बताई ये वजह

Weather pattern changed in Purvanchal

पूर्वांचल सहित वाराणसी (Varanasi) में बीते 48 घण्टों से लगातार तेज हवाओं के साथ बारिश का दौर जारी. वाराणसी में बदले मौसम के मिजाज ने गर्मी से राहत।

SHARE THIS:

पूर्वांचल सहित वाराणसी (Varanasi) में बीते 48 घण्टों से लगातार तेज हवाओं के साथ बारिश का दौर जारी. वाराणसी में बदले मौसम के मिजाज ने गर्मी से राहत से साथ ही आम लोगो की मुश्किलें बढ़ा दी है. लगातार बारिश के कारण सड़को पर जगह-जगह जल जमाव है तो दूसरे तरफ लोग घाटों पर मस्ती भी करते दिख रहे हैं.

बीएचयू (BHU) के मौसम विभाग के प्रोफेसर डॉ मनोज श्रीवास्तव ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में बने लो प्रेसर के कारण पूर्वी उत्तर प्रदेश में बारिश दौर जारी है. आने वाले दो तीन दिनों तक  मौसम ऐसे ही बना रहेगा. रूक-रूक कर बारिश होगी.

घाटों पर मस्ती करते लोग
वाराणसी में बारिश के कारण मौसम खुशनुमा है. जिसके कारण वाराणसी के प्रसिद्ध घाटों पर लोग मस्ती करते भी नजर आ रहे हैं. उधर दूसरी तरफ तेज हवाओं और बारिश के कारण बीते 3 दिनों से गंगा में नाव का संचालन भी नहीं हो रहा,जिससे नाविक भी खासा परेशान है. अस्सी घाट पर नाव संचालन करने वाले सोनू माझी ने बताया कि बारिश के कारण घाटों पर दो दिनों से पर्यटकों के आने की संख्या बेहद कम हो गई है.

Ropeway in Varanasi: प्लान तैयार,काशी को मिलेगा यूपी के सबसे बड़े रोपवे का तोहफा

Kashi will get the gift of UP's biggest ropeway

बाबा विश्वनाथ (Kashi Vishwanath) की नगरी काशी (Kashi) में पर्यटक रोपवे का रोमांचक सफर कर सकेंगे. कैंट से गोदौलिया के बीच यूपी के सबसे बड़े रोपवे (Ropeway) का प्लान है

SHARE THIS:

यूपी के चित्रकूट और मिर्जापुर के बाद अब बाबा विश्वनाथ (Kashi Vishwanath) की नगरी काशी (Kashi) में पर्यटक रोपवे का रोमांचक सफर कर सकेंगे. कैंट से गोदौलिया के बीच यूपी के सबसे बड़े रोपवे (Ropeway) का तोहफा जल्द ही काशी को मिलेगा. रोपवे परियोजना को योगी सरकार ने मंजूरी दे दी है. सब कुछ ठीक रहा तो इसी साल के नवम्बर से रोपवे निर्माण का काम भी शुरू हो जाएगा.

केंद्र सरकार की सहयोगी कम्पनी वैपकॉस ने इसका खाका तैयार किया है. यूपी के सबसे बड़े रोपवे परियोजना में करीब 400 करोड़ रूपय खर्च होंगे. गोदौलिया से कैंट रेलवे स्टेशन के बीच प्रस्तावित रोपवे परियोजना में चार स्टेशन बनाए जाएंगे. कैंट से मलदहिया,लहुराबीर, नई सड़क,गिरजाघर होते हुए गोदौलिया तक आएगी.

8 से 10 हजार लोग उठा सकेंगे फायदा
वाराणसी के कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने बताया कि रोपवे सिस्टम से पर्यटकों के साथ ही आम लोगों को भी लोकल ट्रांसपोर्ट के रूप में अच्छी सुविधा मिलेगी. इससे शहर के ट्रांसपोर्ट का दवाब भी कम होगा और जाम के झाम से भी लोगो को मुक्ति मिलेगी. पब्लिक ट्रांसपोर्ट के तौर पर प्रतिदिन 8 से 10 हजार लोग इसका फायदा उठा सकेंगे.

दूसरे चरण में खिड़कियां घाट से अस्सी तक होगा विस्तार
कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने बताया कि पहले पायलट प्रोजेक्ट के तहत पहले फेज में कैंट से गोदौलिया के बीच इसकी शुरुआत होगी. उसके बाद दूसरे फेज में खिड़कियां घाट से सिटी स्टेशन और अस्सी घाट (Assi Ghat) के बीच इसका विस्तार किया जाएगा. जिसके पर्यटक रोपवे के जरिए काशी के ऐतिहासिक घाटों का दीदार कर सकेंगे.

UP Weather Update: जानिए क्यों हो रही है ऐसी तूफानी बारिश? लखनऊ सहित कई जिलाें में टूटे रिकॉर्ड

UP: भारी बारिश के चलते लखनऊ के गोमतीनगर में बीच सड़क पर गिरा पेड़.

Lucknow News: लखनऊ स्थित मौसम विभाग के निदेशक जेपी गुप्ता ने बताया कि बारिश की ये रफ्तार आज गुरुवार को पूरे दिन जारी रहेगी. कई जिलों में तो इस मॉनसूनी सीजन की सबसे ज्यादा बारिश रिकार्ड की गयी है.

SHARE THIS:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में पश्चिमी यूपी (Western UP) के कुछ जिलों को छोड़ दें तो पूरे सूबे में बारिश (Rainfall) का सिलसिला कमोबेश कल बुधवार से ही चल रहा है. बारिश का ज्यादा जोर लखनऊ (Lucknow) और इसके आसपास के जिलों में देखने को मिल रहा है. लखनऊ में तो बीती रात 12 बजे से ही बरसात थमी नहीं है. और तो और इसमें लगातार बढ़ोतरी ही देखने को मिल रही है. तेज हवाओं के साथ हो रही बारिश के कारण शहर में जगह जगह पेड़ भी गिर गये हैं.

प्रदेश के चार ऐसे जिले हैं जहां पिछले 24 घण्टों में 100 मिलीमीटर से ज्यादा बारिश हो चुकी है. लखनऊ में बुधवार से अभी तक 107 मिलीमीटर, रायबरेली में 186 मिमी, सुल्तानपुर में 118 मिमी और अयोध्या में 104 मिमी बारिश हो चुकी है. रायबरेली में तो स्कूलों में छुट्टी कर दी गयी है. इसके अलावा पिछले 24 घण्टों में गोरखपुर में 96.6 मिमी, वाराणसी में 88 मिमी, बाराबंकी में 94 मिमी और बहराइच में 30 मिमी बारिश दर्ज की गयी है.

लखनऊ स्थित मौसम विभाग के निदेशक जेपी गुप्ता ने बताया कि बारिश की ये रफ्तार आज गुरुवार को पूरे दिन जारी रहेगी. रात से या शुक्रवार की सुबह से इसकी तीव्रता थोड़ी कम हो सकती है. हालांकि इस पूरे हफ्ते छिटपुट बारिश जारी रहेगी. कई जिलों में तो इस मॉनसूनी सीजन की सबसे ज्यादा बारिश रिकार्ड की गयी है.

क्यों हो रही है ऐसी तूफानी बारिश?

निदेशक जेपी गुप्ता ने बताया कि मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है. इसकी वजह से बंगाल की खाड़ी से आने वाली हवायें उस ओर बढ़ रही हैं. मॉनसूनी सीजन में हवा में नमी भरपूर हो रही है. बंगाल की खाड़ी से चलकर मध्यप्रदेश की ओर बढ़ने वाली नम हवाओं के कारण मध्य यूपी में जोरदार बारिश हो रही है. संभावना ये है कि कल शुक्रवार तक इसमें काफी कमी आ जायेगी. तेज हवायें भी थम जायेंगी.

लखनऊ में भारी बारिश से कई मुख्य रास्ते बंद, गोमतीनगर सहित तमाम इलाकों में भरा पानी

वैसे तो पश्चिमी यूपी के जिलों में भी हल्की बदली छायी हुई है लेकिन, ज्यादा बारिश की फिलहाल संभावना नहीं जताी गयी है. राजस्थान, हरियाणा और उत्तराखण्ड की सीमा से लगने वाले यूपी के जिलों में फिलहाल बारिश का ज्यादा जोर देखने को नहीं मिल रहा है.

बीती रात से अभी तक 7 की मौत

तेज हवाओं के साथ हो रही बारिश से जान- माल को भी काफी नुकसान पहुंचा है. न्यूज़ 18 को मिली जानकारी के मुताबिक बीती रात से अभी तक कुल 7 लोगों की मौत हो चुकी है. सभी लोगों की मौत कच्ची दीवार गिरने की चपेट में आने से हुई है.

हथिया नक्षत्र से पहले ही लखनऊ समेत कई इलाकों में जोरदार बारिश, ऑरेंज अलर्ट भी जारी

मिली जानकारी के अनुसार जौनपुर में 4, सीतापुर में 1, अयोध्या  में 1 और रायबरेली  में भी 1 की मौत हुई है. बारिश का सिलसिला ऐसे ही चलता रहा तो कई हादसों की आशंका बनी हुई है.

पूर्वांचल की सियासत, योगी सरकार को घेरने के लिए ओमप्रकाश राजभर ने खेला मुस्लिम और जाति कार्ड

सुभासपा के नेता ओमप्रकाश राजभर,

UP Politics : भाजपा के साथ किसी भी सूरत में गठबंधन से इनकार कर चुके राजभर ने एक तरफ पूर्वांचल को अलग राज्य बनाए जाने का मुद्दा उठाया तो दूसरी तरफ माफियाओं पर कार्रवाई को लेकर धर्म और जातिगत भेदभाव के आरोप खुलकर लगाए.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 16, 2021, 11:23 IST
SHARE THIS:

वाराणसी. उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनावों से कुछ महीनों पहले ही सियासत के तेवर तल्ख हो चले हैं. प्रदेश में पहले मंत्री रहे चुके और सुभासपा के प्रमुख ओमप्रकाश राजभर ने प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार के खिलाफ सुर बुलंद करने का सिलसिला जारी रखा है. भाजपा के साथ किसी कीमत पर हाथ न मिलाने का दावा कर चुके राजभर ने अब योगी सरकार पर अपराधियों के प्रति धर्म और ​जाति के आधार पर बर्ताव करने का आरोप लगाया है. तीखे शब्दों में राजभर ने कहा कि सरकार यह देखकर अपराधियों के साथ सलूक कर रही है कि ‘वो हिंदू है या मुसलमान, या ब्राह्मण है या यादव.’

करीब तीन हफ्ते पहले राजभर ने तब सुर्खियां बटोरी थीं, जब उन्होंने कहा था कि वो ‘सीएम या डिप्टी सीएम बनाए जाने पर भी बीजेपी में नहीं जाएंगे’. अब योगी सरकार पर भेदभाव का आरोप लगाते हुए राजभर ने कहा, ‘मुख्तार अंसारी और अतीक अहमद मुसलमान हैं इसलिए बाहुबली या माफिया कहे जा रहे हैं. वहीं हिंदू होने के कारण बृजेश सिंह एमएलसी बनाए जा रहे हैं और धनंजय सिंह की पत्नी को ज़िला पंचायत में लाया जा रहा है.’

ये भी पढ़ें : हाथरस गैंगरेप: घुटन और सामाजिक बहिष्कार झेल रहा पीड़ित परिवार, इंसाफ की आस में लिए बैठा है बेटी की अस्थियां

राजभर ने साफ कहा कि यह तय करना अदालत का काम है कि कौन अपराधी है, कौन नहीं. ‘लेकिन प्रदेश सरकार का रुख साफ है कि जो बीजेपी के साथ है, वह निर्दोष है और जो खिलाफ है, वह माफिया है.’ राजभर ने वाराणसी ने मीडिया से कहा कि ‘ब्राह्मण, यादव, राजभर के नाम पर चल रहे जातिवाद के सिलसिले को खत्म किया जाना चाहिए.

uttar pradesh news, up news, up election, up leader, political leaders, उत्तर प्रदेश न्यूज़, यूपी न्यूज़, उत्तर प्रदेश चुनाव

सुभासपा नेता राजभर ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सरकार की आलोचना की.

‘पूर्वांचल बनेगा नया प्रदेश, अगर…’
राजभर की पार्टी के प्रदेश में चार विधायक हैं और इन्हीं के दम पर उन्होंने भाजपा सरकार को चुनौती देते हुए कहा, ‘हम बीजेपी सरकार की अर्थी को कांधा देंगे.’ यही नहीं, पूर्वांचल की राजनीति का मुद्दा उठाते हुए राजभर ने बड़ा बयान यह भी दिया कि अगर उनके भागीदारी मोर्चे को सत्ता की चाबी मिली तो उप्र के पूर्वांचल को नया राज्य बनाने का प्रस्ताव केंद्र को भेजा जाएगा.

राजभर ने ऐसे बताया चुनावी एजेंडा
एक तरह से अपने चुनावी घोषणा पत्र को ज़ाहिर करते हुए उन्होंने और कई वादे और इरादे बताए. राजभर ने कहा कि मोर्चे की सरकार बनी तो पांच साल तक घरेलू बिजली मुफ्त होगी. गरीबों के लिए इलाज की सुविधा मुफ्त की जाएगी. अमीर और गरीब तक समान शिक्षा पहुंचाने का तंत्र बनाया जाएगा. यही नहीं, बीए तक की शिक्षा मुफ्त दी जाएगी. मासिक राशन बढ़ाया जाएगा और पहली प्राथमिकता के तहत राज्य में शराबबंदी लागू कर दी जाएगी.

Varanasi News: इस 'खास' तरीके से निर्मल होगी गंगा,योगी सरकार ने तैयार किया प्लान

Ganga will be clean in this special way Yogi government has prepared a plan

पीएम के संसदीय क्षेत्र वाराणसी (Varanasi) में जल्द ही गंगा अब पहले से स्वच्छ और निर्मल होगी. सूबे की योगी सरकार (Yogi Goverment) ने इसका प्लान तैयार किया है

SHARE THIS:

पीएम के संसदीय क्षेत्र वाराणसी (Varanasi) में जल्द ही गंगा अब पहले से स्वच्छ और निर्मल होगी. सूबे की योगी सरकार (Yogi Goverment) ने इसका प्लान तैयार कर लिया है. नेचुरल तरीके से वाराणसी में गंगा (Ganga) को निर्मल किया जाएगा. मत्स्य विभाग को इसकी जिम्मेदारी सौंपी गई है. इसके लिए वाराणसी मंडल के तीन जिलों में गंगा में 3 लाख मछलियां छोड़ी जाएगी. इनमे से डेढ़ लाख मछलियां अकेले वाराणसी में छोड़ी जाएगी.

इसी महीने के अंतिम सप्ताह में वृहद आयोजन में एक दिन में 3 लाख मछलियों को छोड़ा जाएगा. जिला मत्स्य अधिकारी एन एस रहमानी ने बताया कि गंगा में प्रति किलोमीटर मछलियों की संख्या को बढ़ाने के साथ नेचुरल तरीके से गंगा की सफाई के लिए ये कदम उठाया जा रहा है.

गंगा का ऑर्गेनिक लोड होगा कम
गंगा में मछलियों की संख्या बढ़ने से गंगा का ऑर्गेनिक लोड कम होगा. इसके अलावा गंगा के इको सिस्टम भी ठीक होगा और गंगा का जल भी पहले भी साफ और स्वच्छ होगा.

मछली पालन को मिलेगा बढ़ावा
मत्स्य अधिकारी ने बताया कि सरकार के इस प्रयास से मछली पालन को भी बढ़ावा मिलेगा. हर साल मछलियों के जो अंडे विकसित नहीं हो रहे उन अंडों को हम लोग आर्टिफिशियल तरीके से नर्सरी में रखकर उनका पालन करेंगे और फिर उन मछलियों को गंगा में छोड़ दिया जाएगा.

Varanasi: अयोध्या के फैसले के बाद गर्मा रहा है काशी-विश्वनाथ मामला, दाखिल हुए 3 नए वाद, सुनवाई आज

काशी विश्वनाथ परिसर को लेकर दाखिल हुए तीन नए वाद

Varanasi News: रामनगरी अयोध्या में आए सुप्रीम फैसले के बाद शिवनगरी काशी का माहौल धीरे धीरे गरमा रहा है. यूपी चुनाव से पहले विश्वनाथ मंदिर परिक्षेत्र स्थित ज्ञानवापी मस्जिद के मुकदमे की सुनवाई हाइकोर्ट पहुंच गई है. तो वहीं सिविल जज की सीनियर डिवीजन अदालत में तीन और नए वाद दाखिल हुए हैं. इन पर आज सुनवाई होनी है.

SHARE THIS:

वाराणसी. रामनगरी अयोध्या में आए सुप्रीम फैसले के बाद शिवनगरी काशी का माहौल धीरे धीरे गरमा रहा है. यूपी चुनाव से पहले विश्वनाथ मंदिर (Vishwanath Temple) परिक्षेत्र स्थित ज्ञानवापी मस्जिद के मुकदमे की सुनवाई हाइकोर्ट पहुंच गई है. 1991 से चल रहे इस केस में इस साल आठ अप्रैल को सिविल जज सीनियर डिवीजन फास्ट ट्रैक कोर्ट ने पुरातात्विक सर्वेक्षण के आदेश पर दिए थे, लेकिन बीती नौ सितंबर को हाईकोर्ट प्रयागराज ने इस पर रोक लगा दी. मामले की सुनवाई के लिए अगली तारीख तय करते हुए सभी पक्षों को सूचित किया है.

इसी बीच अब वाराणसी में सिविल जज की सीनियर डिवीजन अदालत में तीन और नए वाद दाखिल हुए हैं. जिसमें एक वाद खुद विश्वेश्वर महादेव के नंदी की ओर से दाखिल है. बाकी एक वाद विश्वेश्वर और दूसरा लाट भैरव मुक्ति को लेकर दाखिल हुआ है. आदि विश्वेश्वर ज्योर्तिलिंग की ओर से वादमित्र के रूप में महंत शिव प्रसाद पांडेय, सूबेदार सिंह यादव और संतोष कुमार सिंह ने वाद दखिल करते हुए ज्ञानवापी परिसर में पूजा करने की अनुमति मांगी है. साथ ही पूरे परिसर को हिंदुओं को सौंपने की मांग की. इस केस में सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड, अंजुमन इंतजामियां मसाजिद कमेटी के साथ काशी विश्वनाथ ट्रस्ट को भी पक्षकार बनाया गया है.

आज सुनवाई करेगा कोर्ट

दूसरा वाद आदि विश्वेश्वर महादेव नंदी की तरफ से दाखिल हुआ है, जिसकी मांग का भी लब्बोलुआब कुछ यही है. नंदी के मुंह की दिशा को लेकर अक्सर हिंदुवादी संगठन और संत सवाल उठाते रहे हैं. दोनों वाद प्रकीर्ण वाद के रूप में कोर्ट में दर्ज हुए और इस पर अगली तारीख 16 सितंबर या​नि आज लगी है. गुरुवार को ये तय होगा कि ये केस आगे चलेगा कि नहीं.

लाट भैरव की मुक्ति को लेकर वाद

सिविल जज सीनियर डिवीजन रवि कुमार की अदालत में ही वाराणसी के सरैयां स्थित लाट भैरव को मुक्ति दिलाने के लिए वाद दाखिल किया गया है. कोर्ट ने मूल वाद के रूप में दर्ज कर अगली सुनवाई के लिए 21 अक्टूबर की तारीख लगी है. ये मुकदमा सरैया निवासी अनुराग दिवेदी, वीरेंद्र कुमार, आशुतोष पांडेय ने अधिवक्ता मदन मोहन यादव के जरिए दाखिल किया है.

गौरतलब है कि काशी में अष्ट भैरव में शामिल लाट भैरव को कपाल भैरव के नाम से भी जाना जाता है. एडवोकेट मदन मोहन ने बताया कि काशी प्रथम कपाल भैरव का पुराणों में भी जिक्र है और शैव परंपरा के तांत्रिक अनुष्ठान कपाल भैरव के मंदिर में संपादित हुआ करता था. मदन मोहन ने दावा किया कि सन 1669 में औरंगजेब के आदेश से इसे ध्वस्त किया गया और फिर जमीन में गाड़े गए शव के हरे रंग का कपड़ा बिछाकर इसके कब्रिस्तान होने का दावा किया गया.

BHU की जूली कैसे बनी त्रिपुरा की हिना, तस्वीरों से समझें ऐसे चल रहा था नीट में चीट का खेल

NEET Solver Gang: बड़े ही शातिर तरीके से गैंग बदल देता था एडमिट कार्ड पर फोटो

Varanasi News: इस गैंग में दो टीमें काम करती हैं. एक कोचिंग संस्थानों में तैयारी कर रहे रईस अभ्यर्थियों पर नजर रखती है तो दूसरी पासआउट उन मेडिकल स्टूडेंट्स पर, जो मेधावी हैं, लेकिन गरीब हैं. फिर सौदा तय होता है. उसके बाद तकनीक का सहारा लिया जाता है.

SHARE THIS:

वाराणसी. नीट-यूजी परीक्षा में पकड़े गए सॉल्वर गैंग से जैसे-जैसे पूछताछ आगे बढ़ रही है, वैसे-वैसे नए नए खुलासे हो रहे हैं. इस खबर और कुछ तस्वीरों के जरिए हम आपको समझाते हैं कि कैसे ये सॉल्वर गैंग इस खेल को अंजाम देता था. वाराणसी में नीट की परीक्षा में साल्वर के रूप में पकड़ी गई बीएचयू (BHU) के बीडीएस सेकेंड इयर की छात्रा जूली के बारे में पूछताछ में ये जानकारी निकल कर आई है कि वो त्रिपुरा की हिना की जगह एग्जाम देने पहुंची थी. आपके मन मे सवाल उठ रहा होगा कि कैसे?

दरअसल, इस गैंग में दो टीमें काम करती हैं. एक कोचिंग संस्थानों में तैयारी कर रहे रईस अभ्यर्थियों पर नजर रखती है तो दूसरी पासआउट उन मेडिकल स्टूडेंट्स पर, जो मेधावी हैं, लेकिन गरीब हैं. फिर सौदा तय होता है साल्वर के जरिए पेपर कराने का. उसके बाद तकनीक का सहारा लिया जाता है. मूल अभ्यर्थी की तस्वीर के साथ साल्वर की तस्वीर को कुछ सॉफ्टवेयर के जरिए एडिट करके हू-ब-हू मिलता जुलता चेहरा तैयार किया है.

कैसे, इसकी बानगी इस तस्वीर से समझिए. खबर में बाएं तरफ सबसे ऊपर त्रिपुरा की हिना बिस्वास है जो कि मूल अभ्यर्थी है. बाएं तरफ नीचे बीएचयू की जूली है, जो साल्वर हैं. अंत में कैसे धीरे-धीरे फोटो एडिट करते हुए नई तस्वीर तैयार की गई और फिर एडमिट कार्ड में चस्पा हुई.

फोन पर बात नहीं करता, संदेश कोरियर करता है पीके
सॉल्वर गैंग का मास्टर माइंड बिहार का कोई पीके है, जिसके बारे में अभी तक पकड़े गए आरोपियों में कोई पक्की जानकारी इसलिए नहीं दे पाया कि पीके पूरी तरह से अंडरकवर रहता है. यहां तक कि उसे अगर कोई संदेश गैंग के किसी सदस्य के पास भेजना होता है तो वो कोरियर करता है, न कि फोन.

neet solver gang varanasi

सॉफ्टवेयर की सहायता से एडिट की जाती थी फोटो

मंगलवार को वाराणसी कमिश्नरेट पुलिस ने बिहार की रहने वाली और बीएचयू की बीडीएस छात्रा जूली के भाई अभय को भी वाराणसी के पांडेयपुर के पास से गिरफ्तार कर लिया. अभय के साथ ओसामा और दूसरे शख्स को भी पकड़ा गया है. पूर्वांचल के गाजीपुर का रहने वाला ओसामा शाहिद केजीएमयू लखनऊ में अंतिम वर्ष का छात्र है. ओसामा के कब्जे से नीट प्रवेश परीक्षा के कई दस्तावेज बरामद हुए. हालांकि पुलिस के डर से उसने मोबाइल फोन के डाटा को डिलीट कर सबूत मिटाने की कोशिश की लेकिन अब साइबर एक्सपर्ट डाटा रिकवरी में जुट गए हैं.

neet solver gang, varanasi news

बिहार रवाना हुई टीम
जूली पटना बिहार के थाना बहादुरपुर के वैष्णवी कॉलोनी संदलपुर की रहने वाली है. पिता सब्जी बेचते हैं. वहीं गैंग का सरगना पीके और डील कराने वाला विकास भी बिहार का है. ऐसे में वाराणसी के पुलिस कमिश्नर ए सतीश गणेश ने स्पेशल आफीसर्स की टीम बिहार रवाना कर दी है. आगे का एक्शन बिहार पुलिस की मदद से होगा.

क्या है वो हिंदू स्टडीज कोर्स जो बीएचयू ने शुरू किया है

बीएचयू ने एमए के स्तर पर हिंदू स्टडीज कोर्स शुरू किया है.(File photo)

बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी ने जब इस साल हिंदू स्टडीज को लेकर मास्टर्स डिग्री कोर्स शुरू किया तो इस पर तरह तरह की प्रतिक्रियाएं भी हुईं. इस कोर्स में दाखिला लेने की तारीख तो बीत चुकी है लेकिन जानते हैं कि ये कोर्स है क्या औऱ यूनिवर्सिटी ने इसको क्यों शुरू किया.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 15, 2021, 11:25 IST
SHARE THIS:

बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (बीएचयू) ने हाल ही में एक कोर्स शुरू किया है, जो इन दिनों खबरों में है. इस कोर्स का नाम है हिंदू स्टडीज. ये इसी साल के शैक्षिक सत्र से यूनिवर्सिटी में शुरू किया जा रहा है. ये कोर्स मास्टर्स डिग्री यानि एमए कोर्स होगा. इसे बीएचयू का भारत अधय्यन केंद्र की फैकल्टी ऑफ आर्ट्स शुरू कर रहा है.

हालांकि हिंदू स्टडीज के हल्के फुल्के कोर्स तो अब तक कई संस्थाएं कराती रही हैं. लेकिन किसी विश्वविद्यालय ने पहली बार इस तरह का एक कोर्स तैयार किया है और एमए के स्तर पर इसकी पढाई होगी. माना जा रहा है कि ना केवल देश के छात्र बल्कि विदेशी छात्र भी इसे पढ़ने में दिलचस्पी दिखाएंगे.

दरअसल ये कोर्स प्राचीन भारत के गौरव से जुड़ा हुआ ज्यादा है. इसमें फिलास्फी, भाषा, परंपरा, धर्म, वैदिक परंपराएं सभी कुछ आ जाएंगे. इस कोर्स के जरिए छात्र भारतीय संस्कृति और हिंदूज्म से तार्किक दृष्टिकोण के साथ परिचित होंगे. इस कोर्स में बीएचयू के कई विभाग अपना योगदान देंगे.

इस कोर्स को क्यों शुरू किया गया
यूनिवर्सिटी का कहना है कि वो इस तरह के कोर्स पर लंबे समय से विचार कर रहे थे. अब इसे शुरू कर दिया गया है. इसकी जरूरत इसलिए भी महसूस की गई क्योंकि ऐसा कोई कोर्स कहीं इस तरह से नहीं था. क्रिश्चियन और इस्लामिक देशों में धर्म आधारित बहुत से कोर्स चलते रहते हैं लेकिन भारत में अब तक पूरी तरह तैयार किया गया ऐसा कोई कोर्स हिंदू स्टडीज को लेकर नहीं था.

बीएचयू के हिंदू स्टडीज कोर्स में रामायण और महाभारत समेत पुराणों और वेदों को शामिल किया गया है. (फाइल फोटो)

इसे कौन पढ़ सकता है
कोई भी इस कोर्स में दाखिल हो सकता है. इसके लिए ये जरूरी नहीं होगा कि उसको आर्ट्स का छात्र होना चाहिए. आईटी तकनीक से लेकर साइंस डिग्री लेने वाले भी इस पढ़ सकते हैं. ये दो साल का एमए होगा. 04 सिमेस्टर्स में 16 पेपर्स की पढ़ाई होगी. हालांकि इसके दाखिले की तारीख तो इस साल निकल चुकी है. इसकी आखिरी तारीख 07 सितंबर थी.

इसमें क्या पढ़ाया जाएगा
इसमें तत्व ज्ञान, धर्म, रामायण और महाभारत की प्रमन विधियां और अभ्यास, पुराण, प्राचीन भारत में संवाद परंपरा, संस्कृत और पश्चिमी देशों की हिंदू धर्म के प्रति उत्सुकता के नजरिए से भी इसे पढाया जाएगा. इस कोर्स में हिंदू फिलास्फी, तत्व मीमांस का गहन विश्लेषण, धर्म कर्म मीमांस और प्रमन मीमांसा जैसी बातें शामिल रहेंगी.संस्कृत भी इसमें शामिल रहेगी.इसमें प्राचीन भारत में सेना,सैन्यकला, सेना में महिलाएं, विज्ञान और रणनीति जैसे विषय भी रहेंगे.

पाठ्यक्रम के संचालन में मुख्य भूमिका फिलॉस्फी डिपार्टमेंट की होगी जो हिंदू धर्म की आत्मा, महत्वाकांक्षाओं और हिंदू धर्म की रूपरेखा के बारे में बताएगा. प्राचीन इतिहास और संस्कृति विभाग इसमें प्राचीन व्यापारिक गतिविधियों, वास्तुकला, हथियारों, महान भारतीय सम्राटों और उनके उपयोग में आने वाले उपकरणों के बारे में जानकारी देने की रहेगी. संस्कृत विभाग प्राचीन शास्त्रों, वेदों और प्राचीन अभिलेखों के व्यावहारिक पहलुओं की जानकारी देगा.

क्या ऐसे कोर्स कहीं और भी पढाए जाते हैं
श्रीश्री यूनिवर्सिटी ने भी ऐसा ही कोर्स शुरू किया है. साथ ही आक्सफोर्ड में हिंदू स्टडीज केंद्र है, जिसमें कई तरह के ऐसे छोटे कोर्स वहां पढाए जाते हैं. जिसमें योग को भी शामिल किया गया है.

Varanasi News: बापू पर शोध,अध्ययन,पर्यटन का नया केंद्र होगा काशी विद्यापीठ जानिए क्या है पूरा प्लान

Kashi Vidyapeeth will be the new center of research study tourism on Bapu

देश की सांस्कृतिक राजधानी काशी (Kashi) जल्द ही राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Mahatama Gandhi) के शोध,अध्ययन और पर्यटन का नया केंद्र बनेगा.

SHARE THIS:

देश की सांस्कृतिक राजधानी काशी (Kashi) जल्द ही राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Mahatama Gandhi) के शोध,अध्ययन और पर्यटन का नया केंद्र बनेगी. इसके लिए महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ (MGKVP) विश्वविद्यालय ने पूरा प्लान तैयार कर लिया है. काशी विद्यापीठ में बापू के कमरे को म्यूजियम बनाने के साथ ही उन पर शोध और स्पेशल शार्ट टर्म कोर्सेस की शुरुआत की जाएगी. विश्वविद्यालय प्रशासन ने संस्कृति मंत्रालय को इसका प्रस्ताव भेजा है.

विश्वविद्यालय स्थित गांधी अध्ययन केंद्र के अलावा बापू के उस कमरे को भी म्यूजियम के तौर पर विकसित किया जाएगा,जहां राष्ट्रपिता महात्मा गांधी काशी प्रवास के दौरान रहा करते थे. इसके अलावा पर्यटकों को गांधीवाद से गांधीगिरी तक की जानकारी गांधी अध्ययन केंद्र में ऑडियो वीडियो के माध्यम से दी जाएगी. अध्ययन पीठ की लाइब्रेरी को भी डिजिटल किया जाएगा. इन सब के बाद काशी विद्यापीठ नए कल्चरल हेरिटेज के तौर पर सामने आएगी.

सात दिन तक काशी विद्यापीठ में ठहरे थे बापू
युवा पीढ़ी को बापू के सादगी और संघर्षो से रूबरू कराने के लिए बापू के उस कमरे को म्यूजियम के तौर पर विकसित किया जाएगा, जहां विश्वविद्यालय के स्थापना के बाद 1934 में काशी प्रवास के दौरान बापू विश्वविद्यालय के मानविकी संकाय के एक कमरे में सप्ताह भर रुके थे.

पढ़ाए जाएंगे गांधी,शुरू होगा शोध और शार्ट टर्म कोर्स
राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने 1921 में बनारस में जिस विश्वविद्यालय की स्थापना की थी. 100 साल बाद उसी विश्वविद्यालय में उन्हें पढ़ाया जाएगा. काशी विद्यापीठ में छात्र जल्द ही महात्मा गांधी पर शोध के साथ ही स्पेशल शार्ट टर्म कोर्स भी कर सकेंगे. नए सत्र से इसकी शुरुआत हो सकती है. कुलपति प्रोफेसर ए के त्यागी ने बताया कि काशी विद्यापीठ को कल्चरल हेरिटेज के रूप में विकसित  किया जाएगा.

Varanasi News: बिन बारिश सड़के बनी तालाब,अब लोगो को सता रहा ये डर

The road of Mahmanapuri coloni became a pond

वाराणसी के बीएचयू (BHU) से सटे महामनापुरी कॉलोनी में बीते दो महीनें से सड़क तालाब में तब्दील हो गई है.

SHARE THIS:

उत्तर प्रदेश के वाराणसी (Varanasi) में डेंगू,मलेरिया के बढ़ते कहर के बीच सड़को पर भरा पानी लोगो के लिए आफत बन गया है. वाराणसी के बीएचयू (BHU) से सटे महामनापुरी कॉलोनी में बीते दो महीनें से सड़क तालाब में तब्दील हो गई है. हालात ये है कि कॉलोनी में रहने वाले लोगो को हर दिन सड़क पर भरे पानी से आना जाना होता है. सड़क पर इस जलजमाव के कारण कई बार लोग हादसे का शिकार भी होते हैं.

जितेंद्र तिवारी ने बताया कि बीते दो महीने से ये समस्या लगातार बनी है. पांच बार आईजीआरएस पोर्टल पर इसकी शिकायत की गई है लेकिन आज तक समस्या का समाधान नहीं हुआ है. स्थानीय वरुण सिंह भी बताते है कि जलजमाव के कारण आस पास के लोग डेंगू,मलेरिया और वायरल जैसी बीमारियों के शिकार हो रहे हैं लेकिन अफसर शिकायत के बाद भी कोई एक्शन नहीं ले रहे हैं.

गोवंश की तस्करी पर CM योगी का बड़ा एक्शन, UP में 150 से ज्यादा अवैध स्लाटर हाउस को किया बंद

UP: गोवंश की तस्करी पर CM योगी का बड़ा एक्शन (File photo)

UP News: पुलिस विभाग के जुलाई तक के आंकड़ों के मुताबिक पिछले साढ़े चार साल में 319 गो तस्कर माफिया को गिरफ्तार किया गया है. साथ ही दो आरोपियों की कुर्की और 14 पर रासुका लगाया गया है.

SHARE THIS:

लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने प्रदेश में गोवंश संरक्षण और संवर्धन का एक तरफ जहां बीड़ा उठा रखा है. वहीं, सख्ती से गो तस्करी (Cow Smugglers) और अवैध स्लाटर हाउस के संचालन पर रोक लगा रखी है. प्रदेश में 150 से ज्यादा अवैध स्लाटर हाउस को बंद कराया गया है. इसके अलावा 356 गौ तस्कर माफिया को चिह्नित करते हुए 1823 आरोपियों के खिलाफ मुकदमा किया गया है. प्रदेश में पहली बार 68 गो तस्कर माफिया की गैंगेस्टर एक्ट के तहत 18 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति जब्त की गई है.

प्रदेश में पिछली सरकारों में गो तस्करी बड़ा मुद्दा था, जिसे लेकर आए दिन हिंसा और बवाल हुआ करते थे. सपा सरकार के दौरान गो तस्करी का कारोबार अपने चरम पर था और स्लाटर हाउस के संचालन को लेकर भी मानकों की अनदेखी भी की जाती थी. इस दौरान नए स्लाटर हाउस खोलने की अनुमति भी दी गई थी, लेकिन प्रदेश में सरकार बदलने के बाद सीएम योगी ने इस पर सख्ती से रोक लगाने के निर्देश दिए. सीएम के निर्देश पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश और केंद्र सरकार की गाइड लाइन का अक्षरश: पालन कराया गया. नगर विकास विभाग के मुताबिक जिलों में संचालित रोजाना तीन सौ, चार सौ और पांच सौ पशुओं के कटान की क्षमता वाले 150 से अधिक मानकों के विपरीत स्लाटर हाउस को बंद करा दिया है. फिलहाल, प्रदेश में मानकों के आधार पर 35 स्लाटर हाउस संचालित हैं.

319 गो तस्कर गिरफ्तार, 14 पर NSA
प्रदेश में गो तस्करी पर रोक लगाने के लिए पहली बार बड़े पैमाने पर सख्त कार्यवाही की गई है. पुलिस विभाग के जुलाई तक के आंकड़ों के मुताबिक पिछले साढ़े चार साल में 319 गो तस्कर माफिया को गिरफ्तार किया गया है. साथ ही दो आरोपियों की कुर्की और 14 पर रासुका लगाया गया है. इसके अलावा 280 आरोपियों पर गैंगेस्टर, 114 पर गुंडा एक्ट और 156 आरोपियों की हिस्ट्रीशीट खोली गई है.

सीएम योगी ने 2018 के एक्ट में किया संशोधित
सीएम योगी ने सरकारी स्लाटर हाउस के संचालन को लेकर आ रही दिक्कतों को देखते हुए 2018 में एक्ट संशोधित किया, जिसमें नगर निकाय को किसी भी प्रकार के स्लाटर हाउस के संचालन और स्थापना से मुक्त कर दिया गया. नगर निकाय एक्ट में प्रावधान था कि निकाय खुद स्लाटर हाउस चलाएंगे. अब निजी रूप से मानकों के आधार पर कोई भी स्लाटर हाउस संचालित कर सकता है, लेकिन अनुमति के लिए निर्णय नगर विकास विभाग की स्टेट लेवल कमेटी लेगी.

राष्ट्रीय हिंदी दिवस: महामना के प्रयासों से हिंदी बनी थी न्यायालय की भाषा,BHU में स्थापित हुआ था पहला विभाग

First department was established in BHU

सन 1900 में महामना के प्रयासों से ही अंग्रेजी हुकूमतों के शासनकाल में हिंदी न्यायालय की भाषा बनी थी.

SHARE THIS:

वाराणसी: 14 सितम्बर को पूरे देश में \’राष्ट्रीय हिंदी दिवस\’ मनाया जाता है. आजादी के बाद देश में हिंदी के उत्थान के लिए 14 सितम्बर 1949 को हिंदी को राजभाषा का दर्जा दिया गया. लेकिन आजादी से पहले ही भारत में हिंदी को सम्मानजनक स्थान दिलाने के लिए लड़ाई शुरू हो गई थी. महामना मदन मोहन मालवीय ने इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. सन 1900 में महामना के प्रयासों से ही अंग्रेजी हुकूमतों के शासनकाल में हिंदी न्यायालय की भाषा बनी थी. इसके अलावा हिंदी के उत्थान के लिए 1916 में बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी के स्थापना के बाद 1920 में महामना ने बीएचयू (BHU) में हिंदी विभाग स्थापना की गई.

बीएचयू में बना ये हिंदी विभाग (Hindi Department) देश का पहला हिंदी विभाग है, जहां हिंदी में पोस्ट ग्रेजुएशन तक की पढ़ाई होती है. हालांकि इसके पहले 1918 में कोलकता यूनिवर्सिटी में हिंदी विभाग की स्थापना हुई थी. लेकिन वहां सिर्फ ग्रेजुएशन तक कि ही पढ़ाई होती थी. लेकिन बीएचयू में बना ये हिंदी विभाग में पोस्ट ग्रेजुएशन तक कि पढ़ाई शुरू हुई.

बीएचयू के हिंदी विभाग के प्रोफेसर श्री प्रकाश शुक्ला ने बताया कि राजभाषा हिंदी के लिए महामना और बीएचयू ने अहम भूमिका निभाई है. बीएचयू में ही पोस्ट ग्रेजुएशन के कोर्स के लिए देश के पहले हिंदी विभाग की स्थापना हुई थी. जिसके पहले विभागाध्यक्ष के तौर पर लाला भगवानदीन ने कमान संभाली थी,उसके बाद बाबू श्यामसुंदर दास इस विभाग के दूसरे विभागाध्यक्ष बने.

सन 1900 में बना न्यायालय की भाषा
अंग्रेजी हुकूमतों के शासनकाल में न्यायालय के भाषा के तौर पर सन 1900 में हिंदी को जगह दी गई. महामना मदनमोहन मालवीय जी के प्रयासों से ये संभव हुआ. इसके लिए महामना ने 60 हजार लोगों के हस्ताक्षर वाला एक प्रतिवेदन उस समय के गवर्नर जरनल को सौंपा था,जिसके बाद हिंदी को न्यायालय के भाषा के तौर पर शामिल किया गया.

NEET Solver Gang: 5 लाख रुपये की लालच में पटना की जूली पहुंची जेल, खुद है BDS की स्टूडेंट

सब्जी वाले की बेटी सॉल्वर गैंग का शिकार. दूसरे की जगह दे रही थी परीक्षा. मां के साथ गिरफ्तार.

NEET 2021: नीट की परीक्षा में दूसरे की जगह परीक्षा दे रही जूली बीएचयू के डेंटल साइंसेज की सेकेंड ईयर की छात्रा है. वह पढ़ने में काफी तेज है और बैच में सेमेस्टर टॉपर भी रही है. नीट परीक्षा में जूली को 720 में से 522 अंक मिले थे.

SHARE THIS:

पटना. नीट 2021 की परीक्षा में सॉल्वर गैंग (NEET Exam 2021) में लड़कियों के शामिल होने का सनसनीखेज खुलासा हुआ है. बनारस के काशी हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) की छात्रा जूली दूसरे परीक्षार्थी के स्थान पर परीक्षा देते हुए गिरफ्तार कर ली गई है. वाराणसी कमिश्नरेट की क्राइम ब्रांच की टीम ने पटना की इस लड़की को गिरफ्तार किया है. फिलहाल लड़की से गैंग के दूसरे सदस्यों के बारे में पूछताछ जारी है. वाराणसी में पहली बार ऐसा मामला सामने आया है जब एक लड़की दूसरे के लिए परीक्षा देती हुई पकड़ ली गई है.

क्राइम ब्रांच की पूछताछ में खुलासा हुआ है कि लड़की काशी हिंदू विश्वविद्यालय में द्वितीय वर्ष की छात्रा है. छात्रा के साथ उसकी मां भी गिरफ्तार की गई है जो पटना में पति के साथ सब्जी बेचने का काम करती रही है. गैंग का मास्टरमाइंड पटना का कोई पीके उर्फ विकास कुमार महतो बताया जा रहा है. इस गैंग में केजीएमयू का एक डॉक्टर भी शामिल है जिसकी भूमिका काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है. क्राइम ब्रांच का दावा है कि पूर्वोत्तर राज्यों तक इस गैंग का नेटवर्क फैला हुआ है. फिलहाल इस पूरे मामले को लेकर वाराणसी पुलिस छापेमारी कर रही है.

बीएचयू की छात्रा जूली के पिता मुन्ना कुमार पटना में सब्जी बेचते हैं. सॉल्वर गैंग ने जूली की मां बबिता से संपर्क किया और पांच लाख रुपये का लालच दिया. उससे कहा गया कि अगर तुम्हारी बेटी हमारी कैंडिडेट की जगह बैठ कर परीक्षा दे देगी तो सेंटर से बाहर निकलते ही पांच लाख रुपये मिल जाएंगे. इसके लिए बबिता को 50 हजार रुपये पेशगी भी दिए गए थे. बबिता लालच में आ गई और अपनी बेटी जूली को असल कैंडिडेट की जगह परीक्षा में बैठने के लिए मना लिया. पुलिस पूछताछ में जो पता चला है उसके अनुसार छात्रा जूली कुमारी के भाई अभय कुमार कुशवाहा की मुलाकात पटना में बिहार के खगड़िया जिले के बेला सिकड़ी गांव निवासी विकास कुमार महतो से हुई थी.

विकास खुद को प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाला छात्र बताता था. दोनों में दोस्ती हुई तो अभय ने विकास को बताया कि उसकी बहन बीएचयू से बीडीएस कर रही है. इसी के बाद से विकास ने अभय के घर आना-जाना शुरू किया. ये लोग जूली पर पिछले छह महीने से नजर रख रहे थे और उसे परीक्षा देने के लिए तैयार कर रहे थे. विकास ने अभय की मां को पांच लाख रुपए का लालच देकर जूली कुमारी को मेडिकल प्रवेश परीक्षा में दूसरे की जगह बैठाने के लिए तैयार कर लिया. जूली बीएचयू के चिकित्सा विज्ञान संस्थान के फैकल्टी ऑफ डेंटल साइंसेज की सेकेंड ईयर की छात्रा है.

वह पढ़ने में काफी तेज है. अपने बैच में वह सेमेस्टर टॉप रही है, यही नहीं नीट परीक्षा में जूली को 720 में से 522 अंक मिले थे. अपनी पढ़ाई और अपने काम में ही जूली लीन रहती थी. पढ़ाई के अलावा किसी और काम से जूली को कोई मतलब नहीं रहा है. उसके साथ पढ़ने वाली छात्राएं भी इस हरकत से काफी हैरान हैं. वाराणसी के पुलिस कमिश्नर ने परीक्षा पर नजर रखने के लिए पहले सही क्राइम ब्रांच की टीम गठित कर दी गई थी है. वाराणसी में नेशनल टेस्टिंग एजेंसी की ओर से आयोजित की गई परीक्षा पिछले रविवार को दोपहर 2:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक हुए थे. इसमें जिले के परीक्षार्थी पंजीकृत थे और 86 फीसदी उपस्थिति भी रही थी.

NEET Solver Gang: सब्जी वाले की बेटी दे रही थी दूसरे की जगह परीक्षा, लाखों का था लालच

सब्जी वाले की बेटी सॉल्वर गैंग का शिकार. दूसरे की जगह दे रही थी परीक्षा. मां के साथ गिरफ्तार.

NEET Solver Gang : सॉल्वर गैंग के रूप में पकड़ी बीएचयू बीडीएस सेकेंड इयर की छात्रा जूली की स्टोरी हैरान करने वाली है. मां बबिता के साथ जूली को क्राइम ब्रांच ने मूल अभ्यर्थी की जगह परीक्षा देते पकड़ा है. इस होनहार जूली को साल्वर गैंग में शामिल करने के पीछे बिहार का पीके है, जिसकी तलाश अब पुलिस को है.

SHARE THIS:

वाराणसी. साल 2019 में बिहार (Bihar) के पटना (Patna) के सब्जी बेचने वाले मुन्ना कुमार महतो Munna Kumar Mahato की बेटी जूली ने जब नीट परीक्षा (NEET exam) में सफलता हासिल की थी तो उसकी खुशी का ठिकाना नहीं था. उसे बीएचयू के डेंटल विभाग में बतौर बीडीएस स्टूडेंट्स एडमिशन मिला था. लेकिन दो साल बाद अब जो सच सामने आया उसने सबको चौंका दिया. जूली को सॉल्वर गैंग के रूप में पकड़ा गया है. वह दूसरे की जगह परीक्षा देते हुए पकड़ी गई. साल्वर गैंग के रूप में पकड़ी बीएचयू बीडीएस सेकेंड इयर की छात्रा जूली की स्टोरी हैरान करने वाली है. मां बबिता के साथ जूली को क्राइम ब्रांच ने मूल अभ्यर्थी की जगह परीक्षा देते पकड़ा है. खास बात ये है कि इस होनहार जूली को साल्वर गैंग में शामिल करने के पीछे बिहार का पीके है, जिसकी तलाश अब पुलिस को है.

वाराणसी के सारनाथ स्थित सेंट फ्रांसिस जेवियर स्कूल में रविवार को नीट- यूजी परीक्षा में मूल अभ्यर्थी की जगह साल्वर के रूप में जूली परीक्षा देने पहुंचीं. कक्ष निरीक्षकों के शक के बाद क्राइम ब्रांच की पूछताछ में जूली और उसकी मां बबिता को गिरफ्तार किया गया. मोबाइल फोन को खंगालने पर गैंग के दो सदस्य का भी पता चला, जिसमें बिहार के खगड़िया निवासी विकास और गाजीपुर जिले के मोहम्मदाबाद क्षेत्र से ओसामा शाहिद भी पकड़े गए. लेकिन इसे केजीएमयू लखनऊ का एक डाक्टर और मुख्य सरगना बिहार का पीके है, जिसकी तलाश में कमिश्नरेट पुलिस दबिश दे रही है.

पांच लाख का सौदा, पचास हजार पेशगी

बिहार के रहने वाले विकास ने गरीबी और आर्थिक तंगी का फायदा उठाते हुए जूली को अपना शिकार बनाया. इसके लिए विकास ने सहारा लिया जूली के भाई अभय कुमार कुशवाहा का. मूल अभ्यर्थी से जूली की शक्ल थोड़ी मिलती थी. बाकी फोटो एडिटिंग के जरिए फर्जी दस्तावेज तैयार किए गए. जूली की मां को पांच लाख का लालच दिया. पचास हजार पेशगी भी दी गई. इसके बाद बाकी रकम परीक्षा खत्म होने के बाद देने की बात हुई थी.

सेमेस्टर की टॉपर थी जूली

बीएचयू चिकित्सा विज्ञान संस्थान के फैकल्टी ऑफ डेंटल साइंसेज की 2019 बैच की छात्रा जूली कुमारी बीडीएस सेकेंड इयर की छात्रा है. जूली ने अपने बैच में सेमेस्टर में टॉप भी किया है. बताया जाता है कि नीट परीक्षा में जूली को 720 में से 522 नंबर मिले थे. जूली पटना के कंदनपुर कुम्हरार गुमटी के वैष्णवी कालोनी की रहने वाली है.

UP Crime News: वाराणसी में STF ने 1 लाख के इनामी दीपक वर्मा को किया ढेर, दर्ज थे कई मुकदमे

UP Crime News: वाराणसी में STF ने 1 लाख के इनामी दीपक वर्मा को किया ढेर

Encounter in Varanasi: घटनास्थल से भागे हुए दीपक के साथी की तलाश में एसटीएफ की कांबिंग जारी है. बदमाश पिछले चार साल से फरार चल रहा था.

SHARE THIS:

वाराणसी. वाराणसी (Varanasi) के चौबेपुर क्षेत्र के बरियासनपुर गांव में सोमवार की दोपहर एसटीएफ की वाराणसी यूनिट ने 1 लाख के इनामी बदमाश दीपक वर्मा उर्फ गुड्‌डू को मुठभेड़ (Encounter) में ढेर कर दिया. लक्सा थाना अंतर्गत नई बस्ती रामापुरा निवासी दीपक वर्मा की पुलिस को साल 2015 से तलाश थी. एसटीएफ के डिप्टी एसपी शैलेश प्रताप सिंह के नेतृत्व में दीपक के पीछे लगी एसटीएफ की टीम को चौबेपुर थाना अंतर्गत बरियासनपुर गांव में उसके मौजूद होने की सूचना मिली.

एसटीएफ की टीम ने घेरेबंदी की तो दीपक और उसके साथी ने फायरिंग शुरू कर दी. जवाबी कार्रवाई में दीपक ढेर हो गया और उसका साथी भाग निकला. घटनास्थल से भागे हुए दीपक के साथी की तलाश में एसटीएफ की कांबिंग जारी है. बदमाश पिछले चार साल से फरार चल रहा था.

यह भी पढ़ें- UP: BJP मीडिया सेल की शुरू हुई अहम बैठक, 2022 विधानसभा चुनाव को लेकर बनेगी रणनीति

एसटीएफ के मुताबिक बदमाश दीपक वर्मा पर वाराणसी समेत आसपास के जिलों में उस पर दर्जनों मुकदमे दर्ज थे. पुलिस ने उसके कब्जे से एक पिस्टल, कारतूस और मोटरसाइकिल बरामद हुई है. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. फिलहाल इनामी बदमाश दीपक वर्मा के मारे जाने के बाद एसटीएस के लिए यह एक बड़ी सफलता मानी जा रही है.

हज, वक्फ, मदरसा और उर्दू अकादमी में भरी गईं खाली सीट, जानिए किसको कहां मिली जगह!

बीते लम्बे वक्त से यूपी के हज बोर्ड, वक्फ बोर्ड, मदरसा बोर्ड, उर्दू अकादमी में पद खाली चल रहे थे.

लोग इसे 2022 के यूपी असेम्बली चुनावों (UP Assembly Election 2022) से जोड़कर देख रहे हैं. गौरतलब रहे बीते लोकसभा और यूपी विधानसभा चुनावों में मुसलमानों ने बीजेपी (BJP) को भी वोट दिया था.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 13, 2021, 12:02 IST
SHARE THIS:

लखनऊ. बीते लम्बे वक्त से यूपी के हज बोर्ड (UP Haj Board), वक्फ बोर्ड, मदरसा बोर्ड, उर्दू अकादमी, अल्पसंख्यक आयोग समेत तमाम संस्थाओं में अध्यक्ष और सदस्यों के पद खाली चल रहे थे. लेकिन अब इन पदों को भरने की कवायद शुरु हो गई है. राज्य अल्पसंख्यक आयोग (Minority Commission) के अध्यक्ष का पद एक महीने पहले ही भरा जा चुका है. बाकी बची संस्थाओं के अध्यक्ष और सदस्यों का ऐलान भी दो दिन पहले कर दिया गया है. सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है. हालांकि लोग इसे 2022 के यूपी असेम्बली चुनावों (UP Assembly Election 2022) से जोड़कर देख रहे हैं. गौरतलब रहे बीते लोकसभा और यूपी विधानसभा चुनावों में मुसलमानों ने बीजेपी (BJP) को भी वोट दिया था. सूत्रों की मानें तो आज सभी को लैटर जारी हो सकते हैं.

यूपी मदरसा बोर्ड में डॉ. इफ्तिखार अहमद जावेद बने अध्यक्ष

यूपी मदरसा शिक्षा परिषद की कार्यकारिणी का ऐलान हो चुका है. सीएम योगी की मदरसा आधुनिकरण की योजना को देखते हुए इसे बेहद खास माना जा रहा है. वाराणसी के रहने वाले डॉ. इफ्तिखार अहमद जावेद को इसका अध्यक्ष बनाया गया है. इससे पहले डॉ. इफ्तिखार हज कमेटी ऑफ इंडिया के सदस्य रह चुके हैं.

हज की तैयारियों को लेकर होने वाले मक्का-मदीना के दौरों में भी वो शामिल रहे हैं. उन्होंने यूपी के हज से जुड़े कई मामलों को केन्द्रीय स्तर पर उठाने के साथ ही उनका समाधान भी कराया है. इसके अलावा सदस्यों की टीम में लखनऊ से कमर अली, सिद्धार्थनगर से तनवीर रिजवी, बिजनौर से इमरान अहमद और हरदोई से असद हुसैन को शामिल किया गया है.

Jewar Airport के लिए काटे जाएंगे 10000 से ज्यादा पेड़, सिर्फ 196 पेड़ों की ही होगी शिफ्टिंग

उत्तर प्रदेश शिया सेंट्रल वक़्फ़ बोर्ड की ये है टीम

यूपी शिया सेंट्रल वक़्फ़ बोर्ड का सदस्य बनने को भी बेहद अहम माना जाता है. यूपी सरकार की तरफ से यूपी शिया सेंट्रल वक़्फ़ बोर्ड में मोहम्मद ज़रयाब जमाल रिज़वी एडवोकेट अमरोहा, सैयद शबाहत हुसैन सिद्धार्थनगर, सैयद हसन कौसर और मौलाना रज़ा हुसैन, लखनऊ को सदस्य के तौर पर शामिल किया गया है.

यूपी हज कमेटी में होंगे यह लोग

उत्तर प्रदेश राज्य हज समिति की कार्यकारिणी का ऐलान भी कर दिया गया है. कमेटी की नई कार्यकारिणी के मुताबिक मोहसिन रज़ा, असलम राईनी, शौकत अली, फैसल अली ख़ान, मौलाना हाफ़िज़ मोहम्मद जावेद, मौलाना वक़ार हैदर, सरफराज अली,  मोहम्मद इफ्तखार हुसैन, डॉ सैयद एहतेशाम उल हुदा, सरवर सिद्दीकी, अमानुल्लाह, हाजी अब्दुल रहीम, वसीम अहमद और सैयद कल्बे हुसैन को जगह दी गई है.

उत्तर प्रदेश फखरुद्दीन अली अहमद मेमोरियल कमेटी की भी बनी टीम

उत्तर प्रदेश फखरुद्दीन अली अहमद मेमोरियल कमेटी के लिए अध्यक्ष समेत पांच लोगों के नाम का ऐलान किया गया है. यूपी सरकार की ओर से जारी लिस्ट के मुताबिक लखनऊ के रहने वाले अतहर सगीर ज़ैदी “तूरज” को कमेटी का अध्यक्ष बनाया गया है. वहीं प्रयागराज से डॉक्टर जहांआरा, सहारनपुर से मोहम्मद अनवर, कासगंज से तारिक सिद्दीकी और देवरिया से शम्स परवेज को सदस्य बनाने का ऐलान किया गया है.

उत्तर प्रदेश उर्दू अकादमी को भी मिली नई कार्यकारिणी

यूपी उर्दू अकादमी को भी नई कार्यकारिणी मिल गई है. गोरखपुर के रहने वाले चौधरी कैफूल वरा को अकादमी का अध्यक्ष बनाया गया है. वहीं सैयद नदीम अख़्तर, सैयद इतरत हुसैन, एम आज़ाद अन्सारी, डॉ माहे तिलक सिद्दीकी, राजा क़ासिम, सलीम बेग, डॉ रिज़वाना, डॉ शादाब आलम, मीसम ज़ैदी, हाजी ज़हीर अहमद, मुहम्मद इस्लाम सुल्तानी और नवाब क़म्बर कैसर अकादमी के सदस्य बनाये गए हैं.

BHU में कोरोना की RT-PCR टेस्ट बंद,अस्पताल के एमएस ने बताई ये वजह

केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीणा जॉर्ज की ओर से जारी विज्ञप्ति के मुताबिक शनिवार को 26,155 मरीज संक्रमण मुक्त हुए.

फंड्स की कमी के कारण अस्पताल प्रशासन ने ये फैसला लिया है. कोरोना की पहली और दूसरी लहर के दौरान वाराणसी सहित आस-पास के छः जिलों के सैम्पल्स की जांच होती थी,लेकिन अब बीएचयू अस्पताल (BHU Hospital) प्रशासन ने सभी सैम्पल्स की जांच पर रोक लगा दी है.आप को बताते चले कि BHU के माइक्रोबायोलॉजी लैब में हर दिन 12 हजार सैम्पल्स की जांच होती थी.

SHARE THIS:

कोरोना के संभावित तीसरी लहर के आशंकाओं के बीच वाराणसी (Varanasi) के BHU में कोरोना की RT-PCR टेस्ट होना अब बंद हो गया है. फंड्स की कमी के कारण अस्पताल प्रशासन ने ये फैसला लिया है. कोरोना की पहली और दूसरी लहर के दौरान वाराणसी सहित आस-पास के छः जिलों के सैम्पल्स की जांच होती थी,लेकिन अब बीएचयू अस्पताल (BHU Hospital) प्रशासन ने सभी सैम्पल्स की जांच पर रोक लगा दी है.आप को बताते चले कि BHU के माइक्रोबायोलॉजी लैब में हर दिन 12 हजार सैम्पल्स की जांच होती थी.

बीएचयू सर सुंदरलाल अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ केके गुप्ता ने बताया कि डेढ़ साल पहले जब BHU में कोरोना के RT-PCR टेस्ट की शुरुआत हुई थी तो BHU में हर दिन लगभग 10 हजार टेस्ट हुआ करते थे,लेकिन सरकार से इस मामले में सहयोग कम मिल रहा था. जिसके कारण फंड्स की कमी हो गई और अब विश्वविद्यालय प्रशासन के बड़े अधिकारियों के निर्देश पर टेस्ट को रोक दिया गया है.

55 करोड़ रुपये है बकाया
सर सुंदरलाल अस्पताल के एमएस डॉ केके गुप्ता के मुताबिक पिछले वर्ष में कोरोना टेस्ट की मशीनों को खरीदने और जांच में 45 करोड़ रुपये खर्च हुए,जिसमे सरकार की ओर से सिर्फ पांच करोड़ रुपए का ही फण्ड मिला. कोरोना के दूसरी लहर के दौरान RT-PCR टेस्ट में करीब 15 करोड़ खर्च हुए लेकिन सरकार की ओर से कोई मदद नहीं मिली. इस तरह कुल 55 करोड़ के राशि का भुगतान नहीं हो पाया है. जिसके कारण हम लोगों ने टेस्ट को बंद कर दिया है.

Load More News

More from Other District

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज