Home /News /uttar-pradesh /

summer season ganga starts drying up in varanasi sand dunes started appearing before time know what the scientists told the reason

गर्मी का सितम: वाराणसी में सूखने लगी गंगा! वक्त से पहले दिखने लगा रेत का टीला,जानिए वैज्ञानिको ने क्या बताई वजह

X

बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी (Kashi) में गर्मी का सितम जारी है. मार्च के महीने में ही भीषण गर्मी का असर अब मोक्षदायिनी गंगा (Ganga) पर भी दिखने लगा है.प्रचंड गर्मी के कारण वक्त से पहले गंगा सूखने लगी है और इसके कारण मार्च के महीने में ही गंगा में रेत के टीले दिखाई देने लगे हैं.आम तौर ?

अधिक पढ़ें ...

    बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी (Kashi) में गर्मी का सितम जारी है. मार्च के महीने में ही भीषण गर्मी का असर अब मोक्षदायिनी गंगा (Ganga) पर भी दिखने लगा है.प्रचंड गर्मी के कारण वक्त से पहले गंगा सूखने लगी है और इसके कारण मार्च के महीने में ही गंगा में रेत के टीले दिखाई देने लगे हैं.आम तौर पर गंगा में ऐसी तस्वीर मई और जून के महीने में दिखाई देती है लेकिन इस बार मार्च के महीने में ही गंगा में रेत के टीले उभर आए हैं.वाराणसी (Varanasi) के रविदास घाट (Ravidas Ghat) के सामने बीच गंगा में मार्च के अंतिम सप्ताह में ही रेत के टीले दिखने लगे हैं.इन रेत के टीलों को देख कर आशंका जताई जा रही है कि इस बार प्रचंड गर्मी का कहर देखने को मिलेगा.वहीं मार्च के महीने में उभरे रेत के टीलों ने वैज्ञानिकों की चिंता भी बढ़ा दी है.

    वैज्ञानिको ने बताई ये वजह
    बीएचयू महामना मालवीय गंगा शोध केंद्र के चेयरमैन प्रोफेसर बी डी त्रिपाठी ने बताया कि गंगा में पानी का प्रवाह कम होने के कारण सिल्ट्रेशन रेट बढ़ जाता है जिसके कारण समय से पहले ही गंगा में रेत के टीले दिख रहे हैं. इसके अलावा उत्तराखंड में बने बांध के कारण पानी रोका जा रहा है जिसके कारण गंगा में प्रवाह कम है. इसके अलावा गंगा के जल का दोहन और सिंचाई में गंगा के पानी का इस्तेमाल के कारण इस तरह की समस्या वक्त से पहले गंगा में दिखाई देने लगी है.जिसका सीधा असर जलीय जीव जंतुओं ओर पड़ता है और गंगा इससे प्रदूषित भी होती है.
    रिपोर्ट- अभिषेक जायसवाल-वाराणसी

    Tags: Varanasi news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर