Home /News /uttar-pradesh /

Varanasi News: वाराणसी में है इस राक्षसी का मंदिर,साल में एक दिन होती है पूजा जानिए क्या है मान्यता

Varanasi News: वाराणसी में है इस राक्षसी का मंदिर,साल में एक दिन होती है पूजा जानिए क्या है मान्यता

काशी

काशी में राक्षसी त्रिजटा की होती है पूजा

बाबा विश्वनाथ (Baba Vishwanath) के दरबार से महज कुछ ही दूरी पर त्रिजटा राक्षसी का प्राचीन मंदिर है.काशी के इस मंदिर में इस राक्षसी के दर्शन और पूजन के लिए दूर-दूर से भक्त यहां आते हैं. काशी इस अनोखे मंदिर में चढ़ावा भी बेहद खास होता है. त्रिजटा राक्षसी को मूली और बैंगन का भोग लगाया जाता है. 

अधिक पढ़ें ...

    बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी (Kashi) दुनिया से निराली है.जैसा कहीं नहीं होता वैसा काशी में सुनने और देखने को मिलता है.आज हम आपको इस धार्मिक नगरी के ऐसे ही रहस्य से आपको रूबरू कराएंगे जिसके बारे में आपने पहले शायद ही कभी सुना होगा.महादेव की नगरी काशी में 33 कोटि देवी देवता विराजमान है. काशी के अलग-अलग जगहों पर इन देवी देवताओं के प्राचीन और ऐतिहासिक मन्दिर भी है. इसी काशी में एक राक्षसी का भी मंदिर है जिनकी पूजा साल में सिर्फ एक बार ही होती है.
    बाबा विश्वनाथ (Baba Vishwanath) के दरबार से महज कुछ ही दूरी पर त्रिजटा राक्षसी का प्राचीन मंदिर है. काशी के इस मंदिर में इस राक्षसी के दर्शन और पूजन के लिए दूर-दूर से भक्त यहां आते हैं. काशी इस अनोखे मंदिर में चढ़ावा भी बेहद खास होता है. त्रिजटा राक्षसी को मूली और बैंगन का भोग लगाया जाता है. साल में सिर्फ एक बार कार्तिक पूर्णिमा के अगले दिन यहां भक्तों की भीड़ होती है. मान्यता है कि कार्तिक मास में एक महीने गंगा स्नान के बाद जो भी राक्षसी त्रिजटा की पूजा करता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती है.

    ये है कथा
    त्रेतायुग में जब रावण ने माता सीता का हरण कर उन्हें अशोक वाटिका में रखा था तो राक्षसी त्रिजटा को ही उन्हें देखरेख की जिम्मेदारी दी गई थी.अशोक वाटिका में जब भी माता सीता पर कोई संकट आता था तो त्रिजटा ही उसका हरण करती थी.भगवान राम ने जब रावण को पराजित कर माता सीता को अशोक वाटिका से वापस ले जाने लगे तभी त्रिजटा ने उन्हें अपने साथ ले जाने का आग्रह किया जिस पर माता सीता ने उन्हें वरदान दिया कि काशी में तुम्हे एक दिन की देवी के रूप में पूजा जाएगा. जो भी ऐसा करेगा तुम उसकी सदैव हर संकट से रक्षा करोगी. काशी खण्ड में इस बात का उल्लेख किया गया है.

    Tags: Varanasi news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर