वाराणसी: मणिकर्णिका घाट पर शव को चिता पर छोड़कर भागे शवदाह करने वाले लोग, ये है वजह
Varanasi News in Hindi

वाराणसी: मणिकर्णिका घाट पर शव को चिता पर छोड़कर भागे शवदाह करने वाले लोग, ये है वजह
दरअसल कुछ जवान सेना की वर्दी में एक महिला के शव को लेकर इस घाट पर पहुंचे थे. (फाइल फोटो)

Coronavirus संक्रमण के चलते मौत होने की अफवाह से मामला इतना बिगड़ गया कि मौके पर पुलिस को आना पड़ा और उसके बाद अंतिम संस्‍कार की प्रक्रिया संपन्‍न हो सकी.

  • Share this:
वाराणसी. कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर पूरे देश में जारी है. इस वायरस से देशभर में अभी तक 62 हजार से ज्यादा लोग संक्रिमत हो चुके हैं और 1800 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है. वहीं, उत्तर प्रदेश में 102 नए कोरोना संक्रमित मरीजों की पुष्टि हुई है. इसी बीच, वाराणसी में एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है. यहां पर शवदाह करने वालों ने एक महिला का अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया और मौके से भाग गए.

आज तक के मुताबिक, मामला वाराणसी के मणिकर्णिका घाट का है. दरअसल, कुछ जवान सेना की वर्दी में एक महिला के शव को लेकर इस घाट पर पहुंचे थे. महिला का शव पूरी तरह से कपड़े से ढका हुआ था. वहीं, परिजन से लेकर अन्य लोग पीपीई किट पहने हुए थे. फिर दिखते ही देखते घाट पर कोरोना वायरस संक्रमित शव होने की अफवाह फैल गई. ऐसे में शवदाह करने वाले लोगों ने महिला का अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया और मौके से भाग गए.

काफी देर तक शव चिता पर पड़ा रहा
शवदाह करने वाले लोगों के भागने से पहले ही महिला के शव को चिता पर रख दिया गया था. ऐसे में इनके भागने के बाद काफी देर तक शव चिता पर ही पड़ा रहा. अंत में मामले को निपटाने के लिए पुलिस को मौके पर आना पड़ा. लगभग एक घंटे के लंबे इंतजार और पुलिस के हस्तक्षेप के बाद महिला का अंतिम संस्कार किया गया.
खून की उल्टियों की थी शिकायत


चौक थाना के इंचार्ज राकेश सिंह ने बताया कि वाराणसी कैंट क्षेत्र स्थित 39 जीटीसी में हवलदार सचिन थापा की बहन तारा देवी की मौत हो गई थी. उनको खून की उल्टियों की शिकायत थी, जिसके बाद उन्हें बीएचयू अस्पताल में भर्ती कराया था. जहां ब्रेन हेमरेज होने की वजह से शनिवार शाम को उनकी मौत हो गई. उन्होंने बताया कि जब शव को मणिकर्णिका घाट पर अंतिम संस्कार के लिए लाया गया तो लोगों में कोरोना वायरस संक्रमित शव की अफवाह फैल गई. इसके बाद मृत्यु से संबंधित कागजात चेक कर शवदाह करने वालों को समझाया गाय तो मान गए. इसके बाद अंतिम संस्कार किया गया.

ये भी पढ़ें- 

Bois Locker Room मामले में खुलासा, अश्लील चैट करने वाला लड़का नहीं, लड़की थी

Delhi Covid-19 Updates: कोरोना वायरस से संक्रमित 381 नए मरीज आए सामने

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज