लाइव टीवी
Elec-widget

विरोध के बाद आज पहली बार BHU में नजर आएंगे संस्कृत प्रोफेसर फिरोज खान, इस विभाग में देंगे इंटरव्यू

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 29, 2019, 11:20 AM IST
विरोध के बाद आज पहली बार BHU में नजर आएंगे संस्कृत प्रोफेसर फिरोज खान, इस विभाग में देंगे इंटरव्यू
बीएचयू के संस्‍कृत विभाग में असिस्‍टेंट प्रोफेसर अब आयुर्वेद विभाग में नियुक्ति के लिए इंटरव्‍यू देंगे. (फाइल फोटो)

बीएचयू (BHU) के जनसूचना अधिकारी डॉ. राजेश सिंह ने बताया कि फिरोज खान (Firoz Khan) ने यूनिवर्सिटी के आयुर्वेद विभाग में पहले से ही आवेदन कर रखा था.

  • Share this:
वाराणसी. बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (Banaras Hindu University) के संस्कृत धर्म संकाय में मुस्लिम प्रोफेसर डॉ. फिरोज खान (Dr Feroz Khan) का शुक्रवार को आयुर्वेद विभाग में इंटरव्यू है. वहीं, छात्रों के विरोध के बाद फिरोज खान शुक्रवार को पहली बार बीएचयू कैंपस में नजर आएंगे. दरअसल, फिरोज खान ने बीएचयू के दो विभागों में असिस्टेंट प्रोफेसर पद पर आवेदन किया था. पहला संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय में और दूसरा आयुर्वेद विभाग में. संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान विभाग में फिरोज खान की नियुक्ति हो गई, जिसके बाद कुछ छात्रों ने विरोध शुरू कर दिया था.

इससे पहले बीएचयू के जनसूचना अधिकारी डॉ. राजेश सिंह ने बताया कि फिरोज खान ने यूनिवर्सिटी के कई विभागों में आवेदन किया हुआ है. डॉ. राजेश सिंह ने बताया कि फिरोज खान ने आयुर्वेद विभाग में पहले से ही आवेदन कर रखा था.

बीएचयू ने निकाला था विज्ञापन
बीएचयू की वेबसाइट के मुताबिक, मई 2019 विज्ञापन निकाला गया था. इसमें आवेदन की अंतिम तारीख 26 जून थी. इस वैकेंसी में संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय के साहित्य विभाग के अलावा आईएमएस के आयुर्वेद संकाय के संहिता और संस्कृत विभाग में असिस्‍टेंट प्रोफेसर, कला संकाय के संस्कृत विभाग, शिक्षा संकाय के शिक्षा विभाग, म्यूजिकोलॉजी विभाग और राजीव गांधी साउथ कैंपस बरकछा (मिर्जापुर) में संस्कृत से संबंधित असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर आवेदन निकला था.

छात्रों ने किया था फिरोज खान का विरोध
बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के संस्कृत धर्म संकाय में मुस्लिम प्रोफेसर फिरोज खान की नियुक्ति के विरोध में बीते 15 दिनों से जारी धरना 22 नवंबर को खत्म हो गया. धरने का नेतृत्व कर रहे छात्र चक्रपाणि ओझा ने कहा कि कुलपति ने उन्हें आश्वासन दिया है कि यूनिवर्सिटी प्रशासन द्वारा इस मामले में उचित कदम उठाया जाएगा. चक्रपाणि ओझा ने कहा कि वे प्रोफेसर फिरोज खान का विरोध नहीं कर रहे, बल्कि उनका विरोध नियुक्ति प्रक्रिया में अनियमितता के खिलाफ है. वहीं, छात्रों ने कहा कि हमारा विरोध नियुक्त प्रोफेसर द्वारा संस्कृत पढ़ाने को लेकर नही हैं. हमारा विरोध बस इतना है कि जो हमारी रीत, संस्कार को जानता ही नहीं वो शिक्षा कैसे देगा.

Loading...

ये भी पढे़ं:

डिफेंस एक्सपो: लखनऊ में गोमती के किनारे से 64000 पेड़ हटाने की तैयारी

प्रज्ञा ठाकुर के बाद इस भाजपा MLA ने कहा- गोडसे आतंकी नहीं था, बस एक गलती कर दी थी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वाराणसी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 29, 2019, 10:08 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...