ट्रेन 18 का नाम हुआ वंदे भारत एक्सप्रेस, 8 घंटे में पहुंचाएगी दिल्‍ली से बनारस

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि ट्रेन 18 प्रोजेक्ट के तौर पर इसका निर्माण शुरू किया गया था. हमने इस हाई स्पीड ट्रेन का नाम वंदे भारत एक्सप्रेस दिया है.

News18 Bihar
Updated: January 28, 2019, 7:47 AM IST
News18 Bihar
Updated: January 28, 2019, 7:47 AM IST
भारत में बनी ट्रेन 18 का नाम वंदे भारत एक्सप्रेस कर दिया गया है. इसकी जानकारी रेल मंत्री पीयूष गोयल ने दी है. गोयल ने कहा कि ट्रेन 18 प्रोजेक्ट के तौर पर इसका निर्माण शुरू किया गया था. जल्द ही यह लोगों की सेवा में शुरू हो जाएगी. ये ट्रेन पूरी तरह से भारत में बनी और डिजाइन की गई है. इसका नाम हमने वंदे भारत एक्सप्रेस दिया है. इसके लिए सबसे सुझाव मांगा था जिसमें से हमने एक नाम चुना है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जल्द ही इसे हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे. यह ट्रेन 8 घंटे में दिल्ली से वाराणसी की दूरी तय करेगी. साथ ही यह इलाहाबाद और कानपुर में रुकेगी. इस ट्रेन को 18 महीने में बनायी गई है. मेक इन इंडिया का ये उदाहरण है. यह पूरी तरह भारत में बनी सेमी स्पीड ट्रेन हैं. यह ट्रेन दिल्ली से वाराणसी तक जाएगी.



इस ट्रेन की रफ्तार 160 किमी प्रति घंटा है. भारतीय रेल में गेम-चेंजर की तरह देखी जाने वाली इस ट्रेन में 2 एग्जीक्यूटिव और 14 नॉन-एग्जीक्यूटिव क्लास को मिलाकर कुल 16 डिब्बे हैं, जिनमें 128 लोग बैठ सकते हैं. सभी डिब्बे वातानुकूलित और चेयर-कार हैं. सारे ही डिब्बे एक-दूसरे से जुड़े हुए होंगे.

ट्रेन की खिड़की भी इस तरह से बनाई गई है कि सफर के दौरान यात्री आराम से बाहर देख सकें. चौड़ी-चौड़ी खिड़कियों में बीच में किसी भी तरह का पार्टिशन नहीं है और बाहर का दृश्य देखा जा सकता है. यह देश की पहली इंजनरहित ट्रेन भी है.

ये भी पढ़ें -

साइकिल से मोटरसाइकिल पर आई सपा, चुनाव जीतने के लिए बनाई ये रणनीति

सीएम सिटी गोरखपुर से प्रियंका को उम्मीदवार बनाने की मांग, कांग्रेसियों ने बताया झांसी की रानी
Loading...

प्रयागराज: सड़क हादसे में सीतापुर के जिला जज घायल, ड्राइवर की मौत
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...