कोरोना काल में काशी के 'कछुओं' का बदला पता, जानिए अब कहां होगी इनसे मुलाकात
Varanasi News in Hindi

कोरोना काल में काशी के 'कछुओं' का बदला पता, जानिए अब कहां होगी इनसे मुलाकात
कोरोना काल में काशी के 'कछुओं' का बदला पता (file photo)

वाराणसी के प्रभागीय वन अधिकारी (DFO) महावीर कौजलगी ने बताया कि इस नई सेंक्चुरी में सबसे ज्यादा हिस्सा प्रयागराज जिले का होगा. इस सेंक्चुरी में कछुओं के अलावा गंजेटिक, डाल्फिन जैसे दूसरे जलीय वन्य जीवों को भी संरक्षण मिलेगा.

  • Share this:
वाराणसी. वाराणसी (Varanasi) के रामनगर 'कछुआ सेंक्चुरी' में रहने वाले कछुओं (Turtles) का नया पता अब भदोही, मिर्जापुर और प्रयागराज हो गया है. तीनों जिले में गंगा के कुछ कुछ हिस्सों को जोड़कर करीब 30 किमी में इन कछुओं का नया घर बनने जा रहा है. जी हां, रामनगर कछुआ सेंक्चुरी को शिफ्ट करने का शासन ने आदेश कर दिया है. इस आदेश के बाद वाराणसी से हल्दिया तक जल परिवहन रफ्तार पकड़ेगा. पिछले लंबे वक्त से शिफ्टिंग की फाइल दौड़ रही थी, जिसको अब मंजूरी मिल गई है. अब कछुआ सेंक्चुरी शिफ्ट होने का रास्ता साफ हो गया है.

भदोही जिले के कोनिया क्षेत्र के बारीपुर उपरवार से प्रयागराज के मेजा के बीच स्थित 30 किमी गंगा तटीय परिक्षेत्र को कछुआ सेंक्चुरी घोषित कर दिया गया है. गंगा का ये पूरा इलाका करीब 30 किमी का होगा, जिसमे 10 किमी का हिस्सा भदोही जिले का है. बाकी बारीपुर से मेजा गंगा तक मिर्जापुर, प्रयागराज का हिस्सा शामिल होगा. सेंक्चुरी बनने के बाद नियम के मुताबिक, इस पूरे दस किमी के क्षेत्र में बालू खनन, नाव संचालन और मछली मारने की पूरी तरह से मनाही होगी.

वाराणसी के प्रभागीय वन अधिकारी महावीर कौजलगी ने बताया कि इस नई सेंक्चुरी में सबसे ज्यादा हिस्सा प्रयागराज जिले का होगा. इस सेंक्चुरी में कछुओं के अलावा गंजेटिक, डाल्फिन जैसे दूसरे जलीय वन्य जीवों को भी संरक्षण मिलेगा. इन जलीय जीव जंतुओं के साथ जलीय वनस्पतियां भी संरक्षित होंगी. एक ओर सेँक्चुरी काफी हद तक गंगा में जैविक प्रदूषण खत्म करेगी तो दूसरी ओर वाराणसी से हल्दिया तक जल परिवहन को रफ्तार मिलने से आने वाले दिनों में कारोबारियों, व्यापारियों, किसानों को सस्ता और तेज ट्रांसपोर्ट भी मिलेगा.



ये भी पढ़ें:
वसीम रिजवी बोले- अल्कोहल गंदा नहीं, मस्जिदों में सैनेटाइजर का करें इस्तेमाल
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading