वाराणसी में चल रहा अनोखा हनुमान चालिसा यज्ञ, हिंदू-मुस्लिम के साथ किन्नर भी दे रहे आहुति
Varanasi News in Hindi

वाराणसी में चल रहा अनोखा हनुमान चालिसा यज्ञ, हिंदू-मुस्लिम के साथ किन्नर भी दे रहे आहुति
वाराणसी में देश के लिए हनुमान चालिसा यज्ञ किय गया.

वाराणसी (Varanasi) में इन दिनों एक हनुमान चालिसा यज्ञ की चर्चा जोरों पर है. दरअसल आतंकवाद, चीन की विस्तारवादी नीतियों के खिलाफ भारत की जीत के लिए 11 दिन चलने वाले इस यज्ञ का आयोजन किया गया है.

  • Share this:
वाराणसी. धर्म नगरी वाराणसी (Varanasi) में आज एक ऐसी अनोखी तस्वीर सामने आई, जिसकी चर्चा पूरे बनारस में है. यह तस्वीर है बनारस में होने वाले 11 दिवसीय धार्मिक अनुष्ठान की, जिसमें 11 दिन से लगातार प्रत्येक दिन 108 बार हनुमान चालीसा की यज्ञ में आहुति दी गई. यह अनुष्ठान इस्लामी जिहादियों से मुक्ति, चीन के विस्तारवाद पर रोक के साथ सनातन धर्म के प्राचीनतम धर्मस्थलों, शक्तिपीठों, प्राचीन विश्वविद्यालयों की मुक्ति के लिए संकल्प लेकर किया गया.

इस अनुष्ठान का खास बात यह रही कि इसमें जाति, धर्म और लिंग सभी में समानता देखने को मिली. कहा जा रहा है कि धर्म नगरी काशी में यह अपने आप में पहला अनुष्ठान है, जिसमें मुस्लिम-हिंदू के साथ किन्नर भी शामिल हुए. सभी ने एक साथ यज्ञ में आहुति दी. अब ये अनुष्ठान की चर्चा पूरे बनारस में हो रही है.

भारतीय एकता का संदेश देने के लिए आयोजन



हनुमान चालीसा के एक-एक दोहे के साथ सैकड़ों हाथ यज्ञ में आहुति देते हुए स्वाहा कह रहे हैं. यज्ञ में आहुति देने के लिए एक साथ उठ रहे यह सैकड़ों हाथ किसी एक जाति एक धर्म के नहीं, बल्कि मुस्लिम, हिंदू और किन्नर समाज इसमें शामिल है. सभी एक साथ हनुमान चालीसा का पाठ करते हुए इस यज्ञ में आहुति देते दिखाई दिए. भारतीय एकता का संदेश देने के लिए इस यज्ञ का अनुष्ठान किया गया और इसमें सभी वर्ग के लोगों को शामिल किया गया.
पातालपुरी मठ में हो रहा आयोजन

वाराणसी के पातालपुरी मठ में यह आयोजन किया गया, जिसके महंत बाबा बालक दास ने बताया कि हम सनातन धर्म में सभी लोगों को एक साथ लेकर के चलते हैं. किसी भी तरीके से भेदभाव नहीं करते हैं. इस घड़ी में हमें अपनी एकता दिखानी चाहिए. जिसमें ना हमें दलित के साथ और ना ही हमें हिंदू और मुस्लिम के साथ भेदभाव करना चाहिए. एक साथ चलने से हम एकत्रित होंगे और भारत पर बुरी नजर रखने वालों से जीत हासिल कर पाने में काफी आसानी होगी.

किन्नर समुदाय ने आमंत्रण पाकर जताई खुशी

यज्ञ में काफी संख्या में किन्नर समुदाय के लोग शामिल हुए. साथ ही मुस्लिम समुदाय से महिलाओं ने भी बढ़-चढ़ कर भाग लिया. एक तरफ जहां मुस्लिम महिला फाउंडेशन की अध्यक्ष नाजनीन अंसारी ने इस हनुमान चालीसा के पाठ से विश्व में शांति का संदेश दे रही हैं तो वहीं किन्नर समाज से जुड़े लोगों ने इस तरीके का आयोजन को सराहा. उन्होंने काफी खुशी जाहिर की कि ऐसा पहली बार हो रहा है, जब सर्व समाज में उन्हें सम्मान दिया जा रहा है. बनारस में 11 दिन चलने वाले इस हनुमान चालीसा यज्ञ में यह कामना किया गया कि भारत को इस्लामी जिहादियों से और चीन के विस्तारवादी नीतियों से जीत मिले और यह जीत एकता के साथ मिले.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज