Unlock में भी सुने पड़े हैं बनारस में गंगा के घाट, ये वर्ग हुआ रोजी-रोटी का मोहताज!
Varanasi News in Hindi

Unlock में भी सुने पड़े हैं बनारस में गंगा के घाट, ये वर्ग हुआ रोजी-रोटी का मोहताज!
वाराणसी गंगा घाट.

लॉकडाउन (Lockdown) के बाद देश में लगे अनलॉक (Unlock) ने आर्थिक आधार पर आम जनमानस को थोड़ी राहत दी. हालांकि अब भी कुछ ऐसे लोग हैं, जो अनलॉक होने के बावजूद पाई-पाई के लिए मोहताज हैं.

  • Share this:
वाराणसी. लॉकडाउन (Lockdown) के बाद देश में लगे अनलॉक (Unlock) ने आर्थिक आधार पर आम जनमानस को थोड़ी राहत दी. हालांकि अब भी कुछ ऐसे लोग हैं, जो अनलॉक होने के बावजूद पाई-पाई के लिए मोहताज हैं. इन्हीं में से एक समुदाय है, उत्तर प्रदेश में धर्म नगरी वाराणसी में घाटों पर बैठने वाले पुजारी, जिनकी आजीविका पिछले 3 महीने से पूरी तरह से ठप पड़ी हुई है और अब आने वाले समय में अगले 4 महीने तक भी हालात सुधरने की उम्मीद नहीं लगाई जा रही है. जबकि बनारस के घाट विश्व प्रसिद्ध माने जाते हैं.

बनारस में घाटों की रौनक जितनी पर्यटकों से होती थी उतनी ही श्रद्धालुओं से भी और इन्हीं श्रद्धालुओं से घाटों पर रहने वाले लोगों की आजीविका चलती थी, जिसमें घाटों पर दुकानदार, नाविक और पुजारी शामिल हैं, लेकिन इन सब में सिर्फ घाट की कमाई से चलने वाले पुजारी इन दिनों खासा परेशान हैं. क्योंकि लॉकडाउन के बाद अनलॉक में भी घाटों पर और गंगा में स्नान करने का निर्देश नहीं जारी हुआ, जिसके कारण इन्हें राहत नहीं मिली. घाट पर पूजा कराने वाले अरविंद त्रिवेदी कहते हैं कि स्थिति यह है कि अब यह एक एक रुपए के लिए भी मोहताज हो गए हैं. क्योंकि इनकी कमाई घाटों पर आने वाले श्रद्धालुओं की पूजा कराने पर यही होती थी.

गंगा में बाढ़ के बाद और बिगड़ेंगे हालात
अस्सी घाट के पुजारी रमेश पांडेय बताते बताते है कि अब हालात और भी बिगड़ते हुए नजर आ रहे हैं. क्योंकि गंगा में अब बाढ़ आने का समय हो गया है जिससे पानी  घाटों पर आ जाता है और इन्हें अपना रोजगार 4 महीने के लिए बंद करना पड़ता है. गंगा में पानी का बढ़ाव भी आना शुरू हो गया है. ऐसे में पिछला 3 महीना और अब बाढ़ को खत्म होने में चार महीने लगेंगे ऐसे में अगर घाटों पर गंगा स्नान या श्रद्धालुओं का जाना शुरू भी हो जाता है तो इन्हें राहत नही मिलने वाली है. अब इन्हें सरकार से ही उम्मीदें हैं. ताकि कुछ ऐसा व्यवस्था हो पाए जिससे इनके परिवार का पोषण हो सकें.
ये भी पढ़ें:


राजस्थान: पहली बार कोरोना वारियर के परिवार को मिली 50 लाख की मदद, पढ़ें- राज्य में कोविड-19 Update

राहत: राजस्थान में इस सत्र कॉलेज-यूनिवर्सिटी की नहीं बढ़ेगी फीस, आज से एडमिशन शुरू
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading