• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • काशी में श्रीविश्वनाथ धाम पूरा बना नहीं, फेसबुक और व्हाट्सएप पर दुकानें बेचने लगे जालसाज

काशी में श्रीविश्वनाथ धाम पूरा बना नहीं, फेसबुक और व्हाट्सएप पर दुकानें बेचने लगे जालसाज

काशी  विश्वनाथ धाम की दुकानों को फर्जी तरीके से बेचने वाले दो आरोपी गिरफ्तार

काशी विश्वनाथ धाम की दुकानों को फर्जी तरीके से बेचने वाले दो आरोपी गिरफ्तार

Varanasi Crime News: मामला जब मंदिर प्रशासन के संज्ञान में आया तो हड़कंप मच गया. मामले की जांच की गई तो फर्जी तरीके से जालसाजी किए जाने का पूरा मामला सामने आया. इसके बाद पुलिस ने दो जालसाजों को गिरफ्तार किया.

  • Share this:

वाराणसी. काशी में श्री विश्वनाथ मंदिर से मां गंगा के बीच बन रहे निर्माणाधीन श्री विश्वनाथ धाम अभी पूरा हुआ भी नहीं है, फर्जी कारोबार करने वालेे सक्रिय हो गए है और ये बाबा का दरबार भी बेच खाने पर आमादा हो गये हैं. धाम में फिनिशिंग का काम बाकी है. माना जा रहा है कि नवंबर के अंत तक इसका निर्माण पूरा होगा, लेकिन लालची जालसाजों ने बाबा धाम का कॉरीडोर बनने से पहले ही फेसबुक और व्हाट्सअप पर वहां की दुकानों को फर्जी तरीके से एलॉट करने का झांसा देकर कई लोगों को बेवकूफ बना डाला.

मामला जब मंदिर प्रशासन के संज्ञान में आया तो हड़कंप मच गया. मामले की जांच की गई तो पूरा मामला फर्जी तरीके से जालसाजी का सामने आया. इसके बाद सबसे पहले सीईओ सुनील वर्मा ने मीडिया के जरिए दुकानें आवंटित होने की बात का खंडन किया और फिर तहसीलदार की तहरीर पर दशाश्वमेध थाने में वाराणसी के सूरजकुंड पानदरीबा निवासी शशिकांत चौरसिया के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया. दो जालसाज अरेस्ट

शशिकांत चौरसिया से पूछताछ में पता चला कि इस फर्जीवाड़े में चितईपुर थाना के सुसुवाही विश्वनाथपुरी कालोनी का रहने वाला रत्नशेखर सिंह भी शामिल है. पुलिस ने रत्नशेखर सिंह को भी गिरफ्तार कर लिया. फिलहाल दोनों से पूछताछ में कई और लोगों के नाम सामने आए हैं, जिसकी तलाश मे पुलिस दबिश दे रही है.

एडवांस बुकिंग के नाम पर फर्जीवाड़ा, मामले की जांच में जुटी पुलिस

पूछताछ में एक सफेदपोश के करीबी का नाम भी सामने आने की चर्चा है, जिस पर फिलहाल पुलिस की ओर से कोई औपचारिक बयान नहीं आया है. बताया जा रहा है कि मास्टरमाइंड यही करीबी है. पुलिस कमिश्नर ए सतीश गणेश ने बताया कि साक्ष्य के आधार पर पुलिस मामले की जांच कर रही है, जो भी दोषी होंगे, उनके खिलाफ सख्त कार्यवाई की जाएगी. बता दें कि निर्माणाधीन श्री काशी विश्वनाथ कॉरीडोर में अंदर यात्रियों की सुविधाओं के लिहाज से कई दुकानों का भी निर्माण हो रहा है. इन्हीं दुकानों के पहले से एडवांस बुकिंग के नाम पर ये फर्जीवाड़ा किया जा रहा था.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज