Home /News /uttar-pradesh /

उत्तराखंड त्रासदी पर स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती बोले- संतों-वैज्ञानिकों ने था चेताया, सरकारों ने की अनदेखी

उत्तराखंड त्रासदी पर स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती बोले- संतों-वैज्ञानिकों ने था चेताया, सरकारों ने की अनदेखी

गंगा सभा के महासचिव स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती

गंगा सभा के महासचिव स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती

Varanasi News: गंगा महासभा के महासचिव स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती (Swami Jeetendranand Saraswati) ने अपना बयान जारी कर कहा है की पूर्व और वर्तमान की सरकारों की लापरवाही के कारण यह घटना हुई है.

वाराणसी. उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर फटने (Uttarakhand Glacier Burst) के बाद आई जल तबाही ने एक बार फिर से 2013 की उस त्रासदी की याद ताजा कर दी जिसमें हजारों लोगों की जान चली गई थी. घटना को लेकर पूरे देश में शोक का माहौल बना हुआ है. वहीं इस आपदा को लेकर गंगा महासभा (Ganga MAhasabha) ने पूर्व और वर्तमान सरकार पर बड़े आरोप लगाए हैं. गंगा महासभा के महासचिव स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती (Swami Jeetendranand Saraswati) ने अपना बयान जारी कर कहा है की पूर्व और वर्तमान की सरकारों की लापरवाही के कारण यह घटना हुई है.

स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती ने पीड़ित परिवारों के प्रति शोक जाहिर करते हुए कहा कि 2013 की केदारनाथ त्रासदी के बाद यह सबसे बड़ी तबाही है. चमोली जिले में धौलीगंगा नदी में ग्लेशियर के फटने और हिमस्खलन के कारण आई बाढ़ के सामने बांध, गाड़ियां और मनुष्य जो सामने पड़े तिनके की तरह सैलाब में बह गए. उन्होंने बताया कि गंगा महासभा पहले भी कई बार उत्तराखंड में बन रहे बांधों को लेकर चेतावनी दे चुकी है. इसके साथ ही वैज्ञानिकों और संतों ने बार बार चेताया है, लेकिन इसके बावजूद सरकारों ने बांधों का काम जारी रखा.

टिहरी बांध को बताया था टाइम बम 

स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती ने कहा कि प्रोफेसर शिवाजीराव ने 2002 में ही टिहरी बांध को टाइम बम कहा था. समय आ गया है अब भी टिहरी बांध को सही कर लें, क्योंकि उसका भी समय पूरा हो गया है. ऐसा ना हो कि यह बांध इंसानों के ऊपर कलंक साबित हो जाए. गंगा महासभा ने लगातार पूरे उत्तराखंड में बन रहे बांधों को लेकर के चेताया लेकिन  उत्तराखंड में सरकारों को चाहे वह पहले की सरकार हो चाहे अब कि उन्हें बांधों से मिलने वाले कमीशन की चिंता थी, लेकिन उत्तराखंड में रहने वाले लोगों की चिंता नहीं थी.

Tags: Uttarakhand Glacier burst, Varanasi news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर