Varanasi news

वाराणसी

अपना जिला चुनें

वाराणसी: अटल जी के अस्थि विसर्जन पर गूंजेगी उस्ताद बिस्मिल्लाह खां की शहनाई

फाइल फोटो

फाइल फोटो

उस्ताद के परिजनों ने बताया कि वे 'रघुपति राघव राजा राम' की धुन बजाकर पूर्व पीएम को अपनी श्रद्धांजलि देंगे.

SHARE THIS:
मोक्ष नगरी वाराणसी में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के अस्थि विसर्जन के दौरान भारत रत्न बिस्मिल्लाह खां की शहनाई गूंजेगी. उस्ताद बिस्मिल्लाह खां के परिजन उनकी शहनाई से राम धुन बजाकर अटलजी को श्रद्धांजलि देंगे. उस्ताद के परिजनों ने बताया कि वे 'रघुपति राघव राजा राम' की धुन बजाकर पूर्व पीएम को अपनी श्रद्धांजलि देंगे.

बता दें वाराणसी में 25 अगस्त को अटल जी की अस्थियों का गंगा में विसर्जन होना है. बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष व चंदौली से सांसद डॉ महेंद्र नाथ गंगा में अटलजी की अस्थियों का विसर्जन करेंगे. वाराणसी में अटल जी की अस्थि कलश यात्रा निकालने की तैयारी लगभग पूरी कर ली गई है. शहर के 65 जगहों से यात्रा गुजरेगी. इस दौरान पुष्प वर्षा भी की जाएगी.

बता दें गुरुवार को राजधानी लखनऊ में अटल जी की अस्थि यात्रा निकाली जा रही है. शहर के कई चौराहे से होते हुए अटल जी की अस्थियों को गोमती नदी में विसर्जित किया जाएगा. इसके बाद प्रदेश की विभिन्न नदियों में उनका विसर्जन किया जाएगा. भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने बताया कि प्रदेश के 16 अलग-अलग स्थानों की प्रमुख नदियों में भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियों का विसर्जन किया जाएगा. बीजेपी के राज्य मुख्यालय से 24 अगस्त को सुबह 9 बजे प्रमुख नदियों में अस्थियों के विसर्जन के लिए 16 कलश रवाना किए जाएंगे. कलश को प्रदेश सरकार के एक मंत्री व पार्टी के एक प्रदेश पदाधिकारी अपने साथ लेकर जायेंगे.

इससे पहले आज उत्तर प्रदेश विधानसभा का मानसून सत्र गुरुवार को शुरू हुआ है. पहले दिन विधानसभा और विधान परिषद में पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर शोक प्रस्ताव पेश किया गया. सदन सभी दलों के नेताओं ने अटल जी को श्रद्धांजलि दी.

(इनपुट: नितिन पांडेय)

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

BHU Entrance Exam 2021: बीएचयू यूजी व पीजी प्रवेश परीक्षा की तिथि घोषित, जानें कब जारी हो रहा एडमिट कार्ड

BHU Entrance Exam 2021: बनारस हिंदू विश्वविद्यालय यूजी एंट्रेंस टेस्ट और पीजी एंट्रेंस टेस्ट की तिथि घोषित कर दी गई है.

BHU Entrance Exam 2021: राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी ने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय यूजी व पीजी प्रवेश परीक्षा की तिथि घोषित कर दी है. अभ्यर्थी आधिकारिक वेबसाइट bhuet.nta.nic.in से परीक्षा कार्यक्रम डाउनलोड कर सकते हैं.   

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 20, 2021, 17:01 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली (BHU Entrance Exam 2021).  बीएचयू यूजी व पीजी कोर्सो में दाखिले के लिए प्रवेश परीक्षा की तिथि घोषित कर दी गई है. अभ्यर्थी आधिकारिक वेबसाइट bhuet.nta.nic.in पर प्रवेश परीक्षा शेड्यूल चेक कर सकते हैं. परीक्षा 28 सितंबर 202,30 सितंबर 2021, 1 अक्टूबर 2021,3 अक्टूबर 2021 और 4 अक्टूबर 2021 को किया जाएगा. परीक्षा सीबीटी आधारित होगी. प्रवेश परीक्षा का आयोजन राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी की ओर से किया जाएगा.

परीक्षा के लिए जल्ट ही एनटीए अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर एडमिट कार्ड जारी करेगा. बता दें कि पहले आवेदन की अंतिम तिथि 6 सितंबर 2021 थी, जिसे 6 दिनों के लिए आगे बढ़ाकर 12 सितंबर 2021 कर दिया गया था. यूजी एंट्रेंस टेस्ट (यूईटी)-2021 और पीजी एंट्रेंस टेस्ट (पीईटी)-2021 के लिए 14 अगस्त 2021 से आवेदन की प्रक्रिया शुरू हुई थी.

यूजी व पीजी में दाखिले के लिए प्रवेश परीक्षा का आयोजन राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी की ओर से किया जाएगा. आवेदन में संशोधन करने की अंतिम तिथि 15 सितंबर 2021 थी. अभ्यर्थी परीक्षा शुल्क का भुगतान करने के लिए अभ्यर्थियों को 13 सितंबर 2021 तक का समय दिया गया था.

यहां देखें परीक्षा शेड्यूल

यह भी पढ़ें –
Sarkari Naukri Result 2021: यूपी में निकली है 5000 नौकरियां, आवेदन की अंतिम तिथि नजदीक
UPSSSC PET 2021: अगर परीक्षा में की है ये गलती तो होगा बड़ा नुकसान, देखें पूरी जानकारी

Varanasi News: गंगा में नाव संचालन का पर रोक,नाविकों की बढ़ी मुश्किलें जानिए वजह

Ban on boat operation in Ganga

गंगा के जलस्तर में बढ़ाव के कारण एक महीने में दूसरी बार नाव संचालन पर प्रशासन ने रोक लगा दी है.

SHARE THIS:

उत्तर प्रदेश के वाराणसी (Varanasi) में गंगा का जलस्तर फिर से बढ़ने लगा है. तेजी से बढ़ते गंगा (Ganga) के जलस्तर ने नाविक और पुरोहितों की मुश्किलें बढ़ा दी है. गंगा का जलस्तर बढ़ने के कारण एक महीने में दूसरी बार नाव संचालन पर प्रशासन ने रोक लगा दी है. केंद्रीय जल आयोग के मुताबिक, वाराणसी में 2 सेंटीमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गंगा का जलस्तर बढ़ रहा है.
गंगा के जलस्तर में बढ़ोतरी के कारण घाटों की सीढ़ियां एक के बाद एक गंगा में समाहित हो रही है. वाराणसी के दशाश्वमेध घाट पर नित्य संध्या होने वाले विश्वप्रसिद्ध गंगा आरती का स्थल और कार्यालय भी पूरी तरह जलमग्न हो गया है. इसके अलावा घाट किनारे दर्जनों मंदिर भी पूरी तरह गंगा के पानी में डूब गए हैं.

फिर छीन गई रोजी रोटी
नाविक मनीष सहानी ने बताया कि गंगा में उफान के कारण नाव संचालन को प्रतिबन्ध कर दिया गया है. जिससे फिर से नाविकों की रोजी रोटी छीन गई है. शम्भू सहानी ने बताया कि बीते 24 घण्टे में 6 से 8 फीट तक गंगा का जलस्तर बढ़ा है. जिससे नाविकों को खासा मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है.

सताने लगा बाढ़ का डर
गंगा में उफान के कारण तटवर्ती इलाके में रहने वाले लोगो को फिर से बाढ़ का डर सताने लगा है. दूसरी तरफ बाढ़ को लेकर जिला प्रशासन ने भी कमर कस ली है. प्रशासन ने जल पुलिस के साथ ही एनडीआरएफ को अलर्ट पर रखा है. केंद्रीय जल आयोग के अनुसार शनिवार की सुबह 8 बजे गंगा का जलस्तर 65.96 मीटर दर्ज किया गया है.

Varanasi News:काशी विद्यापीठ तैयार करेगा 'पुरोहित' और 'गुरु',नए सत्र से होगी इस कोर्स की शुरुआत

Kashi Vidyapeeth will prepare purohit and guru

वाराणसी (Varanasi) का महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ विश्वविद्यालय अब 'पुरोहित' और 'गुरु' तैयार करेगा. इसके लिए विश्वविद्यालय में कर्मकांड के पाठ पढाये जायेंगे

SHARE THIS:

वाराणसी (Varanasi) का महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ विश्वविद्यालय अब \’पुरोहित\’ और \’गुरु\’ तैयार करेगा. इसके लिए विश्वविद्यालय में कर्मकांड की पढ़ाई होगी. इसमें स्टूडेंट्स को पूजा पद्धति से लेकर संस्कार तक शिक्षा दी जाएगी. भारतीय संस्कृति से जोड़ने के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन ने ये कदम उठाया है. कर्मकांड पर आधारित इस नए कोर्स की शुरुआत नए सत्र से होगी.

न्यूज 18 से बातचीत में विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर के सी त्यागी ने बताया कि आर्मी,पैरामिलिट्री फोर्स,पुलिस के अलावा अन्य विभागों में \’गुरुओं\’ की आवश्यकता होती है. इन विभागों को हमलोग स्किल्ड गुरु दे सके, इसके लिए विश्वविद्यालय कर्मकांड में डिप्लोमा कोर्स की शुरुआत करने जा रहा है. इस कोर्स से हम लोग आर्मी और पैरामिलिट्री को स्किल्ड गुरु दे सकेंगे.

भारतीय संस्कृति का होगा प्रचार प्रसार
प्रोफेसर के सी त्यागी ने बताया कि इस काशी की पांडित्य परम्परा पर आधारित कोर्स से देशभर में भारतीय संस्कृति और कर्मकांड का प्रचार प्रसार होगा. इसके साथ ही युवाओं को रोजगार के नए अवसर भी मिलेंगे.

छात्रों में उत्साह का माहौल
कर्मकांड पर विश्वविद्यालय में पहली बार डिप्लोमा के इस नए कोर्स की शुरुआत होने से छात्रों में भी खुशी का माहौल है. विश्वविद्यालय के स्टूडेंट ऋषभ चतुर्वेदी ने बताया कि इस नए कोर्स की शुरुआत से भारतीय संस्कृति और पांडित्य परम्परा को हम लोग अच्छे से जान और समझ सकेंगे. राघवेंद्र ने बताया कि छात्र होने के नाते ये हमारे लिए गर्व और खुशी की बात है कि काशी की संस्कृति को यहां पढ़ाया जाएगा. विश्वविद्यालय प्रशासन का ये कदम सराहनीय है.

काशी को स्मार्ट पब्लिक फैसेलिटी सेंटर की सौगात,फ्री वाई-फाई सहित मिलेगी ये सुविधाएं

Varanasi Smart Public Facility Center

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) का संसदीय क्षेत्र वाराणसी अब और स्मार्ट हो गया है. पर्यटकों संग आम लोगो के सुविधा ही सुविधा

SHARE THIS:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) का संसदीय क्षेत्र वाराणसी अब और स्मार्ट हो गया है. पर्यटकों संग आम लोगो की सुविधा के लिए शहर में स्मार्ट सिटी योजना (Smart City Project) के तहत \’स्मार्ट पब्लिक फैसिलिटी सेंटर\’ बनाया गया है. शहर में बने इन सेंटर पर आम लोगों के बैठने के साथ ही शौचालय,स्वच्छ पानी, वाई-फाई और मोबाइल चार्जिंग जैसी सुविधा मिलेगी. इसके लिए आम लोगो को किसी तरहः का कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा. वाराणसी (Varanasi) के कचहरी स्थित अम्बेडकर चौक पर एक स्मार्ट पब्लिक फैसिलिटी सेंटर तैयार हो गया है.

कचहरी पर बने इसी सेंटर के तर्ज पर वाराणसी शहर में 11 और सेंटर बनाए जाएंगे. वाराणसी के कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने बताया कि स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत पीपीपी मॉडल पर इसका निर्माण किया जा रहा है. शहर के व्यस्त इलाको में जहां लोगो को पब्लिक ट्रांसपोर्ट के लिए इंतजार करना पड़ता है उन जगहों पर इसका निर्माण कराया जाएगा.

सेंटर पर घर जैसा माहौल
वाराणसी के रहने वाले मनीष श्रीवास्तव ने बताया कि इस तरह के सेंटर आम लोगो को बेहद फायदा होगा. यहां रुक कर लोग अपनो का इंतजार भी कर सकते है. इस सेंटर में लोगो को घर जैसा माहौल देखने को मिल रहा है. सेंटर पर ठहरे सत्यप्रकाश यादव ने बताया कि सेंटर पर वाई-फाई,मोबाइल चार्जिंग स्टेशन और पीने का स्वच्छ पानी की भी व्यवस्था है जिसका सीधा फायदा आम लोगो को मिलेगा.

Chandauli News: उपद्रवियों ने तेजस राजधानी एक्सप्रेस पर किया पथराव, शीशा टूटने पर बाल-बाल बचे यात्री

Chandauli News: उपद्रवियों ने तेजस राजधानी एक्सप्रेस पर किया पथराव (File photo)

Indian Railways News: इसके साथ ही ट्रेन से सफर कोच संख्या A-5 का यात्री राहुल गोगोई ने बताया कि मेरा बर्थ संख्या 38 है. लेकिन सफर के दौरान जब बर्थ संख्या 41 हमने खाली देखा तो हम वहीं बैठ गए.

SHARE THIS:

चंदौली/वाराणसी. राजेंद्र नगर से नई दिल्ली जा रही 02309 तेजस राजधानी एक्सप्रेस (Tejas Rajdhani Express) के कोच नम्बर A-5 पर रविवार देर शाम उपद्रवी तत्वों ने पथराव कर दिया. इससे बर्थ संख्‍या 41 का शीशा क्षतिग्रस्त हो गया. संयोग अच्छा था कि किसी यात्री को चोट नहीं लगी. घटना से यात्री दहशत में नजर आए. ट्रेन के डीडीयू जंक्शन पहुंचने पर रेलवे सुरक्षाकर्मियों की टीम ने बोगी का निरीक्षण किया. साथ ही बर्थ पर बैठे यात्री की कुशलता जानी. फिलहाल पुलिस जांच पड़ताल में जुटी है.

बताया जा रहा है कि बिहार के बक्सर में उपद्रवी तत्वों ने तेजस राजधानी एक्सप्रेस पर पथराव कर दिया. जिससे कोच संख्या A-5 (212137/C) के बर्थ संख्या 41 का शीशा एक परत टूट गया. हालांकि उस बर्थ पर बैठे यात्री को किसी प्रकार की चोट नहीं आई. इसके साथ ही ट्रेन से सफर कोच संख्या A-5 का यात्री राहुल गोगोई ने बताया कि मेरा बर्थ संख्या 38 है. लेकिन सफर के दौरान जब बर्थ संख्या 41 हमने खाली देखा तो हम वहीं बैठ गए. वहीं यात्री ने बताया ट्रेन बक्सर स्टेशन के आसपास थी तभी किसी ने पथराव कर दिया. जिससे बर्थ संख्या 41 का शीशा टूट गया. इस दौरान डीडीयू जंक्शन से ट्रेन 22:22 पर अपने गंतव्य के लिए रवाना हुई.

यह भी पढे़ं- UP News: पहली बार अल्टीमेट कराटे लीग हुई मुंबई से लखनऊ शिफ्ट, देश-विदेश के खिलाड़ी होंगे शामिल

यह पहला मौका नहीं है जब इस इलाके में ट्रेनों पर हमला हुआ है. इससे पहले भी इस तरह के मामले प्रकाश में आये है. रेलवे सुरक्षा बल (RPF) के इंस्पेक्टर संजीव ने बताया कि मेमों के जरिये कंट्रोल सूचना मिली थी ट्रेन का एक शीशा टूटा हुआ पाया गया. जिसकी पैचिंग करा दी गयी है. जानकारी के बाद कार्रवाई की जा रही है. संजीव के मुताबिक इस तरह की घटनाओं को अंजाम देने वाले उपद्रवी तत्वों को चिह्नित कर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

CM योगी बोले- पहले मुख्यमंत्री बनने पर बनवाई जाती थीं हवेलियां, हमने 42 लाख गरीबों के घर बनाए

UP: हर दूसरे-तीसरे दिन हुआ करते थे साम्प्रदायिक दंगे (File photo)

UP News: सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पहले कुत्सित विचारों वाले विपक्षी दल अयोध्या जाने से डरते थे और हम पर तंज करते थे कि "मंदिर वहीं बनाएंगे पर तारीख नहीं बताएंगे".

SHARE THIS:

लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने कहा है कि 2017 से पहले यूपी में अपराधी और माफिया सत्ता के शागिर्द बनकर राज्य में भय, भ्रष्टाचार और अराजकता का माहौल खड़ा कर रहे थे और हर दूसरे-तीसरे दिन साम्प्रदायिक दंगे होते थे, लेकिन आज इनके खिलाफ हो रही कार्रवाइयों ने पूरे देश में एक मॉडल पेश किया है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह भी कहा कि उनसे पहले के मुख्यमंत्रियों में अपनी हवेलियां बनाने की होड़ मचती थी, लेकिन हमने इस नए भारत के नए उत्तर प्रदेश में 42 लाख गरीबों के लिए आवास बनाए हैं. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय पटल पर यूपी को लेकर परसेप्शन बदला है. शासन के प्रति जनता का भरोसा बढ़ा है और अब यही विश्वास 2022 के चुनाव में 350 सीटों के भारी बहुमत के साथ एक बार फिर हमारी जीत सुनिश्चित करेगा .

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में पहले कोई भी पर्व शांति से नहीं हो पाता था लेकिन बीतेचार साल से कोई दंगा नहीं हुआ.इससे लोगों की धारणा बदली और निवेशकों को भय नहीं है. इसीलिए ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में यूपी नम्बर दूसरे पर है.

कोरोना प्रबंधन की तारीफ़
सीएम योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में यूपी के कोरोना प्रबंधन के मॉडल को हर ओर सराहा जा रहा है. कोरोना काल में देश की पहली मोबाइल डिस्प्ले यूनिट यूपी में लगी और चीन से कारोबार खत्म कर भारत आई इस कम्पनी ने भारत में यूपी को चुना. उन्होंने कहा कि यह नया उत्तर प्रदेश निवेशकों की पहली पसंद है तो पर्यटकों के मन की चाह भी है. उन्होंने कहा, कि पहले कुत्सित विचारों वाले विपक्षी दल अयोध्या जाने से डरते थे और हम पर तंज करते थे कि “मंदिर वहीं बनाएंगे पर तारीख नहीं बताएंगे”. आज पूरी दुनिया अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण देख रही है.

UP Assembly Election 2022: ओमप्रकाश राजभर का दावा- 150 बीजेपी विधायक संपर्क में, चुनाव से पहले ज्वाइन करेंगे SBSP

वाराणसी में ओमप्रकाश राजभर ने दावा किया कि 150 बीजेपी विधायक उनके संपर्क में हैं.

Varanasi News: राजभर ने बीजेपी को देश की सबसे बढ़ी झूठी और भ्रष्ट पार्टी बताते हुए कहा कि 2022 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को हराने के लिए संकल्पित हैं. इतना ही नहीं राजभर ने योगी सरकार के साढ़े चार साल की उपलब्धियों को भी झूठ का पुलिंदा बताया.

SHARE THIS:

वाराणसी. सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (SBSP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर (Omprakash Rajbhar) ने बड़ा दावा करते हुए कहा कि बीजेपी (BJP) के 150 विधायक और नेता उनके संपर्क में हैं. उन्होंने कहा कि बीजेपी के उत्पीड़न से परेशान ये नेता चुनाव से पहले सुभासपा में शामिल होंगे. उन्होंने कहा कि बीजेपी का चुनाव में ऐसा हश्र होगा कि चुनाव लड़ने के लिए बीजेपी के पास नेता ही नहीं बचेंगे. राजभर ने बीजेपी को देश की सबसे बढ़ी झूठी और भ्रष्ट पार्टी बताते हुए कहा कि 2022 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को हराने के लिए संकल्पित हैं. इतना ही नहीं राजभर ने योगी सरकार के साढ़े चार साल की उपलब्धियों को भी झूठ का पुलिंदा बताया.

रविवार को वाराणसी के सिंचाई विभाग के गेस्ट हाउस में प्रेसवार्ता करते हुए सुभासपा राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि ‘योगी सरकार साढ़े चार साल में झूठ का विकास खूब हुआ है. पिछड़ों, दलितों और वंचितों का अधिकार व आरक्षण लूटने का काम तेजी से हुआ है. भ्रष्टाचार व बेरोजगारी का विकास हुआ है. महिला अपराध का विकास तेजी से हुआ है. ना सामाजिक न्याय समिति रिपोर्ट लागू कर पाए,ना स्नातकोत्तर तक निशुल्क शिक्षा दे पाए.’

विकास सिर्फ विज्ञापन में हुए
राजभर ने आगे कहा कि ‘महंगी शिक्षा, महंगी बिजली, महंगा राशन, महंगा पेट्रोल/डीजल, महंगा गैस सिलेंडर, सरसो तेल और दूध ने महंगाई के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए. यही तो डबल ईंजन की सरकार में तेजी से विकास हुआ है. इतना विकास होने के बाद अगर अब्बाजान का रट लगाना पड़े तो समझ जाना चाहिए, इनके विकास सिर्फ विज्ञापन में हुए है.’

राजभर ने अखिलेश के बयान का किया समर्थन
राजभर यहीं नहीं रुके, उन्होंने महंगाई को लेकर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को भी चुनौती दी. साथ ही कहा कि मनमोहन सिंह की तरह नरेंद्र मोदी को भी चूड़ियां भेंट करें। राजभर ने सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के उस बयान का भी समर्थन किया जिसमें उन्होंने बीजेपी को ठग करार दिया था. राजभर ने कहा कि बीजेपी ने राम मंदिर की जमीनों के नाम पर भी लोगों को ठगा है.

Neet Exam Solver Gang : वाराणसी पुलिस ने खंगाल ली PK की कुंडली, जानें A to Z

पुलिस दबिश की भनक लगते ही पीके अपने आवास से फरार हो गया.

Gang Leader PK : पीके का असली नाम नीलेश सिंह है. वह कमल वंश नारायण सिंह का बेटा है. बिहार के छपरा जिले के गांव सेंधवा के थाना एकमा का वह मूल निवासी है. फिलवक्त वह बीएसएनल टेलिफोन एक्सचेंज के सामने पाटलिपुत्र पटना में अपने परिवार के साथ चार मंजिला मकान में रहता है.

SHARE THIS:

वाराणसी. नीट-यूजी की परीक्षा में सेंधमारी की कोशिश में पकड़ी गई बीएचयू बीडीएस की छात्रा जूली और उसकी मां बबीता के बाद हर रोज नई-नई कड़ी खुलती जा रही है. बिहार का विकास महतो, केजीएमयू के फाइनल वर्ष का छात्र ओसामा, फोटो मेकर राजू और जूली के भाई अभय को भी पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है. लेकिन अब तक पुलिस जिस शख्स का सुराग जुटाने में लगी है, वह है पीके. पीके इस पूरे साल्वर गैंग का मुखिया है और उसने अपनी पहचान कभी किसी के सामने नहीं आने दी.

यह चौंकाने वाली बात है कि इतना बड़ा हाईटेक नेटवर्क चलाने वाले पीके को किसी नहीं देखा है. वह न फोन से बात करता है और न प्लेन से सफर करता है. सफर के लिए वह ट्रेन और बस का सहारा लेता है और अपना संदेश पहुंचाने के लिए वह संबंधित गैंग के सदस्य को कोरियर करता है.

पीके ने कॉलोनी में खुद को डॉक्टर बता रखा है

लेकिन वाराणसी पुलिस ने महज दो दिन में नीलेश की पूरी कुंडली खोज ली है. इस पीके का असली नाम नीलेश सिंह है. वह कमल वंश नारायण सिंह का बेटा है. बिहार के छपरा जिले के गांव सेंधवा के थाना एकमा का वह मूल निवासी है. फिलवक्त वह बीएसएनल टेलिफोन एक्सचेंज के सामने पाटलिपुत्र पटना में अपने परिवार के साथ चार मंजिला मकान में रहता है. महंगी गाड़ियों का शौक रखने वाला नीलेश भनक लगते ही परिवार समेत वहां से फरार हो गया है. जिस कॉलोनी में नीलेश रहता है, वहां के लोगों को खुद के डॉक्टर होने की बात कह रखी है.

मूल अभ्यर्थी हिना की भी तलाश जारी

फिलहाल पुलिस पीके की तलाश में जहां एक ओर छापेमारी कर रही है, वहीं दूसरी ओर त्रिपुरा पुलिस से संपर्क करके हिना बिस्वास और उसके परिवार का पता लगाने में जुटी है. हिना ही वह मूल अभ्यर्थी है, जिसके लिए फर्जी अभ्यर्थी बनकर बीएचयू की साल्वर जूली पहुंची थी. जूली बहुत होनहार लड़की है और बीएचयू में बीडीएस सेकेंड इयर की छात्रा है. पिता बिहार के पटना में सब्जी बेचते हैं लेकिन मां और भाई के लालच मे फंसकर जूली होनहार स्टूडेंट्स से साल्वर बन गई.

पूर्वांचल में कितना हुआ विकास? खुद जाकर देखेंगे CM योगी, आज से 4 जिलों का करेंगे दौरा

UP: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का आज से शुरू होगा 4 जिलों का दौरा (File photo)

CM Yogi Poorvanchal Visit: यूपी में भाजपा सरकार के साढ़े 4 साल पूरा होने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज से पूर्वांचल के 4 जिलों के दौरे पर निकल रहे हैं. वे आज अयोध्या और वाराणसी जाएंगे, कल गाजीपुर व जौनपुर में विकास योजनाओं की जमीनी हकीकत का जायजा लेंगे.

SHARE THIS:

लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज रविवार से चार जिलों के दौरे पर रहेंगे. सीएम योगी आज लोकभवन में अपनी सरकार के साढ़े चार साल पूरे होने पर एक प्रेस ब्रीफिंग के बाद अयोध्या के लिए रवाना होंगे. अयोध्या में वे पिछड़ा वर्ग सम्मेलन के समापन सत्र को सम्बोधित करेंगे. अयोध्या के बाद सीएम योगी करीब 5 बजे तक वाराणसी के लिए रवाना होंगे. वाराणसी में पीएम मोदी के जन्मदिन के उपलक्ष्य में संगठन की तरफ से 17 सितम्बर से 7 अक्टूबर तक चलाए जा रहे सेवा समर्पण अभियान के कार्यक्रम में शामिल होंगे.

सीएम वाराणसी में ब्लड डोनेशन कैंप की शुरुआत भी कर सकते है. वाराणसी में ही रात्रि विश्राम करेंगे. इसके बाद सोमवार को पूर्वांचल के दो जिलों का दौरा करेंगे. सीएम सोमवार को गाजीपुर और जौनपुर का दौरा कर विकास योजनाओं की जमीनी हकीकत परखेंगे. इसके बाद वे लखनऊ लौटेंगे.

यह भी पढे़ं- यूपी में दंगे और साम्प्रदायिक तनाव वाली घटनाओं में आई कमी, जानिए क्या कह रहे NCRB के आंकड़े

बता दें कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार आज अपने साढ़े 4 साल का कार्यकाल पूरा कर रही है. इस मौके पर सरकार ने राजधानी लखनऊ सहित प्रदेश के सभी प्रमुख जिलों में प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया है. सीएम योगी से लेकर केंद्र और राज्य सरकार के मंत्री, सांसद इन कांफ्रेस को संबोधित करेंगे. इस मौके पर योगी सरकार की साढ़े 4 साल के कार्यकाल में किए गए कामकाज पर बुकलेट भी जारी की जाएगी.

पिछड़ों को साधने में जुटी BJP
उत्तर प्रदेश में 2022 विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने पिछड़ों को एकजुट करने का निर्णय लिया है. जिसके बाद प्रदेश भर में सितंबर और अक्टूबर में भारतीय जनता पार्टी एक बड़े स्तर पर ओबीसी सम्मेलन करने जा रही है. जिससे कि आगामी विधानसभा चुनाव में एक बार फिर से पिछड़ों की राजनीति कर बीजेपी सत्ता पर फिर से काबिज हो सके.

PM Modi Birthday: काशी में इस 'खास' तरीके से मनाया जा रहा पीएम का जन्मदिन,देखें वीडियो

PM's birthday being celebrated in this special way in Kashi

पीएम के संसदीय वाराणसी (Varanasi) में खास तरीके से बीजेपी कार्यकर्ता और आमलोग अपने सांसद का जन्मदिन मना रहे हैं. सुबह सवेरे से ही घाटों से लेकर शहर तक, हर जगह तैयारियां की गयीं हैं.

SHARE THIS:

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) का आज 71 वां जन्मदिन है. देशभर में पीएम मोदी का जन्मदिन (PM Modi Birthday) पूरे उत्साह के साथ मनाया जा रहा है. पीएम के संसदीय वाराणसी (Varanasi) में खास तरीके से बीजेपी कार्यकर्ता और आमलोग अपने सांसद का जन्मदिन मना रहे हैं. सुबह सवेरे से ही घाटों से लेकर चौक चौराहों तक पीएम मोदी के जन्मदिन पर आयोजन किए जा रहे हैं.

वाराणसी के अहिल्याबाई घाट पर ब्राह्मणों के अगुवाई में पीएम मोदी के दीर्घायु की कामना से विशेष पूजन का आयोजन किया गया. 71 बटुकों ने मां गंगा (Ganga) का विशेष पूजन अर्चन किया. फिर 71 लीटर दूध से दुग्धाभिषेक कर बाद गंगा मईया को 71 मीटर की चुनरी चढ़ाई गई. इस दौरान शंख,डमरू और घण्टा घड़ियाल की आवाज से घाट गूंजता रहा. आयोजन में सूबे के राज्यमंत्री नीलकंठ तिवारी शामिल रहे.

वाराणसी में विशेष उत्सव
राज्यमंत्री नीलकंठ तिवारी (Up Minister Nilkanth Tiwari) ने बताया कि वाराणसी में पूरे उत्साह के साथ पीएम मोदी का जन्मदिन मनाया जा रहा है. इसी अवसर पर आज हमलोगों ने मां गंगा का षोडशोपचार विधि से पूजन अर्चन कर उनके दीर्घायु की कामना की है. शहर भर में उनके जन्मदिन के अवसर पर जगह-जगह कार्यक्रम के आयोजन हो रहे हैं.

शाम को होगा दीपोत्सव
पीएम मोदी के जन्मदिन के अवसर पर शुक्रवार की शाम दीपोत्सव का भी आयोजन है. वाराणसी के सिगरा स्थित भारत माता मंदिर (Bharat Mata Mandir) को 71 हजार दीपों से सजाया जाएगा.इसके अलावा गंगा आरती और अन्य जगहों पर भी दीपोत्सव के कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है.

Varanasi News: पीएम के जन्मोत्सव पर काशी में मनाया गया दीपोत्सव,71 हजार दीपों से सजा भारत माता मंदिर

Deepotsav celebrated in Kashi on the birth anniversary of PM

पीएम के संसदीय क्षेत्र काशी (Kashi) में प्रधानमंत्री के जन्मोत्सव पर भव्य दीपोत्सव का आयोजन किया गया. वाराणसी के सिगरा स्थित भारत माता मंदिर (Bharat Mata Temple) को 71 हजार दीपों से सजाया गया.

SHARE THIS:

देश के प्रधानमंत्री और वाराणसी के सांसद नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) का आज 71 वां जन्मदिन है.पीएम के संसदीय क्षेत्र काशी (Kashi) में प्रधानमंत्री के जन्मोत्सव पर भव्य दीपोत्सव का आयोजन किया गया. वाराणसी के सिगरा स्थित भारत माता मंदिर (Bharat Mata Temple) को 71 हजार दीपों से सजाया गया.

बीजेपी नेता अशोक चौरसिया ने बताया कि पीएम नरेंद्र मोदी के जन्मोत्सव को पूरा काशी एक उत्सव की तरह मना रहा है. शहर भर में 71 बड़े आयोजन किए गए हैं. इसी कड़ी में भारत माता मंदिर में दीपदान कर पीएम मोदी के दीर्घायु की कामना की गई है.

पीएम के जन्मदिन पर CM योगी और डिप्टी सीएम ने दी बधाई, कहा- देश को आत्मनिर्भर बना रहे मोदी

UP: पीएम नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर CM योगी ने दी बधाई (File photo)

PM Modi Birthday: डिप्टी सीएम मौर्य ने लिखा,' एक-एक पल मां भारती की सेवा में समर्पित रहने वाले, विश्व के सबसे शक्तिशाली नेता, देशवासियों के हृदय सम्राट तथा हम सभी के प्रेरणा स्रोत व मार्गदर्शक, देश के यशस्वी प्रधानमंत्री आदरणीय नरेंद्र मोदी आपको जन्मदिन की हार्दिक बधाई एवं अनंत शुभकामनाएं.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 17, 2021, 17:25 IST
SHARE THIS:

लखनऊ. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) का शुक्रवार को 71वां जन्मदिन है. इस मौके पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने पीएम मोदी को बधाई दी. सीएम योगी ने कहा, अंत्योदय से आत्मनिर्भर भारत की संकल्पना को साकार कर रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जन्मदिन की शुभकामनाएं. प्रभु श्री राम की कृपा से आपको दीर्घायु व उत्तम स्वास्थ्य की प्राप्ति हो. आजीवन मां भारती की सेवा का परम सौभाग्य आपको प्राप्त होता रहे.

उधर, यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने भी ट्वीट कर पीएम मोदी को बधाई दी है. डिप्टी सीएम मौर्य ने लिखा,’ एक-एक पल मां भारती की सेवा में समर्पित रहने वाले, विश्व के सबसे शक्तिशाली नेता, देशवासियों के हृदय सम्राट तथा हम सभी के प्रेरणा स्रोत व मार्गदर्शक, देश के यशस्वी प्रधानमंत्री आदरणीय नरेंद्र मोदी आपको जन्मदिन की हार्दिक बधाई एवं अनंत शुभकामनाएं.

सीएम योगी ने पीएम मोदी को दी जन्मदिन की बधाई

सीएम योगी ने पीएम मोदी को दी जन्मदिन की बधाई

वाराणसी में लोगों ने जलाए दीए
पीएम मोदी के 71वें जन्मदिन की पूर्व संध्या पर वाराणसी में लोगों ने मिट्टी के दीए जलाए और 71 किलो के लड्डू का भोग लगाकर प्रसाद बांटा. बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिवस पर भाजपा आज से सेवा एवं समर्पण अभियान शुरू कर रही है. इसके तहत भाजपा का चिकित्सा प्रकोष्ठ 17 से 20 सितंबर तक स्वास्थ्य परीक्षण शिविर का आयोजन करेगा. युवा मोर्चा के कार्यकर्ता रक्तदान शिविर, जबकि अनुसूचित मोर्चा के कार्यकर्ता गरीब बस्तियों में फल और जरूरी सामानों का वितरण करेंगे.

Varanasi News: पूर्वांचल में बदला मौसम का मिजाज,मौसम वैज्ञानिक ने बताई ये वजह

Weather pattern changed in Purvanchal

पूर्वांचल सहित वाराणसी (Varanasi) में बीते 48 घण्टों से लगातार तेज हवाओं के साथ बारिश का दौर जारी. वाराणसी में बदले मौसम के मिजाज ने गर्मी से राहत।

SHARE THIS:

पूर्वांचल सहित वाराणसी (Varanasi) में बीते 48 घण्टों से लगातार तेज हवाओं के साथ बारिश का दौर जारी. वाराणसी में बदले मौसम के मिजाज ने गर्मी से राहत से साथ ही आम लोगो की मुश्किलें बढ़ा दी है. लगातार बारिश के कारण सड़को पर जगह-जगह जल जमाव है तो दूसरे तरफ लोग घाटों पर मस्ती भी करते दिख रहे हैं.

बीएचयू (BHU) के मौसम विभाग के प्रोफेसर डॉ मनोज श्रीवास्तव ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में बने लो प्रेसर के कारण पूर्वी उत्तर प्रदेश में बारिश दौर जारी है. आने वाले दो तीन दिनों तक  मौसम ऐसे ही बना रहेगा. रूक-रूक कर बारिश होगी.

घाटों पर मस्ती करते लोग
वाराणसी में बारिश के कारण मौसम खुशनुमा है. जिसके कारण वाराणसी के प्रसिद्ध घाटों पर लोग मस्ती करते भी नजर आ रहे हैं. उधर दूसरी तरफ तेज हवाओं और बारिश के कारण बीते 3 दिनों से गंगा में नाव का संचालन भी नहीं हो रहा,जिससे नाविक भी खासा परेशान है. अस्सी घाट पर नाव संचालन करने वाले सोनू माझी ने बताया कि बारिश के कारण घाटों पर दो दिनों से पर्यटकों के आने की संख्या बेहद कम हो गई है.

Ropeway in Varanasi: प्लान तैयार,काशी को मिलेगा यूपी के सबसे बड़े रोपवे का तोहफा

Kashi will get the gift of UP's biggest ropeway

बाबा विश्वनाथ (Kashi Vishwanath) की नगरी काशी (Kashi) में पर्यटक रोपवे का रोमांचक सफर कर सकेंगे. कैंट से गोदौलिया के बीच यूपी के सबसे बड़े रोपवे (Ropeway) का प्लान है

SHARE THIS:

यूपी के चित्रकूट और मिर्जापुर के बाद अब बाबा विश्वनाथ (Kashi Vishwanath) की नगरी काशी (Kashi) में पर्यटक रोपवे का रोमांचक सफर कर सकेंगे. कैंट से गोदौलिया के बीच यूपी के सबसे बड़े रोपवे (Ropeway) का तोहफा जल्द ही काशी को मिलेगा. रोपवे परियोजना को योगी सरकार ने मंजूरी दे दी है. सब कुछ ठीक रहा तो इसी साल के नवम्बर से रोपवे निर्माण का काम भी शुरू हो जाएगा.

केंद्र सरकार की सहयोगी कम्पनी वैपकॉस ने इसका खाका तैयार किया है. यूपी के सबसे बड़े रोपवे परियोजना में करीब 400 करोड़ रूपय खर्च होंगे. गोदौलिया से कैंट रेलवे स्टेशन के बीच प्रस्तावित रोपवे परियोजना में चार स्टेशन बनाए जाएंगे. कैंट से मलदहिया,लहुराबीर, नई सड़क,गिरजाघर होते हुए गोदौलिया तक आएगी.

8 से 10 हजार लोग उठा सकेंगे फायदा
वाराणसी के कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने बताया कि रोपवे सिस्टम से पर्यटकों के साथ ही आम लोगों को भी लोकल ट्रांसपोर्ट के रूप में अच्छी सुविधा मिलेगी. इससे शहर के ट्रांसपोर्ट का दवाब भी कम होगा और जाम के झाम से भी लोगो को मुक्ति मिलेगी. पब्लिक ट्रांसपोर्ट के तौर पर प्रतिदिन 8 से 10 हजार लोग इसका फायदा उठा सकेंगे.

दूसरे चरण में खिड़कियां घाट से अस्सी तक होगा विस्तार
कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने बताया कि पहले पायलट प्रोजेक्ट के तहत पहले फेज में कैंट से गोदौलिया के बीच इसकी शुरुआत होगी. उसके बाद दूसरे फेज में खिड़कियां घाट से सिटी स्टेशन और अस्सी घाट (Assi Ghat) के बीच इसका विस्तार किया जाएगा. जिसके पर्यटक रोपवे के जरिए काशी के ऐतिहासिक घाटों का दीदार कर सकेंगे.

UP Weather Update: जानिए क्यों हो रही है ऐसी तूफानी बारिश? लखनऊ सहित कई जिलाें में टूटे रिकॉर्ड

UP: भारी बारिश के चलते लखनऊ के गोमतीनगर में बीच सड़क पर गिरा पेड़.

Lucknow News: लखनऊ स्थित मौसम विभाग के निदेशक जेपी गुप्ता ने बताया कि बारिश की ये रफ्तार आज गुरुवार को पूरे दिन जारी रहेगी. कई जिलों में तो इस मॉनसूनी सीजन की सबसे ज्यादा बारिश रिकार्ड की गयी है.

SHARE THIS:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में पश्चिमी यूपी (Western UP) के कुछ जिलों को छोड़ दें तो पूरे सूबे में बारिश (Rainfall) का सिलसिला कमोबेश कल बुधवार से ही चल रहा है. बारिश का ज्यादा जोर लखनऊ (Lucknow) और इसके आसपास के जिलों में देखने को मिल रहा है. लखनऊ में तो बीती रात 12 बजे से ही बरसात थमी नहीं है. और तो और इसमें लगातार बढ़ोतरी ही देखने को मिल रही है. तेज हवाओं के साथ हो रही बारिश के कारण शहर में जगह जगह पेड़ भी गिर गये हैं.

प्रदेश के चार ऐसे जिले हैं जहां पिछले 24 घण्टों में 100 मिलीमीटर से ज्यादा बारिश हो चुकी है. लखनऊ में बुधवार से अभी तक 107 मिलीमीटर, रायबरेली में 186 मिमी, सुल्तानपुर में 118 मिमी और अयोध्या में 104 मिमी बारिश हो चुकी है. रायबरेली में तो स्कूलों में छुट्टी कर दी गयी है. इसके अलावा पिछले 24 घण्टों में गोरखपुर में 96.6 मिमी, वाराणसी में 88 मिमी, बाराबंकी में 94 मिमी और बहराइच में 30 मिमी बारिश दर्ज की गयी है.

लखनऊ स्थित मौसम विभाग के निदेशक जेपी गुप्ता ने बताया कि बारिश की ये रफ्तार आज गुरुवार को पूरे दिन जारी रहेगी. रात से या शुक्रवार की सुबह से इसकी तीव्रता थोड़ी कम हो सकती है. हालांकि इस पूरे हफ्ते छिटपुट बारिश जारी रहेगी. कई जिलों में तो इस मॉनसूनी सीजन की सबसे ज्यादा बारिश रिकार्ड की गयी है.

क्यों हो रही है ऐसी तूफानी बारिश?

निदेशक जेपी गुप्ता ने बताया कि मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है. इसकी वजह से बंगाल की खाड़ी से आने वाली हवायें उस ओर बढ़ रही हैं. मॉनसूनी सीजन में हवा में नमी भरपूर हो रही है. बंगाल की खाड़ी से चलकर मध्यप्रदेश की ओर बढ़ने वाली नम हवाओं के कारण मध्य यूपी में जोरदार बारिश हो रही है. संभावना ये है कि कल शुक्रवार तक इसमें काफी कमी आ जायेगी. तेज हवायें भी थम जायेंगी.

लखनऊ में भारी बारिश से कई मुख्य रास्ते बंद, गोमतीनगर सहित तमाम इलाकों में भरा पानी

वैसे तो पश्चिमी यूपी के जिलों में भी हल्की बदली छायी हुई है लेकिन, ज्यादा बारिश की फिलहाल संभावना नहीं जताी गयी है. राजस्थान, हरियाणा और उत्तराखण्ड की सीमा से लगने वाले यूपी के जिलों में फिलहाल बारिश का ज्यादा जोर देखने को नहीं मिल रहा है.

बीती रात से अभी तक 7 की मौत

तेज हवाओं के साथ हो रही बारिश से जान- माल को भी काफी नुकसान पहुंचा है. न्यूज़ 18 को मिली जानकारी के मुताबिक बीती रात से अभी तक कुल 7 लोगों की मौत हो चुकी है. सभी लोगों की मौत कच्ची दीवार गिरने की चपेट में आने से हुई है.

हथिया नक्षत्र से पहले ही लखनऊ समेत कई इलाकों में जोरदार बारिश, ऑरेंज अलर्ट भी जारी

मिली जानकारी के अनुसार जौनपुर में 4, सीतापुर में 1, अयोध्या  में 1 और रायबरेली  में भी 1 की मौत हुई है. बारिश का सिलसिला ऐसे ही चलता रहा तो कई हादसों की आशंका बनी हुई है.

पूर्वांचल की सियासत, योगी सरकार को घेरने के लिए ओमप्रकाश राजभर ने खेला मुस्लिम और जाति कार्ड

सुभासपा के नेता ओमप्रकाश राजभर,

UP Politics : भाजपा के साथ किसी भी सूरत में गठबंधन से इनकार कर चुके राजभर ने एक तरफ पूर्वांचल को अलग राज्य बनाए जाने का मुद्दा उठाया तो दूसरी तरफ माफियाओं पर कार्रवाई को लेकर धर्म और जातिगत भेदभाव के आरोप खुलकर लगाए.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 16, 2021, 11:23 IST
SHARE THIS:

वाराणसी. उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनावों से कुछ महीनों पहले ही सियासत के तेवर तल्ख हो चले हैं. प्रदेश में पहले मंत्री रहे चुके और सुभासपा के प्रमुख ओमप्रकाश राजभर ने प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार के खिलाफ सुर बुलंद करने का सिलसिला जारी रखा है. भाजपा के साथ किसी कीमत पर हाथ न मिलाने का दावा कर चुके राजभर ने अब योगी सरकार पर अपराधियों के प्रति धर्म और ​जाति के आधार पर बर्ताव करने का आरोप लगाया है. तीखे शब्दों में राजभर ने कहा कि सरकार यह देखकर अपराधियों के साथ सलूक कर रही है कि ‘वो हिंदू है या मुसलमान, या ब्राह्मण है या यादव.’

करीब तीन हफ्ते पहले राजभर ने तब सुर्खियां बटोरी थीं, जब उन्होंने कहा था कि वो ‘सीएम या डिप्टी सीएम बनाए जाने पर भी बीजेपी में नहीं जाएंगे’. अब योगी सरकार पर भेदभाव का आरोप लगाते हुए राजभर ने कहा, ‘मुख्तार अंसारी और अतीक अहमद मुसलमान हैं इसलिए बाहुबली या माफिया कहे जा रहे हैं. वहीं हिंदू होने के कारण बृजेश सिंह एमएलसी बनाए जा रहे हैं और धनंजय सिंह की पत्नी को ज़िला पंचायत में लाया जा रहा है.’

ये भी पढ़ें : हाथरस गैंगरेप: घुटन और सामाजिक बहिष्कार झेल रहा पीड़ित परिवार, इंसाफ की आस में लिए बैठा है बेटी की अस्थियां

राजभर ने साफ कहा कि यह तय करना अदालत का काम है कि कौन अपराधी है, कौन नहीं. ‘लेकिन प्रदेश सरकार का रुख साफ है कि जो बीजेपी के साथ है, वह निर्दोष है और जो खिलाफ है, वह माफिया है.’ राजभर ने वाराणसी ने मीडिया से कहा कि ‘ब्राह्मण, यादव, राजभर के नाम पर चल रहे जातिवाद के सिलसिले को खत्म किया जाना चाहिए.

uttar pradesh news, up news, up election, up leader, political leaders, उत्तर प्रदेश न्यूज़, यूपी न्यूज़, उत्तर प्रदेश चुनाव

सुभासपा नेता राजभर ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सरकार की आलोचना की.

‘पूर्वांचल बनेगा नया प्रदेश, अगर…’
राजभर की पार्टी के प्रदेश में चार विधायक हैं और इन्हीं के दम पर उन्होंने भाजपा सरकार को चुनौती देते हुए कहा, ‘हम बीजेपी सरकार की अर्थी को कांधा देंगे.’ यही नहीं, पूर्वांचल की राजनीति का मुद्दा उठाते हुए राजभर ने बड़ा बयान यह भी दिया कि अगर उनके भागीदारी मोर्चे को सत्ता की चाबी मिली तो उप्र के पूर्वांचल को नया राज्य बनाने का प्रस्ताव केंद्र को भेजा जाएगा.

राजभर ने ऐसे बताया चुनावी एजेंडा
एक तरह से अपने चुनावी घोषणा पत्र को ज़ाहिर करते हुए उन्होंने और कई वादे और इरादे बताए. राजभर ने कहा कि मोर्चे की सरकार बनी तो पांच साल तक घरेलू बिजली मुफ्त होगी. गरीबों के लिए इलाज की सुविधा मुफ्त की जाएगी. अमीर और गरीब तक समान शिक्षा पहुंचाने का तंत्र बनाया जाएगा. यही नहीं, बीए तक की शिक्षा मुफ्त दी जाएगी. मासिक राशन बढ़ाया जाएगा और पहली प्राथमिकता के तहत राज्य में शराबबंदी लागू कर दी जाएगी.

Varanasi News: इस 'खास' तरीके से निर्मल होगी गंगा,योगी सरकार ने तैयार किया प्लान

Ganga will be clean in this special way Yogi government has prepared a plan

पीएम के संसदीय क्षेत्र वाराणसी (Varanasi) में जल्द ही गंगा अब पहले से स्वच्छ और निर्मल होगी. सूबे की योगी सरकार (Yogi Goverment) ने इसका प्लान तैयार किया है

SHARE THIS:

पीएम के संसदीय क्षेत्र वाराणसी (Varanasi) में जल्द ही गंगा अब पहले से स्वच्छ और निर्मल होगी. सूबे की योगी सरकार (Yogi Goverment) ने इसका प्लान तैयार कर लिया है. नेचुरल तरीके से वाराणसी में गंगा (Ganga) को निर्मल किया जाएगा. मत्स्य विभाग को इसकी जिम्मेदारी सौंपी गई है. इसके लिए वाराणसी मंडल के तीन जिलों में गंगा में 3 लाख मछलियां छोड़ी जाएगी. इनमे से डेढ़ लाख मछलियां अकेले वाराणसी में छोड़ी जाएगी.

इसी महीने के अंतिम सप्ताह में वृहद आयोजन में एक दिन में 3 लाख मछलियों को छोड़ा जाएगा. जिला मत्स्य अधिकारी एन एस रहमानी ने बताया कि गंगा में प्रति किलोमीटर मछलियों की संख्या को बढ़ाने के साथ नेचुरल तरीके से गंगा की सफाई के लिए ये कदम उठाया जा रहा है.

गंगा का ऑर्गेनिक लोड होगा कम
गंगा में मछलियों की संख्या बढ़ने से गंगा का ऑर्गेनिक लोड कम होगा. इसके अलावा गंगा के इको सिस्टम भी ठीक होगा और गंगा का जल भी पहले भी साफ और स्वच्छ होगा.

मछली पालन को मिलेगा बढ़ावा
मत्स्य अधिकारी ने बताया कि सरकार के इस प्रयास से मछली पालन को भी बढ़ावा मिलेगा. हर साल मछलियों के जो अंडे विकसित नहीं हो रहे उन अंडों को हम लोग आर्टिफिशियल तरीके से नर्सरी में रखकर उनका पालन करेंगे और फिर उन मछलियों को गंगा में छोड़ दिया जाएगा.

Varanasi: अयोध्या के फैसले के बाद गर्मा रहा है काशी-विश्वनाथ मामला, दाखिल हुए 3 नए वाद, सुनवाई आज

काशी विश्वनाथ परिसर को लेकर दाखिल हुए तीन नए वाद

Varanasi News: रामनगरी अयोध्या में आए सुप्रीम फैसले के बाद शिवनगरी काशी का माहौल धीरे धीरे गरमा रहा है. यूपी चुनाव से पहले विश्वनाथ मंदिर परिक्षेत्र स्थित ज्ञानवापी मस्जिद के मुकदमे की सुनवाई हाइकोर्ट पहुंच गई है. तो वहीं सिविल जज की सीनियर डिवीजन अदालत में तीन और नए वाद दाखिल हुए हैं. इन पर आज सुनवाई होनी है.

SHARE THIS:

वाराणसी. रामनगरी अयोध्या में आए सुप्रीम फैसले के बाद शिवनगरी काशी का माहौल धीरे धीरे गरमा रहा है. यूपी चुनाव से पहले विश्वनाथ मंदिर (Vishwanath Temple) परिक्षेत्र स्थित ज्ञानवापी मस्जिद के मुकदमे की सुनवाई हाइकोर्ट पहुंच गई है. 1991 से चल रहे इस केस में इस साल आठ अप्रैल को सिविल जज सीनियर डिवीजन फास्ट ट्रैक कोर्ट ने पुरातात्विक सर्वेक्षण के आदेश पर दिए थे, लेकिन बीती नौ सितंबर को हाईकोर्ट प्रयागराज ने इस पर रोक लगा दी. मामले की सुनवाई के लिए अगली तारीख तय करते हुए सभी पक्षों को सूचित किया है.

इसी बीच अब वाराणसी में सिविल जज की सीनियर डिवीजन अदालत में तीन और नए वाद दाखिल हुए हैं. जिसमें एक वाद खुद विश्वेश्वर महादेव के नंदी की ओर से दाखिल है. बाकी एक वाद विश्वेश्वर और दूसरा लाट भैरव मुक्ति को लेकर दाखिल हुआ है. आदि विश्वेश्वर ज्योर्तिलिंग की ओर से वादमित्र के रूप में महंत शिव प्रसाद पांडेय, सूबेदार सिंह यादव और संतोष कुमार सिंह ने वाद दखिल करते हुए ज्ञानवापी परिसर में पूजा करने की अनुमति मांगी है. साथ ही पूरे परिसर को हिंदुओं को सौंपने की मांग की. इस केस में सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड, अंजुमन इंतजामियां मसाजिद कमेटी के साथ काशी विश्वनाथ ट्रस्ट को भी पक्षकार बनाया गया है.

आज सुनवाई करेगा कोर्ट

दूसरा वाद आदि विश्वेश्वर महादेव नंदी की तरफ से दाखिल हुआ है, जिसकी मांग का भी लब्बोलुआब कुछ यही है. नंदी के मुंह की दिशा को लेकर अक्सर हिंदुवादी संगठन और संत सवाल उठाते रहे हैं. दोनों वाद प्रकीर्ण वाद के रूप में कोर्ट में दर्ज हुए और इस पर अगली तारीख 16 सितंबर या​नि आज लगी है. गुरुवार को ये तय होगा कि ये केस आगे चलेगा कि नहीं.

लाट भैरव की मुक्ति को लेकर वाद

सिविल जज सीनियर डिवीजन रवि कुमार की अदालत में ही वाराणसी के सरैयां स्थित लाट भैरव को मुक्ति दिलाने के लिए वाद दाखिल किया गया है. कोर्ट ने मूल वाद के रूप में दर्ज कर अगली सुनवाई के लिए 21 अक्टूबर की तारीख लगी है. ये मुकदमा सरैया निवासी अनुराग दिवेदी, वीरेंद्र कुमार, आशुतोष पांडेय ने अधिवक्ता मदन मोहन यादव के जरिए दाखिल किया है.

गौरतलब है कि काशी में अष्ट भैरव में शामिल लाट भैरव को कपाल भैरव के नाम से भी जाना जाता है. एडवोकेट मदन मोहन ने बताया कि काशी प्रथम कपाल भैरव का पुराणों में भी जिक्र है और शैव परंपरा के तांत्रिक अनुष्ठान कपाल भैरव के मंदिर में संपादित हुआ करता था. मदन मोहन ने दावा किया कि सन 1669 में औरंगजेब के आदेश से इसे ध्वस्त किया गया और फिर जमीन में गाड़े गए शव के हरे रंग का कपड़ा बिछाकर इसके कब्रिस्तान होने का दावा किया गया.

BHU की जूली कैसे बनी त्रिपुरा की हिना, तस्वीरों से समझें ऐसे चल रहा था नीट में चीट का खेल

NEET Solver Gang: बड़े ही शातिर तरीके से गैंग बदल देता था एडमिट कार्ड पर फोटो

Varanasi News: इस गैंग में दो टीमें काम करती हैं. एक कोचिंग संस्थानों में तैयारी कर रहे रईस अभ्यर्थियों पर नजर रखती है तो दूसरी पासआउट उन मेडिकल स्टूडेंट्स पर, जो मेधावी हैं, लेकिन गरीब हैं. फिर सौदा तय होता है. उसके बाद तकनीक का सहारा लिया जाता है.

SHARE THIS:

वाराणसी. नीट-यूजी परीक्षा में पकड़े गए सॉल्वर गैंग से जैसे-जैसे पूछताछ आगे बढ़ रही है, वैसे-वैसे नए नए खुलासे हो रहे हैं. इस खबर और कुछ तस्वीरों के जरिए हम आपको समझाते हैं कि कैसे ये सॉल्वर गैंग इस खेल को अंजाम देता था. वाराणसी में नीट की परीक्षा में साल्वर के रूप में पकड़ी गई बीएचयू (BHU) के बीडीएस सेकेंड इयर की छात्रा जूली के बारे में पूछताछ में ये जानकारी निकल कर आई है कि वो त्रिपुरा की हिना की जगह एग्जाम देने पहुंची थी. आपके मन मे सवाल उठ रहा होगा कि कैसे?

दरअसल, इस गैंग में दो टीमें काम करती हैं. एक कोचिंग संस्थानों में तैयारी कर रहे रईस अभ्यर्थियों पर नजर रखती है तो दूसरी पासआउट उन मेडिकल स्टूडेंट्स पर, जो मेधावी हैं, लेकिन गरीब हैं. फिर सौदा तय होता है साल्वर के जरिए पेपर कराने का. उसके बाद तकनीक का सहारा लिया जाता है. मूल अभ्यर्थी की तस्वीर के साथ साल्वर की तस्वीर को कुछ सॉफ्टवेयर के जरिए एडिट करके हू-ब-हू मिलता जुलता चेहरा तैयार किया है.

कैसे, इसकी बानगी इस तस्वीर से समझिए. खबर में बाएं तरफ सबसे ऊपर त्रिपुरा की हिना बिस्वास है जो कि मूल अभ्यर्थी है. बाएं तरफ नीचे बीएचयू की जूली है, जो साल्वर हैं. अंत में कैसे धीरे-धीरे फोटो एडिट करते हुए नई तस्वीर तैयार की गई और फिर एडमिट कार्ड में चस्पा हुई.

फोन पर बात नहीं करता, संदेश कोरियर करता है पीके
सॉल्वर गैंग का मास्टर माइंड बिहार का कोई पीके है, जिसके बारे में अभी तक पकड़े गए आरोपियों में कोई पक्की जानकारी इसलिए नहीं दे पाया कि पीके पूरी तरह से अंडरकवर रहता है. यहां तक कि उसे अगर कोई संदेश गैंग के किसी सदस्य के पास भेजना होता है तो वो कोरियर करता है, न कि फोन.

neet solver gang varanasi

सॉफ्टवेयर की सहायता से एडिट की जाती थी फोटो

मंगलवार को वाराणसी कमिश्नरेट पुलिस ने बिहार की रहने वाली और बीएचयू की बीडीएस छात्रा जूली के भाई अभय को भी वाराणसी के पांडेयपुर के पास से गिरफ्तार कर लिया. अभय के साथ ओसामा और दूसरे शख्स को भी पकड़ा गया है. पूर्वांचल के गाजीपुर का रहने वाला ओसामा शाहिद केजीएमयू लखनऊ में अंतिम वर्ष का छात्र है. ओसामा के कब्जे से नीट प्रवेश परीक्षा के कई दस्तावेज बरामद हुए. हालांकि पुलिस के डर से उसने मोबाइल फोन के डाटा को डिलीट कर सबूत मिटाने की कोशिश की लेकिन अब साइबर एक्सपर्ट डाटा रिकवरी में जुट गए हैं.

neet solver gang, varanasi news

बिहार रवाना हुई टीम
जूली पटना बिहार के थाना बहादुरपुर के वैष्णवी कॉलोनी संदलपुर की रहने वाली है. पिता सब्जी बेचते हैं. वहीं गैंग का सरगना पीके और डील कराने वाला विकास भी बिहार का है. ऐसे में वाराणसी के पुलिस कमिश्नर ए सतीश गणेश ने स्पेशल आफीसर्स की टीम बिहार रवाना कर दी है. आगे का एक्शन बिहार पुलिस की मदद से होगा.

क्या है वो हिंदू स्टडीज कोर्स जो बीएचयू ने शुरू किया है

बीएचयू ने एमए के स्तर पर हिंदू स्टडीज कोर्स शुरू किया है.(File photo)

बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी ने जब इस साल हिंदू स्टडीज को लेकर मास्टर्स डिग्री कोर्स शुरू किया तो इस पर तरह तरह की प्रतिक्रियाएं भी हुईं. इस कोर्स में दाखिला लेने की तारीख तो बीत चुकी है लेकिन जानते हैं कि ये कोर्स है क्या औऱ यूनिवर्सिटी ने इसको क्यों शुरू किया.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 15, 2021, 11:25 IST
SHARE THIS:

बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (बीएचयू) ने हाल ही में एक कोर्स शुरू किया है, जो इन दिनों खबरों में है. इस कोर्स का नाम है हिंदू स्टडीज. ये इसी साल के शैक्षिक सत्र से यूनिवर्सिटी में शुरू किया जा रहा है. ये कोर्स मास्टर्स डिग्री यानि एमए कोर्स होगा. इसे बीएचयू का भारत अधय्यन केंद्र की फैकल्टी ऑफ आर्ट्स शुरू कर रहा है.

हालांकि हिंदू स्टडीज के हल्के फुल्के कोर्स तो अब तक कई संस्थाएं कराती रही हैं. लेकिन किसी विश्वविद्यालय ने पहली बार इस तरह का एक कोर्स तैयार किया है और एमए के स्तर पर इसकी पढाई होगी. माना जा रहा है कि ना केवल देश के छात्र बल्कि विदेशी छात्र भी इसे पढ़ने में दिलचस्पी दिखाएंगे.

दरअसल ये कोर्स प्राचीन भारत के गौरव से जुड़ा हुआ ज्यादा है. इसमें फिलास्फी, भाषा, परंपरा, धर्म, वैदिक परंपराएं सभी कुछ आ जाएंगे. इस कोर्स के जरिए छात्र भारतीय संस्कृति और हिंदूज्म से तार्किक दृष्टिकोण के साथ परिचित होंगे. इस कोर्स में बीएचयू के कई विभाग अपना योगदान देंगे.

इस कोर्स को क्यों शुरू किया गया
यूनिवर्सिटी का कहना है कि वो इस तरह के कोर्स पर लंबे समय से विचार कर रहे थे. अब इसे शुरू कर दिया गया है. इसकी जरूरत इसलिए भी महसूस की गई क्योंकि ऐसा कोई कोर्स कहीं इस तरह से नहीं था. क्रिश्चियन और इस्लामिक देशों में धर्म आधारित बहुत से कोर्स चलते रहते हैं लेकिन भारत में अब तक पूरी तरह तैयार किया गया ऐसा कोई कोर्स हिंदू स्टडीज को लेकर नहीं था.

बीएचयू के हिंदू स्टडीज कोर्स में रामायण और महाभारत समेत पुराणों और वेदों को शामिल किया गया है. (फाइल फोटो)

इसे कौन पढ़ सकता है
कोई भी इस कोर्स में दाखिल हो सकता है. इसके लिए ये जरूरी नहीं होगा कि उसको आर्ट्स का छात्र होना चाहिए. आईटी तकनीक से लेकर साइंस डिग्री लेने वाले भी इस पढ़ सकते हैं. ये दो साल का एमए होगा. 04 सिमेस्टर्स में 16 पेपर्स की पढ़ाई होगी. हालांकि इसके दाखिले की तारीख तो इस साल निकल चुकी है. इसकी आखिरी तारीख 07 सितंबर थी.

इसमें क्या पढ़ाया जाएगा
इसमें तत्व ज्ञान, धर्म, रामायण और महाभारत की प्रमन विधियां और अभ्यास, पुराण, प्राचीन भारत में संवाद परंपरा, संस्कृत और पश्चिमी देशों की हिंदू धर्म के प्रति उत्सुकता के नजरिए से भी इसे पढाया जाएगा. इस कोर्स में हिंदू फिलास्फी, तत्व मीमांस का गहन विश्लेषण, धर्म कर्म मीमांस और प्रमन मीमांसा जैसी बातें शामिल रहेंगी.संस्कृत भी इसमें शामिल रहेगी.इसमें प्राचीन भारत में सेना,सैन्यकला, सेना में महिलाएं, विज्ञान और रणनीति जैसे विषय भी रहेंगे.

पाठ्यक्रम के संचालन में मुख्य भूमिका फिलॉस्फी डिपार्टमेंट की होगी जो हिंदू धर्म की आत्मा, महत्वाकांक्षाओं और हिंदू धर्म की रूपरेखा के बारे में बताएगा. प्राचीन इतिहास और संस्कृति विभाग इसमें प्राचीन व्यापारिक गतिविधियों, वास्तुकला, हथियारों, महान भारतीय सम्राटों और उनके उपयोग में आने वाले उपकरणों के बारे में जानकारी देने की रहेगी. संस्कृत विभाग प्राचीन शास्त्रों, वेदों और प्राचीन अभिलेखों के व्यावहारिक पहलुओं की जानकारी देगा.

क्या ऐसे कोर्स कहीं और भी पढाए जाते हैं
श्रीश्री यूनिवर्सिटी ने भी ऐसा ही कोर्स शुरू किया है. साथ ही आक्सफोर्ड में हिंदू स्टडीज केंद्र है, जिसमें कई तरह के ऐसे छोटे कोर्स वहां पढाए जाते हैं. जिसमें योग को भी शामिल किया गया है.

Load More News

More from Other District

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज