वाराणसी: कोविड-19 का शुरू हुआ कोर्स, 3 महीने में मिलेगा सर्टिफिकेट

उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय ने कोविड 19 पर कोर्स शुृरू किया है.
उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय ने कोविड 19 पर कोर्स शुृरू किया है.

उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय के वाराणसी (Varanasi) के क्षेत्रीय प्रबंधक एस.के.सिंह ने बताया कि ये तीन महीने का कोर्स होगा. अंतिम सप्ताह एक परीक्षा होगी, जिसके बाद विद्यार्थी को सर्टिफिकेट दे दिया जाएगा. इसके कोर्स 15 अक्टूबर से एक साथ सभी केंद्रों पर संचालित होंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 14, 2020, 10:37 AM IST
  • Share this:
वाराणसी. इतिहास में दर्ज होने के साथ ही कोविड-19 (COVID-19) अब पाठ्यक्रम में भी शामिल हो गया है. पाठ्यक्रम ऐसा की बाकायदा 3 माह का सर्टिफिकेट भी मिलेगा और इस सर्टिफिकेट का नाम होगा कोविड-19. ये पहल उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय ने की है, जिसके सभी केंद्रों पर 15 अक्टूबर से कोविड-19 की कक्षाएं चलनी शुरू हो जाएंगी.

वैश्विक महामारी कोविड-19 ने देश का कोना कोना अपने जद में ले लिया. तमाम इन्तिजाम के बावजूद देश में अब तक लाखों लोग इसके शिकार हुए और कइ की जान गई. ऐसे में राजश्री टंडन मुक्त विश्वविद्यालय ने इस बीमारी के नाम से सर्टिफिकेट कोर्स शुरू किया है. इसके लिए बाकायदा क्लासेस भी शुरू की जा चुकी हैं. प्रथम चरण में इस ट्रेनिंग अध्यापकों और कर्मचारियों को दी जा रही है, जो ट्रेंड होने के बाद विद्यार्थियों को इसके पाठ्यक्रम को पढ़ाएंगे.

सर्टिफिकेट कोर्स से होगी जागरूकता 



कोर्स के लिए तैयारी करने वाले भी इस पाठ्यक्रम को जरूरी बता रहे हैं. कोर्स द्वारा सर्टिफिकेट देने से इस बीमारी से देश को बचाने का अहम योगदान साबित होगा क्योंकि आज भी इस बीमारी को लेकर जागरूकता की कमी देखी जा रही है. अब भी मास्क लोग नही लगा के चल रहे हैं. ऐसे में इस सर्टिफिकेट के कारण भी जागरूकता आएगी.
15 अक्टूबर से शुरू होंगी क्लासेज

एस.के.सिंह, क्षेत्रीय प्रबंधक, वाराणसी ने बताया कि ये तीन महीने का कोर्स होगा, जिसमें कोविड के इतिहास, कोविड कहां से आया है? व इसका परिचय एवं अन्य बिंदुओं को इसको शामिल किया जाएगा. पूरे तीन महीने के क्लास में हफ्ते में दो दिन क्लास चलेगा व ऑनलाइन असाइनमेंट भरवाया जाएगा. जो तीन महीने तक लगातार जारी रहेगा. अंतिम सप्ताह एक परीक्षा होगी, जिसके बाद विद्यार्थी को सर्टिफिकेट दे दिया जाएगा. इसके कोर्स 15 अक्टूबर से एक साथ सभी केंद्रों पर संचालित होंगे.

राजश्री टंडन मुक्त विश्वविद्यालय द्वारा शुरू किया जाने वाला ये कोर्स कोरोना से बचने के लिए जागरूकता को लेकर शुरू किया गया है. ये माना जा रहा है कि यदि इसे अभी से पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा तो लोग आम जनजीवन इस बीमारी से अपने आप को बचाने के लिए सक्षम रहेंगे. क्योंकि सर्टिफिकेट हासिल करने वाला विद्यार्थी समाज के बीच का होगा और उसे पता रहेगा कि ये बीमारी कितनी गंभीर है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज