लाइव टीवी

वाराणसी लोकसभा सीट: क्या धमाल मचा पाएगा PM मोदी का रोड शो?

News18 Uttar Pradesh
Updated: April 26, 2019, 2:27 AM IST
वाराणसी लोकसभा सीट: क्या धमाल मचा पाएगा PM मोदी का रोड शो?
वाराणसी में पीएम मोदी का रोड शो

2014 में जब पीएम पद के बीजेपी प्रत्याशी रहे नरेंद्र मोदी ने वाराणसी से चुनाव लड़ने का निर्णय लिया तो पहली बार ये शहर धार्मिक प्रतीक से राजनीतिक प्रतीक के रूप में तब्दील हुआ था.

  • Share this:
पीएम नरेंद्र मोदी ने नामांकन से एक दिन पहले वाराणसी में गुरुवार को मेगा रोड शो और गंगा आरती किया. बीएचयू गेट पर प्रधानमंत्री ने पंडित मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा पर माल्‍यार्पण किया और यहीं से उनका मेगा रोड शो शुरू हुआ. मोदी के मेगा रोड शो में बीजेपी और एनडीए गठबंधन के कई दिग्गज नेता शामिल हुए. इस रोड शो में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, निर्मला सीतारमण, सुषमा स्वराज, पीयूष गोयल, योगी आदित्यनाथ शामिल हुए. वहीं, एनडीए गठबंधन में शामिल शिरोमणि अकाली दल के मुखिया प्रकाश सिंह बादल, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के अध्यक्ष नीतीश कुमार, केंद्रीय मंत्री और लोक जनशक्ति पार्टी के मुखिया रामविलास पासवान भी इस दौरान मौजूद रहे.

वहीं, वाराणसी में पीएम मोदी के खिलाफ कांग्रेस ने पांच बार के विधायक रहे अजय राय को मैदान में उतारा है.  2014 में भी मोदी के खिलाफ लड़ने वाले अजय राय की जमानत जब्त हो गई थी. इससे पहले यह चर्चा थी कि कांग्रेस महासचिव और पूर्वी यूपी की प्रभारी प्रियंका गांधी वाराणसी से चुनाव लड़ सकती हैं. हाल ही में कांग्रेस के एमएलसी दीपक सिंह ने वाराणसी से प्रियंका गांधी के चुनाव लड़ने की बात कहकर राजनीतिक खलबली मचा दी थी. हालांकि प्रियंका ने इस पर सधा हुआ जवाब देते हुए कहा है कि अगर उनके पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी चुनाव लड़ने की बात कहेंगे तो वो जरूर लड़ेंगी.

राजनीतिक प्रतीक बनी वाराणसी

2014 में जब पीएम पद के बीजेपी प्रत्याशी रहे नरेंद्र मोदी ने वाराणसी से चुनाव लड़ने का निर्णय लिया तो पहली बार ये शहर धार्मिक प्रतीक से राजनीतिक प्रतीक के रूप में तब्दील हुआ था. वैसे वाराणसी के चौक-चौराहे राजनीतिक चर्चा से हमेशा गुलजार रहते हैं लेकिन वाराणसी से नरेंद्र मोदी के चुनाव जीतकर पीएम बनने के बाद ये शहर देशभर में खुद चर्चा के केंद्र में आ गया. वह चुनाव इसलिए भी खूब चर्चित हुआ क्योंकि यूपीए के खिलाफ लड़ाई लड़कर राष्ट्रीय राजनीति में छाए अरविंद केजरीवाल भी बनारस से चुनाव लड़ने पहुंचे थे. हालांकि चुनाव नतीजों ने बताया कि नरेंद्र मोदी बहुत बड़े अंतर से चुनाव जीते लेकिन चुनाव से पहले देश भर की निगाहें इस सीट पर लगी हुई थीं.

1991 के बाद सिर्फ एक बार हारी बीजेपी

अगर आंकड़ों के आधार पर देखा जाए 1991 के बाद हुए सात चुनावों में 6 में बीजेपी ने जीत हासिल की है. 1991 में यहां से बीजेपी के श्रीशचंद्र दीक्षित जीते थे. बाद में शंकर प्रसाद जायसवाल बीजेपी के टिकट पर तीन बार (1996, 1998, 1999) चुनाव जीतकर संसद पहुंचे. सिर्फ 2004 में इस सीट पर कांग्रेस के राजेश मिश्रा ने जीत हासिल की थी. लेकिन फिर 2009 में बीजेपी के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी ने यह सीट कांग्रेस से छीन ली जिस पर 2014 के चुनाव में नरेंद्र मोदी ने रिकॉर्ड मतों से जीतकर कब्जा जमाया.

समीकरणवाराणसी लोकसभा सीट पर कुल पांच विधानसभा क्षेत्र आते हैं. ये क्षेत्र हैं- रोहनिया, वाराणसी उत्तर, वाराणसी दक्षिण, वाराणसी कैंट, सेवापुरी. यहां कुल मतदाताओं की संख्या 17,75,890 है. पिछले लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी को 5,81,022 वोट हासिल हुए थे कुल वोटों का 56.37 प्रतिशत था. अरविंद केजरीवाल को 2,09,238 वोट मिले थे जो कुल वोटों का 20.30 प्रतिशत था. तीसरे नंबर कांग्रेस के अजय राय रहे थे जिन्हें 75,614 वोट मिले थे.

वाराणसी का महत्व 

वाराणसी को पूर्वांचल की सांस्कृतिक राजधानी भी कहा जाता है. वाराणसी को अक्सर, भारत की धार्मिक राजधानी, भगवान शिव की नगरी, मंदिरों का शहर, दीपों का शहर, ज्ञान नगरी आदि नामों से पुकारा जाता है. अमेरिकी लेखक मार्क ट्वेन ने इस शहर के बारे में लिखा है- बनारस इतिहास से भी पुरातन है, परंपराओं से पुराना है, किंवदंतियों से भी प्राचीन है और जब इन सबको एकत्र कर दें, तो उस संग्रह से भी दोगुना प्राचीन है.

यह भी पढ़ें: 

इलाहाबाद लोकसभा क्षेत्र: कांग्रेस के लिए 'सूखा कुआं ' बना नेहरू का गृह जनपद, 30 साल में जीत मयस्सर नहीं

कानपुर लोकसभा क्षेत्र: कांग्रेस-बीजेपी का यूपी के 'मैनेचेस्टर' में रहा है दबदबा

लोकसभा चुनाव: यूपी का ये जिला एक नहीं देश को देता है 3 सांसद, जानिए क्यों बदले समीकरण?

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वाराणसी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 25, 2019, 11:04 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर