Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    Varanasi News: बीएचयू में इस साल नहीं होगी भूत विद्या की पढ़ाई, जानिए क्या है कोर्स सस्पेंड होने की वजह

    बीएच'यू ने सस्पेंड किया भूत विद्या में सर्टिफिकेट कोर्स
    बीएच'यू ने सस्पेंड किया भूत विद्या में सर्टिफिकेट कोर्स

    Varanasi News: पीपीसी की बैठक में भूत विद्या समेत चार कोर्सों को इस साल के लिए स्थगित कर दिया गया है. दरअसल, बनारस हिंदू विश्वविदयालय के आयुर्वेद संकाय का ये सर्टिफिकेट कोर्स है.

    • Share this:
    वाराणसी. बनारस हिंदू विश्वविदयालय (BHU) शायद दुनिया का एकलौता शिक्षण संस्थान होगा, जहां भूत विद्या (Ghost Education) की पढ़ाई होती है. शायद इसीलिए देश हीं नहीं बल्कि दुनिया के दूसरे देशों के विदयार्थियों का रुझान भी बीएचयू और इस कोर्स में हुआ है. लेकिन अब शायद बीएचयू में भूत विद्या की पढ़ाई बंद हो सकती है. फिलहाल पीपीसी की बैठक में भूत विद्या समेत चार कोर्सों को इस साल के लिए स्थगित कर दिया गया है. दरअसल, बनारस हिंदू विश्वविदयालय के आयुर्वेद संकाय का ये सर्टिफिकेट कोर्स है.

    भूत विद्या कोर्स में ये होती है पढ़ाई

    भूत विद्या दरअसल, छह महीने का सर्ट‍िफिकेट कोर्स है, जिसमें चिकित्सा पद्धतियों के स्नातक और डॉक्‍टर छात्रों की पढ़ाई होती है. कोर्स के जरिए डॉक्टरों को मनोचिकित्सा संबंधी विकारों और असामान्य कारणों से होने वाली मनोवैज्ञानिक स्थितियों के इलाज के लिए उपचार और मनोचिकित्सा के बारे में जानकारी होती है. जिसे सामान्य भाषा या गांव और कस्बों में लोग भूत का असर मानते हैं. इस कोर्स की बुनियादी तर्क ये बताया गया कि महर्षि चरक ने आयुर्वेद की आठ ब्रांच बताई थीं. उसमें  पांच ब्रांच को भारत सरकार की सेंटर काउंसिल ऑफ इंडियन मेडिसिन ने 15 विषयों में बांट दिया. जो तीन ब्रांच छूटी, उसमें रसायन विज्ञान (Anti Aging), वाजीकरण विज्ञान और भूत विज्ञान शामिल है.



    पहली बार बीएचयू में ही शुरू हुआ कोर्स
    देश में पहली बार बीएचयू ने इन तीन विषयों पर शोध शुरू किया. एकेडमिक काउंसिल ऑफ बनारस हिन्‍दू यूनिवर्सिटी ने इसकी अनुमति भी दे दी. इसके लिए तीन नए यूनिट बनाए गए. इसके जरिये 6 महीने सर्टिफिकेट कोर्स तय हुआ. कोर्स में मेडिकल के साथ-साथ धर्म विज्ञान और संस्कृत के विशेषज्ञ प्रोफेसर भी शामिल किए गए. इसी साल जुलाई से सर्टिफिकेट कोर्स शुरू होना था, लेकिन कोरोना संक्रमण के कारण सत्र शुरू होने में विलंब हुआ. अब तीन अक्टूबर को हुई बीएचयू की पीपीसी यानी पॉलिसी प्लानिंग कमेटी की बैठक में भूत विद्या समेत चार कोर्सों को स्थगित कर दिया गया है.

    इस साल कोर्स के लिए 11 लोगों ने किया था आवेदन

    बीएचयू के पीआरओ राजेश सिंह ने बताया कि ऐसा कोरोना के कारण विलंब के चलते किया गया है. उन्होंने बताया कि इस कोर्स को सस्पेंड कर दिया गया है. वहीं दूसरी ओर बता दें कि इस कोर्स के लिए 11 लोगों ने आवेदन किया है, जिसमे चेकोस्लोवाकिया की एक महिला अभ्यर्थी भी है. दूसरी ओर बीएचयू के प्रशासनिक गलियारों में चर्चा है कि आयुर्वेद संकाय के डीन प्रोफेसर यामिनी भूषण त्रिपाठी ने पीपीसी के इस फैसले पर आपत्ति जताते हुए कुलपति प्रोफेसर राकेश भटनागर को चिठ्ठी लिखी है. अब देखना ये होगा कि बीएचयू में इस साल भूत विद्या की पढ़ाई हो पाएगी या नहीं? क्या डीन की चिठ्ठी पर पीपीसी का फैसला बदला जाएगा या फिर जोर शोर से तैयार होने वाला ये कोर्स शुरू होने से पहले ही बंद हो जाएगा.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज