अपना शहर चुनें

States

Varanasi News: शिखर धवन का पक्षियों को दाना खिलाना दो नाविकों को पड़ा महंगा, कटा चालान

वाराणसी दौरे पर क्रिकेटर शिखर धवन ने पक्षियों को खिलाया था दाना
वाराणसी दौरे पर क्रिकेटर शिखर धवन ने पक्षियों को खिलाया था दाना

Shikhar Dhawan Varanasi Visit: वाराणसी में बर्ड फ्लू को लेकर के घाट किनारे साइबेरियन पक्षियों को दाना खिलाने पर जिलाधिकारी ने रोक लगाया हुआ है. बावजूद इसके शिखर धवन का साइबेरियन पक्षियों को दाना खिलाते हुए फोटो वायरल हुआ था.

  • Share this:
वाराणसी. टीम इंडिया के दिग्गज क्रिकेटर और गब्बर के नाम से मशहूर शिखर धवन (Shikhar Dhawan) का साइबेरियन पक्षियों को दाना खिलाना दो नाविकों को महंगा पड़ गया. जिला प्रशासन ने दोनों नाविकों का चालान काट दिया और उनके नावों के संचालन पर अगले आदेश तक प्रतिबंध लगा दिया. बता दें कि 20 जनवरी को शिखर धवन वाराणसी दौरे पर थे, जहां उन्होंने नौकायन करने के दौरान साइबेरियन पक्षियों को दाना खिलाया था. इसके बाद नाविकों पर यह कार्रवाई हुई.

दरअसल, वाराणसी में बर्ड फ्लू को लेकर के घाट किनारे साइबेरियन पक्षियों को दाना खिलाने पर जिलाधिकारी ने रोक लगाया हुआ है. बावजूद इसके शिखर धवन का साइबेरियन पक्षियों को दाना खिलाते हुए फोटो वायरल हुआ था, जिसके बाद से वाराणसी के दशाश्वमेघ थाने में उस नाव का संचालन करने वाले नाविकों का चालान काटा गया.

नाव संचालन पर भी लगा प्रतिबंध 
वाराणसी प्रवास के दौरान शिखर धवन ने काल भैरव मंदिर में दर्शन के बाद गंगा आरती में भी सम्मिलित हुए थे. उन्‍होंने गंगा में नौकायन का भी आनंद लिया था. नौकायन के दौरान शिखर धवन ने साइबेरियन पक्षियों को दाना खिलाया. यह तस्वीर जब शिखर धवन ने इंस्टाग्राम पर पोस्ट की तो वह वायरल हो गई. वायरल होने के बाद जिलाधिकारी ने नाविकों के पर कार्रवाई के आदेश दिए. जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा के आदेश के बाद वाराणसी के दशाश्वमेध थाने में नाविक सोनू साहनी और नाव मालिक प्रदीप साहनी का धारा 188 के तहत चालान काटा गया है. इसके साथ ही अगले आदेश तक नाव संचालन पर रोक लगा दी गई है.
इस वजह से हुई कार्रवाई 


दशाश्वमेघ थाने के सर्किल ऑफिसर अवधेश कुमार पांडे ने बताया कि सभी नागरिकों के साथ बैठक कर उन्हें जिलाधिकारी द्वारा लगाए गए प्रतिबंध के बारे में समझाया गया था. बावजूद नौकायन के दौरान क्रिकेटर को नाविक ने प्रतिबंध के बारे में नहीं बताया. इसलिए नाविक और नाव मालिक का चालान काटा गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज