वाराणसी: कोविड मरीजों के तीमारदारों के लिए RSS ने बनाया 50 बेड का आश्रय स्थल

वाराणसी में आरएसएस ने शिशु मंदिर को बनाया तीमारदारों के लिए आश्रय स्थल

वाराणसी में आरएसएस ने शिशु मंदिर को बनाया तीमारदारों के लिए आश्रय स्थल

RSS Shelter House in Varanasi: आरएसएस ने लंका के महेश नगर स्थित चलने वाले शिशु मंदिर विद्यालय को आश्रय स्थल बना डाला है. इस आश्रय स्थल में 50 बेड लगाए गए हैं,

  • Share this:
वाराणसी. शिव नगरी वाराणसी (Varanasi) में कोविड से बिगड़े हालात को सुधारने की कोशिश लगातार जारी है. जिला प्रशासन के साथ ही स्वयं सेवी संस्था व व्यापारी अपनी-अपनी भूमिका निभाना शुरू कर दिए हैं. ऐसे में मंगलवार को एक और तस्वीर सामने आई है जो कोविड मरीजों (COVID-19 Patient) के तीमारदारों के लिए राहत देने वाली है. रास्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) ने तीमारदारों के लिए 50 बेड का अस्थाई आश्रय स्थल (Shelter House) बनाया है.

दरअसल, वाराणसी में स्थनीय मरीजों के साथ ही अन्य जिलों के मरीज भी यहां आ रहे हैं, जिनकी तादाद  बीएचयू कोविड हॉस्पिटल में ज्यादा है. ऐसे में मरीजों के साथ आने वाले तीमारदारों के लिए सबसे बड़ी समस्या उनके रहने और खाने की है, क्योंकि कोविड मरीज के सम्पर्क में होने के नाते उन्हें कहीं रुकने का स्थल नहीं मिल पा रहा है. ऐसे में उन्हें बीएचयू हॉस्पिटल के बाहर ही रात गुजारनी पड़ रही है.

शिशु मंदिर में बनाया आश्रय स्थल

इन तीमारदारों को ध्यान में रख कर संघ ने बड़ा कदम उठाया है. आरएसएस ने लंका के महेश नगर स्थित चलने वाले शिशु मंदिर विद्यालय को आश्रय स्थल बना डाला है. इस आश्रय स्थल में 50 बेड लगाए गए हैं, जिसमें कोविड मरीजों के तीमारदारों को रुकने, खाने और सोने की व्यवस्था की गई है. इसकी शुरुआत काशी प्रान्त के संग़ठन द्वारा की गई है. जिसमें संघ के सभी वलिंटयर को तीमारदारों के सेवा में लगाया जाएगा। इसके साथ ही संघ जल्द ही तीमारदारों के लिए अन्य स्थानो पर भी आश्रय स्थलों की संख्या और बढ़ाने के दिशा में कार्य कर रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज