प्रेगनेंट महिला की चीख सुन वाराणसी पुलिस ने की अपील, महिलाओं ने कराई सड़क पर डिलीवरी

UP: वाराणसी में सड़क पर महिलाओं ने साड़ी का घेरा बनाकर एक महिला की डिलीवरी कराई.

UP: वाराणसी में सड़क पर महिलाओं ने साड़ी का घेरा बनाकर एक महिला की डिलीवरी कराई.

Varanasi News: वाराणसी में रोडवेज पुलिस चौकी इंचार्ज रिजवान बेग ने देखा महिला दर्द से काफी चिल्ला रही थी. पुलिस ने एम्बुलेंस को कॉल किया और उसके आने का प्रतीक्षा करने लगी लेकिन महिला की स्थिति बिगड़ रही थी. ऐसे में पुलिस ने स्थानीय महिलाओं को आवाज देना शुरू किया.

  • Share this:
वाराणसी. कोरोना (COVID-19) आपदा के इस घड़ी में जब लोग अपनों का भी साथ छोड़ दे रहे हैं, ऐसे में कुछ ऐसे भी लोग हैं, जिनमें इंसानियत अभी बाकी है. कुछ ऐसी ही तस्वीर दिखी वाराणसी (Varanasi) में, जब प्रसव पीड़ा से एक महिला सड़क पर दर्द से कराह रही थी. वाराणसी पुलिस की अपील पर स्थानीय महिलाओं ने सड़क पर ही महिला का प्रसव करवा दिया. दर्द से कराह रही महिला को सड़क पर ही पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई. जच्चा-बच्चा दोनों सुरक्षित हैं.

ये तस्वीर है वाराणसी के थाना सिगरा क्षेत्र के कैंट माल गोदाम इलाके की. जहां सड़क किनारे महिलाओं ने साड़ियों का घेरा बनाकर एक महिला की डिलीवरी करवाई. जिस महिला को पुत्र की प्राप्ति हुई वो महिला इनकी किसी पहचान की भी नहीं है लेकिन इंसानियत ने आज इन महिलाओं को टेम्परेरी डॉक्टर जरूर बना दिया. दरअसल रोडवेज पुलिस चौकी इंचार्ज रिजवान बेग को जब सूचना मिली तो पुलिस मौके पर पहुंची. जहां महिला दर्द से काफी चिल्ला रही थी. पुलिस ने एम्बुलेंस को कॉल किया और उसके आने का प्रतीक्षा करने लगी लेकिन महिला की स्थिति बिगड़ रही थी. ऐसे में पुलिस ने स्थानीय महिलाओं को आवाज देना शुरू किया. उनसे इस महिला मदद करने की अपील की और तब महिलाओं में इंसानियत का धर्म निभाते हुए महिला की सड़क पर ही डिलीवरी करवाई.

महिला को डिलीवरी के बाद अस्पताल भर्ती कराया गया

इस दौर में जब इंसान इंसानों को छूने से डर रहा है, ऐसे में इन महिलाओं ने आगे आकर महिला को साड़ियों से ढककर उसकी डिलीवरी करवाई, जिसकी चर्चा पूरे क्षेत्र में हो रही है. पीड़ित महिला को डिलीवरी के बाद अस्पताल भर्ती कराया गया है. जिसके ठीक हो जाने के बाद उसके घर का पता पूछ पुलिस संपर्क करेगी. फिलहाल स्थानीय लोगों के अनुसार पीड़ित महोला मजदूरी करती है.
महिलाओं ने दिया इंसानियत का एक बड़ा संदेश 

इस तस्वीर से इन महिलाओं ने इंसानियत का एक बड़ा संदेश दिया है कि इस आपदा में हमें बचाव जरूर करना है लेकिन इंसानियत को भूलना नहीं है. अगर आज ये महिलाएं पुलिस की अपील से घरों के बाहर नहीं निकलती तो सड़क पर इंसानियत की मौत हो जाती. पुलिस का मानवीय चेहरा और महिलाओं की हिम्मत ने आज इंसानियत को मरने से बचा लिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज