...तो क्‍या कैलाश मानसरोवर को चीन के कब्‍जे से मुक्‍त कराने की है योजना? RSS नेता इंद्रेश कुमार ने कही यह बात
Varanasi News in Hindi

...तो क्‍या कैलाश मानसरोवर को चीन के कब्‍जे से मुक्‍त कराने की है योजना? RSS नेता इंद्रेश कुमार ने कही यह बात
आरएसएस के इन्द्रेश कुमार का बड़ा बयान

RSS नेता इन्द्रेश कुमार ने कहा कि पिछले दिनों अच्छे प्रयास से एक असंभव चीज को संभव होते लोगों ने देखा है. भविष्य में भी असंभव को संभव होते लोग देख सकते हैं.

  • Share this:
वाराणसी. आरएसएस (RSS) के वरिष्ठ नेता इंद्रेश कुमार (Indresh Kumar) ने इशारों-इशारों में बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि हो सकता है कि कल कैलाश मानसरोवर (Kailash Mansarovar) मुक्त हो जाए. आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार बुधवार को वाराणसी के पातालपुरी मठ में आयोजित विश्वशांति यज्ञ में शामिल होने पहुंचे थे. इस मौके पर जब उनसे विश्वनाथ मंदिर में प्राचीन मंदिर के कथित अवशेषों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि पिछले दिनों एक अच्छे प्रयास से एक असंभव चीज को संभव होते लोगों ने देखा है. भविष्य में भी असंभव को संभव होते लोग देख सकते हैं. इशारों इशारों में मीडिया से कहा कि काशी से आगे भी सोचिए और देखिए. हो सकता है कि कैलाश मानसरोवर मुक्त हो जाए.

इसके आगे उन्होंने पाकिस्तान का जिक्र किया. कहा कि 1947 में बना पाकिस्तान 1971 में टूटा. आगे भी पाकिस्तान टूटने की कगार पर है. बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत के मसले पर उन्होंने कहा कि नारी का सम्मान होना चाहिए. किसी भी नारी के साथ ऐसा बर्ताव ठीक नहीं है.

काशी और मथुरा को मुक्त कराने की उठ रही मांग



बता दें कि श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर में पिछले दिनों ज्ञानव्यापी मस्जिद के पास खुदाई के दौरान एक प्राचीन मंदिर के कथित अवशेष मिले थे, जिसके बाद पुरातत्व विभाग की टीम ने यहां पहुंचकर जांच की. साथ ही इसके कुछ अंश जांच के लिए टीम अपने साथ ले गई. उसके बाद ही श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर में ज्ञानव्यापी मस्जिद का मसला गरमा गया.
गौरतलब है कि सात सितंबर को प्रयागराज में हुई अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की बैठक में काशी और मथुरा को मुक्त करने का प्रस्ताव सर्वसम्मति से पास किया गया. बैठक में कशी विश्वनाथ मंदिर में खुदाई के दौरान मिले अवशेषों का जिक्र हुआ और कहा गया कि मुगलों के शासनकाल में जानबूझकर मंदिर की जगह मस्जिद बनाई गई. बैठक में मांग की गई की मुस्लिम समाज स्वेच्छा से दोनों जगह हिन्दुओं को सौंप दे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज