वाराणसी: विश्वकर्मा पूजा पर छुट्टी की मांग को लेकर सामूहिक मुंडन, सरकार पर लगाया ये आरोप
Varanasi News in Hindi

वाराणसी: विश्वकर्मा पूजा पर छुट्टी की मांग को लेकर सामूहिक मुंडन, सरकार पर लगाया ये आरोप
वाराणसी में विश्वकर्मा समाज ने करवाया सामूहिक मुंडन

ऑल इंडिया यूनाइटेड विश्वकर्मा शिल्पकार महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक कुमार विश्वकर्मा ने कहा कि हिंदुत्व और राष्ट्रवाद की बात करने वाली सरकार जातीय आधार पर देवी देवताओं को बांटकर करोड़ों श्रद्धालुओं की आस्था के साथ भेदभाव और आघात कर रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 14, 2020, 3:27 PM IST
  • Share this:
वाराणसी. ऑल इंडिया यूनाइटेड विश्वकर्मा शिल्पकार महासभा (All India United Vishwkarma Shilpkar Mahasabha) के तत्वावधान में विश्वकर्मा पूजा (Vishwkarma Puja) पर अवकाश की मांग को लेकर लंबे समय से चलाए जा रहे आंदोलन के तहत सरकार की हठधर्मिता और भेदभाव के खिलाफ समाज के लोगों ने राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक कुमार विश्वकर्मा के नेतृत्व में सोमवार को काशी के राजघाट स्थित शक्ति घाट पर सामूहिक मुंडन करवा कर विरोध जताया. इतना ही नहीं विश्वकर्मा पूजा पर्व को राजकीय सार्वजनिक अवकाश घोषित होने तक संघर्ष जारी रखने का संकल्प लिया.

लगाया ये आरोप

ऑल इंडिया यूनाइटेड विश्वकर्मा शिल्पकार महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक कुमार विश्वकर्मा ने कहा कि हिंदुत्व और राष्ट्रवाद की बात करने वाली सरकार जातीय आधार पर देवी देवताओं को बांटकर करोड़ों श्रद्धालुओं की आस्था के साथ भेदभाव और आघात कर रही है. सरकार विश्वकर्मा पूजा पर्व की पौराणिक परंपरा संस्कृति और उसकी पहचान खत्म करना चाहती है. देव शिल्पी विश्वकर्मा देशभर में फैले करोड़ों विश्वकर्मा वंशीयो के स्वाभिमान, गौरव और सामाजिक पहचान हैं. उन्होंने कहा बीजेपी सरकार द्वारा विश्वकर्मा पूजा पर्व का अवकाश रद्द किया जाना गंभीर राजनैतिक षडयंत्र है.



आंदोलन जारी रखने का संकल्प
अशोक कुमार विश्वकर्मा ने कहा कि आज समाज के लोग देश भर में अवकाश को लेकर आन्दोलनरत हैं. लेकिन बीजेपी सरकार देवी-देवताओं को बांटकर करोड़ों श्रद्धालुओं की आस्था और उनकी सांस्कृतिक पहचान को मिटाने की साजिश रच रही है. सरकार की इसी हठधर्मिता के खिलाफ आज मुंडन करवाकर अपना विरोध जताया है. साथ ही समाज के लोगों ने यह भी संकल्प लिया है कि जब तक विश्वकर्मा पूजा के अवसर पर अवकाश घोषित नहीं होता, तब तक यह आंदोलन जारी रहेगा. उन्होंने कहा कि 17 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भी जन्मदिन है. इस दिन एक साजिश के तहत उनके जन्मदिन को तो बीजेपी महापुरुष के तौर पर दिखाना चाह रही है, लेकिन भगवान विश्वकर्मा के लिए कुछ नहीं किया जा रहा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज