पूर्वी भारत का गेटवे बनेगा वाराणसी, चौतरफा हो रहा विकास : मोदी

मोदी ने कहा कि बीएचयू को 21वीं सदी का महत्‍वपूर्ण नॉलेज सेंटर बनाने के लिए कई प्रोजेक्‍ट में काम चल रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2018, 2:31 PM IST
  • Share this:
वाराणसी दौरे के दूसरे दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शहर में 557 करोड़ रुपये के प्रोजेक्‍ट का लोकार्पण किया. बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के एंफीथियेटर से जनता को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि वह शहर को पूर्वी भारत का गेटवे बना रहे हैं. इसके लिए वह बनारस की पहचान को बदलना नहीं चाहते. हमारी सरकार चाहती है कि नई तकनीक और बनारस की संस्‍कृति के बीच समावेश बैठाकर वाराणसी का विकास किया जाए. (पर्यटन से परिवर्तन और नई काशी का सपनाः पीएम मोदी के भाषण की पांच बड़ी बातें)



इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बाबा विश्‍वनाथ और मां गंगा का आशीर्वाद लिया. उन्‍होंने संबोधन से पहले पंडित मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा पर फूल चढ़ाए. संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री ने पिछली सरकारों पर जमकर हमला बोला.



मोदी ने कहा कि बीएचयू को 21वीं सदी का महत्‍वपूर्ण नॉलेज सेंटर बनाने के लिए कई प्रोजेक्‍ट पर काम चल रहा है. चार साल पहले और अब में काशी के लोग बदलाव महसूस करने लगे हैं. काशी में बदलाव नजर आ रहा है.


 





प्रधानमंत्री मोदी के वाराणसी दौरे से जुड़ी पल-पल की खबर के लिए यहां क्‍लिक करें



मोदी ने कहा कि जब वह पहले काशी आते थे तो केवल तारों का जाल ही दिखाई देता था लेकिन अब शहर के एक बड़े हिस्‍से से तार गायब हो गए हैं. पहले शहर तार के जाल में उलझा हुआ था. हमारी सरकार ने इस शहर को तार से छुटकारा दिलाने का प्रण किया है. वाराणसी में जिस तरह से चौतरफा अव्‍यवस्‍था थी उसी तरह में अब हमारी सरकार चौतरफा विकास कर रही है. काशी को वर्ल्‍ड क्‍लास इंफ्रास्ट्रक्चर देने की कोशिश की जा रही है. इसमें मेडिकल, शिक्षा, सड़क और सफाई से जुड़ी हर सुविधा देने की कोशिश की जा रही है. काशी को विशेष दर्जा देने के लिए हमारी सरकार रिंगरोड पर तेजी से काम कर रही है. उन्‍होंने कहा कि पहले की सरकार इस फाइल को रोकने का काम कर रही थी लेकिन हमारी सरकार इसे तेजी से आगे बढ़ा रही है. इससे शहर में ट्रकों को आने से रोका जा सकेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज